RajasthanShiksha.com is a News portal for Society, Schools, Students and Teachers. Every update from Education Department of Rajasthan. It includes Government and Private Schooling system as well.
RajasthanShiksha.com is a News portal for Society, Schools, Students and Teachers. Every update from Education Department of Rajasthan. It includes Government and Private Schooling system as well.

राजस्थान प्रारंभिक शिक्षा परिषद् ने राज्य के सभी जिलों की स्कूलों में श्रेणीवार, विषयवार, लेवलवार शिक्षकों के पद निर्धारित कर दिए है

प्रारम्भिक शिक्षा में स्टाफिंग पैटर्न का दायरा पूरा जिला

जिला स्तर पर होगी काउंसलिंग

राज्य में माध्यमिक शिक्षा के बाद अब प्रारंभिक शिक्षा में भी स्टाफिंग पैटर्न के अनुसार अधिशेष शिक्षकों का पदस्थापन किया जाएगा। इसका दायरा ब्लॉक न रखकर पूरा जिला रखा गया है। यानि अधिशेष शिक्षक को जिले के जिस भी विद्यालय में रिक्त पद होंगे भेजे जाएंगे। इस बहुप्रतिक्षित प्रक्रिया की काउंसलिंग 8 जुलाई को शुरू होगी और 13 जुलाई तक चलेगी। प्रारम्भिक शिक्षा उप सचिव बीआर चौधरी ने शुक्रवार को काउंसलिंग कार्यक्रम जारी किया।

प्रभावित होंगे 70 हजार

प्रारम्भिक शिक्षा में स्टाफिंग पैटर्न से प्रदेश के 70 हजार शिक्षक इधर-उधर होंगे। इनमें 50 हजार शिक्षक प्रारम्भिक शिक्षा पेटर्न से आएंगे जबकि 20 हजार शिक्षक हाल ही में माध्यमिक से प्रारम्भिक में भेजे गए शिक्षक है। इन शिक्षकों को अभी जिला शिक्षा अधिकारी प्रारम्भिक कार्यालयों में पदस्थापन की प्रतिक्षा में रखा हुआ है।

27 से शुरू होगा स्वीकृतियों का दौर

काउंसलिंग से पहले 27 जून को सबंधित शिक्षा अधिकारी अपने अधीनस्थ जिलों में स्टाफिंग पैटर्न के अनुसार प्राथमिक व उच्च प्राथमिक स्कूलों में स्वीकृत पदों की स्वीकृति जारी करेंगे। एक जुलाई को जिला शिक्षा अधिकारी अपने जिले में समायोजित होने वाले शिक्षकों, प्रबोधको्रं पैरा टीचर, शिक्षाकर्मियों व अन्य संविदा कर्मियों की सूची का प्रकाशन तथा रिक्त पदों की सूचना जारी करेंगे।

तो सरकार करेगी अनुमोदन

जानकार सूत्रों के अनुसार प्रारम्भिक शिक्षा पंचायतराज के अधीन होने के चलते स्टाफिंग पैटर्न में आने वाले शिक्षकों के पदस्थापन की सूची का जिला परिषद की स्थाई समिति से अनुमोदन कराना जरूरी होगा। प्रदेश में कई जिला परिषदों में कांग्रेस का बहुमत है। एेसे में वहां सूचियों के अनुमोदन में सरकार को दिक्कत आ सकती है। इस परेशानी से बचने के लिए सरकार ने जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) को विशेष अधिकार देकर समाधान निकाला है। सीईओ सूची को अनुमोदन के लिए राज्य सरकार के पास भेजेंगे।

विरोध की चेतावनी

शिक्षक संगठन प्रारम्भिक शिक्षा में स्टाफिंग पैटर्न की काउंसलिंग जिले की बजाए ब्लॉक स्तर पर करने की मांग कर रहे थे। यानि जो शिक्षक जिस ब्लॉक में है उसी में पदस्थापित किया जाए। अब उनका पदस्थापन ब्लॉक से बाहर जिले में कही भी किया जा सकेगा। राजस्थान प्रारम्भिक एवं माध्यमिक शिक्षक संघ के प्रदेश उपाध्यक्ष विपिन प्रकाश शर्मा के अनुसार पदस्थापन का दायरा जिला स्तर करने से बड़ी संख्या में शिक्षक प्रभावित होंगे। कई जिले दो सौ किलोमीटर से अधिक दायरे में फैले हुए हैं। एेसे में उनका संगठन इस प्रक्रिया का पूरजोर विरोध करेगा।

काउंसलिंग का कार्यक्रम

8 जुलाई: .प्रबोधक, पैरा टीचर, शिक्षाकर्मी व अन्य संविदा कर्मियों की काउंसलिंग

9-10 जुलाई . लेवल प्रथम में अधिशेष शिक्षकों व माध्यमिक से सौंपे गए शारीरिक शिक्षकों की काउंसलिंग।

11-12 जुलाई . लेवल द्वितीय के अधिशेष व समायोजित शिक्षकों की विषयवार काउंसलिंग

13 जुलाई को काउंसलिंग में अनुपस्थित रहने वाले सभी शिक्षकों की काउंसलिंग होगी।

15 जुलाई को पदस्थापन व समायोजन आदेश संबंधित जिला परिषद से जारी किए जाएंगे।

राजस्थान में कुल 70000 शिक्षक होंगे जुलाई माह में इधर उधर

– जिनमें 20000 प्रबोधक पैराटीचर शिक्षाकर्मी संविदाकर्मी शामिल

– 50000 लेवल 1 और लेवल 2 के शिक्षक शामिल

– 21 से 27 जून 16 तक विभाग द्वारा काउंसलिंग पूर्व तैयारी की जाएगी। इन 6 दिनों के समयकाल में रिक्त और स्विकृत पदों की पुन: गणना विषयवार रिक्तिया अधिशेष शिक्षको की संख्या आदि सूचियां तैयार की जाएगी।

– एक जुलाई को इन रिक्त पदों स्विकृत पदों के साथ साथ अधिशेष शिक्षको की समस्त सूचियाँ चस्पा करना प्रस्तावित जो विभाग वेबसाइट पर भी इसी दिन अपलोड की जायेगी।

– 8 जुलाई को प्रबोधक पैराटीचर शिक्षाकर्मी की होगी काउंसलिंग।

– 9 एवम् 10 जुलाई इन दो दिनों के अंतराल के समय के बीच एक दिन लेवल 1 और दूसरे दिन शारीरिक शिक्षको की काउंसलिंग होगी। इन दोनों में से पहले किसको लिया जाएगा। यह सुचना काउंसलिंग से कुछ दिन पहले निश्चित किया जाएगा।

– 11 एवम् 12 जुलाई को केवल लेवल2 विषयवार की काउंसलिंग होंगी। कौनसे विषय पहले होंगे उनकी जानकारी तय समय से कुछ दिन पहले जारी की जाएगी।

– 13 जुलाई को इन पूर्व के दिनों में अनुपस्थित रहे शिक्षको को एक मौका दिया जाएगा लेकिन इन्से पहले पोस्टे भर जाने के कारण गृह ब्लॉक मिलना मुश्किल होगा इसलिए कोई भी अनुपस्थित न रहे इसी में उनका हित सन्निहित।

– 15 जुलाई को इन सभी के पदस्थापन आदेश जारी होंगे। ध्यान रहे काउंसलिंग में आपको आदेश नही दिए जायेंगे ये आदेश आपको वेब्साइट से डाउनलोड करने होंगे।

– सभी काउंसलिंग में विधवा परित्यक्ता महिलाओ एव दिव्यांग पुरुषों को पहले लिया जाएगा। इसके बाद बचे पुरुष शिक्षको को वरीयता क्रम से लिया जाएगा अर्थात जिनकी पोस्टिंग जितनी पुरानी वो उतना पहले होगा।

– नामंकन का आधार विद्यालय के सितम्बर 2015 होगा।

– संस्थाप्रधान के विषय के आधार पर दूसरे विषय निर्धारित होंगे।

– यूपीएस में 120 नामंकन पर शारीरिक शिक्षक प्रबोधक पैराटीचर एवम शिक्षाकर्मी देय होंगे।

– 105 के नामंकन होने पर लेवल 2 के 3 अध्यापक और लेवल 1 के 2 अध्यापक अर्थात 5 होंगे।

– 105 से प्रति 35 पर 1 अतिरिक्त शिक्षक देय होगा।

– काउंसलिंग का कार्य जिला लेवल पर ही किया जायेगा ब्लॉक स्तर पर नही होगा।

– काउंसलिंग में पदस्थापन अब जिले के किसी भी स्कुल में किया जाना प्रस्तावित। आपको अपने ब्लॉक से दूर भी भेजा जा सकता है।

– एचएम को 6 से 8 में पढ़ाना अनिवार्य।

– जहा सेकिंड ग्रेड नहीं होगा वहा सामाजिक विषय वाला अध्यापक ही होगा चाहे वो बाकि अध्यापको से कनिष्ठ हो।

– सेटअप प्रक्रिया हर दो वर्ष बाद इसी तरह आयोजित होगी इसी प्रारूप में।

– इस एक माह में हाल ही में मर्ज हुए चे नीचे के अधिशेष शिक्षको की काउंसलिंग अभी नहीं होगी।

– सेवानिवृति के करीब वाले शिक्षको को राहत दी जाएगी।

– काउंसलिंग का आधार शाला दर्शन पर उपलब्ध आपके द्वरा ही पूर्व में भरा गया रिकॉर्ड होगा। जिसमे आपकी विसंगतियो को परिवेदना मांग कर 13 जून तक संशोधन भी किया जा चूका है।

– शाला दर्शन में उपलब्ध आपके विषय के आधार पर लेवल 2 के विषयो का निर्धारण होगा।

– विद्यालय में संस्थाप्रधान और अन्य अध्यापक का विषय एक ही होने पर अद्यापक हटेगा।

– अन्य मामलो में वरिष्ठ जो पहले नियुक्त हुआ है वो हटेगा कनिष्ठ नहीं।

– कॉमर्स वाणिज्य वाले एवम् जब शिक्षको को लेवल एक माना जाएगा।

– ये सभी सूचनाएं आदेशो पर आधारित है फि र भी विभाग के निर्देश एवम् आदेश ही मान्य।

स्टाफिंग पैटर्न:- परित्यक्ता, दिव्यांग शिक्षक यथास्थान पर

माध्यमिक शिक्षा में हुए स्टाफिंग पैटर्न के तहत प्रारम्भिक शिक्षा से माध्यमिक शिक्षा में आई विधवा, परित्यक्ता, दिव्यांग और 30 नवम्बर 2016 तक सेवानिवृत होने वाले शिक्षक व शिक्षिकाओं को वापस यथावत स्थान पर भेज दिया गया है। जिला शिक्षा अधिकारी माध्यमिक हेमेन्द्र उपाध्याय ने बताया कि अभी हाल ही में हुई काउंसलिंग में प्रारंभिक शिक्षा के जिन दिव्यांग, विधवा, परित्यक्ताओं व 30 नवम्बर 2016 तक सेवानिवृत होने वाले शिक्षकों का पदस्थापन दूसरी जगह कर दिया गया था ऐसे 27 शिक्षकों के यथावत के आदेश जारी कर दिए गए हैं। इनमे 7 दिव्यांग, 12 विधवा-परित्यक्ताएं व 8 सेवानिवृत होने वाले शिक्षक-शिक्षिकाएं शामिल हैं। जिशिअ ने बताया कि संस्था प्रधान 21 जून तक अनिवार्य रूप से ऐसे शिक्षकों को कार्य मुक्त कर दें, जो शिक्षक स्कूल नहीं आए हैं। जिला शिक्षा अधिकारी माध्यमिक ने बताया कि काउंसलिंग से व्यथित जिले के 332 शिक्षको की परिवेदनाए समिति को प्राप्त हुई है जिनका निस्तारण एक-दो दिन में कर दिया जाएगा। कमेटी स्तर पर निर्णित होने वाली परिवेदनाओं का निस्तारण अंतिम चरण में है तथा निदेशालय स्तर व राज्य स्तर की परिवेदनाए राज्य सरकार को भेजी जाएंगी। परिवेदनाओ के निस्तारण के स्पीकिंग आदेश विभाग की वेब साइट पर अपलोड किए जाएंगे।

SHARE