सवाई माधोपुर। सरकारी स्कूलों में बनी आईसीटी लैब (ICT Lab) का पूरा उपयोग सुनिश्चित करने के लिए स्टूडेंट्स को हर विषय कंप्यूटर्स के माध्यम से पढ़ाया जाएगा। रमसा की ओर से जारी निर्देशों के अनुसार सप्ताह में हर विषय का कम से कम एक पीरियड आईसीटी लैब में ही लगाया जाएगा। इसके लिए अलग से रजिस्टर लगाया जाएगा, जिसमें आईसीटी लैब में कंप्यूटर के माध्यम से पढ़ाए जाने वाले विषय और तारीख आदि की डिटेल संस्था प्रधान से सत्यापित करवाकर रमसा कार्यालय को भिजवाना जरूरी होगा। आईसीटी लैब में क्लास के दौरान स्टूडेंट्स को एजुकेशनल वीडियो के माध्यम से सब्जेक्ट की जानकारी दी जाएगी। इसके अलावा सेटेलाइट प्रसारण के माध्यम स्टूडेंट्स को विषय विशेषज्ञों से पढ़ने का मौका भी मिलेगा। गौरतलब है कि कई स्कूलों में गणित व विज्ञान विषय पहले भी कंप्यूटर्स के माध्यम से पढ़ाए जा रहे हैं।

हो सकेगा लैब का उपयोग

स्कूलों में आईसीटी लैब का उपयोग बच्चों को कंप्यूटर सिखाने तक सीमित माना गया, लेकिन इनका मुख्य उद्देश्य शिक्षण कार्य में कंप्यूटर टेक्नोलॉजी का उपयोग ही था। इसे प्राइवेट स्कूलों की स्मार्ट क्लासेज को टक्कर देने के लिए शुरू किया गया था। अब लेब का वास्तविक उपयोग हो सकेगा।

रखा जाएगा पूरा रिकॉर्ड

विभिन्न विषयों को पढ़ाने के लिए आईसीटी लैब का उपयोग सुनिश्चित करने के लिए अब स्कूल में अटेंडेंस रजिस्टर की तरह की पूरा रिकॉर्ड रखा जाएगा। सप्ताह में एक दिन हर विषय का एक पीरियड आईसीटी लैब में होगा। विषय अध्यापक इसका रिकॉर्ड रखकर संस्था प्रधान से सत्यापित करवाएगा।

उपयोगी होगा शिक्षण

आईसीटी लेब के माध्यम से स्कूलों कें बालकों को शिक्षण करवाने के लिए आदेश जारी कर दिए गए हैं। इसके माध्मय से शिक्षण रौचक एवं उपयोगी होगी। इससे छात्रों को बहुत अधिक लाभ मिलेगा।

-मनमोहन दाधीच, एडीपीसी, रमसा

SHARE