CBSE : Central Board of Secondary Education

CBSE : कक्षा 9वीं 11 वीं के ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन शुरू

केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) से संबद्ध स्कूलों की कक्षा 9 11 में अध्ययनरत विद्यार्थियों के ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया शुरू हो गई। अंतिम तिथि बिना विलंब शुल्क के 31 अक्टूबर 2017 है। सीबीएसई ने इस संबंध में विस्तृत दिशा-निर्देश जारी किए हैं।

सीबीएसई द्वारा जारी दिशा-निर्देशों के अनुसार प्रति विद्यार्थी 150 रुपए रजिस्ट्रेशन शुल्क तय किया गया है। विदेशी छात्रों के लिए कक्षा 9वीं के रजिस्ट्रेशन के लिए 250 रुपए और कक्षा 11वीं के लिए 300 रुपए शुल्क तय किया गया है। स्कूल प्रति छात्र 150 रुपए विलम्ब शुल्क के साथ 26 से 31 अक्टूबर, 650 रुपए शुल्क के साथ 1 से 7 नवम्बर, 1150 रुपए शुल्क से 8 से 14 नवम्बर, 2150 रुपए शुल्क के साथ 15 से 17 नवम्बर और 5150 रुपए शुल्क के साथ 22 से 28 नवम्बर तक पंजीयन करा सकेंगे।

ऑनलाइन सिस्टम में उपलब्ध आधार नंबर अनिवार्य है। जहां कहीं आधार नंबर उपलब्ध नहीं है, आधार नामांकन संख्या प्रदान की जा सकती है। सीबीएसई से संबद्ध स्कूलों की कक्षा 9 वीं कक्षा 11वीं के नियमित विद्यार्थियों के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन सीबीएसई की वेबसाइट www.cbse.nic.in पर शुरू कर दिया गया है। नए संबद्ध स्कूलों को पासवर्ड प्राप्त करने के लिए सीबीएसई के संबंधित क्षेत्रीय कार्यालय से संपर्क करना होगा।

आधार कार्ड होगा जरूरी

इस बार सीबीएसई ने पंजीयन के लिए स्टूडेंट्स का आधार कार्ड भी जरूरी किया है। स्कूल को ऑनलाइन फार्म भरते वक्त आधार नम्बर भी देना होगा। सीबीएसई की दसवीं की परीक्षा देने वाले विद्यार्थियों का नवीं में पंजीयन किया जाता है। इसके तहत नाम, माता-पिता, जन्म तिथि, स्कूल, विषय और अन्य सूचनाएं शामिल होती हैं। वर्ष 2019 में दसवीं की परीक्षा देने वाले विद्यार्थी इस बार नवीं कक्षा में अध्ययरत हैं। इन विद्यार्थियों के पंजीयन प्रारंभ हो गए हैं। इनमें अजमेर सहित नई दिल्ली, चेन्नई, तिरुवनंतपुरम, पंचकुला, इलाहाबाद, देहरादून, पटना, भुवनेश्वर, गुवाहाटी रीजन के विद्यार्थी शामिल होंगे।

बिना रजिस्ट्रेशन की परीक्षा मुश्किल

सीबीएसई हर साल नवीं और ग्यारहवीं कक्षा के विद्यार्थियों के रजिस्ट्रेशन करता है। बिना रजिस्ट्रेशन के ये स्टूडेंट्स दसवीं और बारहवीं कक्षा की परीक्षाएं नहीं दे सकते हैं। रजिस्ट्रेशन की शुरुआत वर्ष 2006-07 में तत्कालीन चेयरमेन अशोक गांगुली के समय हुई थी। रजिस्ट्रेशन के आधार पर ही विद्यार्थियों के दसवीं-बारहवीं कक्षा में सभी रिकॉर्ड बनते हैं। इनमें मार्कशीट और पासिंग सर्टिफिकेट शामिल हैं।

अगले साल दसवीं की बोर्ड परीक्षा

वर्ष 2018 में दसवीं के सभी विद्यार्थियों की परीक्षा सीबीएसई ही लेगा। वर्ष 2009-10 से सतत एवं समग्र मूल्यांकन के तहत दसवीं के विद्यार्थी बोर्ड और स्कूल पैटर्न पर परीक्षाएं दे रहे थे। इस साल इस पैटर्न पर दसवीं की अंतिम बार परीक्षा हुई है। सीसीई पैटर्न पर कई स्कूल की आपत्ति के बाद केंद्र की एनडीए सरकार ने दसवीं की बोर्ड परीक्षा कराने का फैसला किया है। अगले साल बोर्ड ही दसवीं की परीक्षाएं लेगा। विद्यार्थियों को मार्कशीट में ग्रेडिंग के साथ-साथ अंक भी दिए जाएंगे।

SHARE