CTET परीक्षा 2018 constable recruitment Exam alerts

पांचवीं बोर्ड परीक्षा में पिछले साल के मुकाबले एक-तिहाई ही केन्द्र-परीक्षार्थियों के लिए दूरी बनेगी बैरन

बाड़मेर। जिले में अप्रेल की गर्मी के बीच मासूमों को इस बार कई किमी पैदल चल कर पांचवीं बोर्ड परीक्षा देने जाना होगा। सरकार ने इस बार प्राथमिक अधिगम स्तर मूल्यांकन 2018 (पांचवीं बोर्ड) के परीक्षा केन्द्रों की संख्या कम कर दी है। जिसके चलते कम से कम चार-पांच किमी पैदल चलने के बाद बच्चे (Children) परीक्षा केन्द्र पहुंचेंगे। इतना ही नहीं, एक-दो पंचायत समिति में तो मासूमों की चिंता किए बिना अपना ध्यान रखते हुए शिक्षा विभागीय अधिकारियों ने एक ग्राम पंचायत में एक केन्द्र ही स्वीकृत करवाया है, जिसके चलते मासूमों को और ज्यादा पैदल चलना होगा। गौरतलब है कि पिछले साल जिले में पांचवीं बोर्ड के 2193 केन्द्र थे, इस बार मात्र 906 ही रह गए हैं। 5 अप्रेल से प्रस्तावित परीक्षा अभी से परीक्षार्थियों के लिए चिंता का विषय बनी हुई है। परीक्षा गर्मी के दौर में होगी और समय सुबह दस से दोपहर साढ़े बारह बजे तक होगा।

बदले नियमों से बढ़ी परेशानी

पिछले साल के नियमों में इस बार संशोधन किया गया है। हर ग्राम पंचायत मुख्यालय पर एक केन्द्र और विद्यालयों की दूरी ज्यादा होने पर अधिकतम दो केन्द्र ही हो सकते हैं। जिले में कई ग्राम पंचायतें एेसी हैं जो पन्द्रह वर्ग किमी तक फैली हुई है। अब दो केन्द्र होने पर मासूमों को पांच-सात किमी चल कर आना होगा।

केन्द्र कम कर दिए

नियमों की आड़ में कई पंचायत समितियों में एक ग्राम पंचायत में एक केन्द्र ही स्वीकृत करवाया गया है। धनाऊ, कल्याणपुर में कई ग्राम पंचायतों में एक-एक केन्द्र है, जबकि यहां दो केन्द्र होते तो परीक्षार्थियों को कम पैदल
चलना होता।

नियमों में संसोधन

प्राथमिक अधिगम स्तर मूल्यांकन 2018 के लिए इस बार जिले में 906 केन्द्र ही स्वीकृत हैं। पिछले साल 2193 केन्द्र थे। नियम संशोधन के चलते एेसा हुआ है।

– डॉ.मांगीलाल चौधरी, जिला प्रभारी, प्राथमिक अधिगम स्तर मूल्यांकन

SHARE