shivira shiksha vibhag rajasthan shiksha.rajasthan.gov.in

बीकानेर। एक तरफ 10वीं व 12वीं कक्षाओं की बोर्ड की परीक्षाओं की तैयारी चल रही है, वहीं शिक्षकों, विद्यालयों और छात्रों में खेलकूद का तनाव तारी है। बोर्ड परीक्षाएं अगले महीने शुरू होने वाली हैं, वहीं शिक्षा विभाग खेलकूद प्रतियोगिताएं करवाने की तैयारियों में जुटा है।

विभाग इसी माह राष्ट्रीय माध्यमिक शिक्षा अभियान के तहत शारदे बालिका छात्रावास में रहकर पढ़ रही बालिकाओं की प्रदेश में एक साथ जिलास्तर पर खेलकूद प्रतियोगिताएं आयोजित कर रहा है।

इस प्रतियोगिता में प्रदेश के करीब 182 शारदे बालिका छात्रावासों की साढ़े तीन हजार से अधिक छात्राएं भाग लेंगी। प्रदेश में यह प्रतियोगिता पहली बार होगी। विभाग का मानना है कि इस इस प्रतियोगिता के माध्यम से बालिकाओं में व्यक्तित्व, आत्मविश्वास एवं खेल भावना विकसित होगी।

परीक्षा के समय प्रतियोगिता करवाने से बालिकाओं की बोर्ड परीक्षा की तैयारी बाधित होगी और परिणाम पर भी विपरीत असर पड़ सकता है। शिक्षा विभाग खेलकूद प्रतियोगिता के लिए मिली राशि को खर्च कर अपने सभी आंकड़े पेश करने की फिराक में है। विभाग सरकार की ओर से जारी गाइडलाइन को पूरा करने में कोई कसर नहीं छोड़ रहा है।

खेलकूद प्रतिस्‍पर्द्धाएं

कक्षा 9 से 12 तक की बालिकाएं कबड्डी व एथलेटिक्स प्रतियोगिताओं में भाग लेंगी। एथलेटिक्स में 100 मीटर, 200 मीटर, 400 मीटर व लम्बीकूद की स्पर्द्धाएं होंगी। प्रतियोगिता में विजेता टीमों को दस हजार रुपए व ट्रॉफी के साथ मेडल भी दिया जाएगा। इनमें प्रथम, द्वितीय व तृतीय स्थान की टीमें शामिल हैं।

जिले की 220 छात्राएं

बीकानेर जिले में श्रीडूंगरगढ़, पूगल, कक्कू, बज्जू, लूणकरणसर में शारदे बालिका छात्रावास हैं। इनमें रह रही 220 छात्राएं प्रतियोगिता में भाग लेंगी। इन्हें रोडवेज बस में यात्रा पर रियायती दी जाएगी।

मात्र 50 हजार का बजट

विभाग के अधिकारियों की मानें तो इस प्रतियोगिता के लिए बीकानेर जिले को 50 हजार का बजट मिला है। दो दिन तक चलने वाली इस प्रतियोगिता में बालिकाओं के रहने, खाने-पीने आदि व्यवस्था शामिल है। अधिकारियों का कहना है कि इस बजट में यह सब करना मुश्किल है। प्रतियोगिता करवाने का भी सही समय नहीं है।


पूरे प्रदेश में एक साथ जिलास्तर पर खेलकूद प्रतियोगिताएं इसी माह होंगी। जगह व तारीख देखकर प्रतियोगिता करवाएंगे। इसके लिए बीकानेर जिले को पचास हजार की राशि मिली है।

हेतराम सारण,
अतिरिक्त जिला परियोजना समन्वयक,
रमसा

SHARE