shaala-darpan
shaala-darpan

बांसवाड़ा। स्कूलों में बालिका उत्पीड़न के मामलों पर सख्त निगरानी के लिए अब शिक्षा विभाग ने कार्यवाही शुरू कर दी है। इसी क्रम में विभाग में तमाम प्रकार की सूचनाओं के आदान-प्रदान के लिए बनाए गए सरकारी पोर्टल शाला दर्पण पर बालिका उत्पीड़न और बाल यौनाचार निदान का नया मॉड्यूल शुरू कर दिया गया है। इसमें जाने-अनजाने होने वाली बालिका उत्पीड़न और बाल यौनाचार संबंधी गतिविधियों का ब्यौरा और उसके लिए किए समाधान का ब्यौरा देना संस्था प्रधान के लिए अनिवार्य होगा। हाल के कुछ वर्षों में स्कूलों में छात्राओं के साथ छेड़छाड़ और शिक्षकों की ओर से दुर्व्यवहार करने की घटनाएं बढ़ी है। जिले की स्कूलों में भी ऐसे मामले हुए हैं।

छात्राओं ने एसडीएम से कहा-दूध तो दूर, चाय भी नहीं मिलती

कुशलगढ़। उपखंड अधिकारी जयवीरसिंह कालेर ने बुधवार को ग्राम पंचायत बस्सी के सरकारी कार्यालयों का निरीक्षण किया। इसमें गड़बड़ी मिली। बस्सी के जनजाति कन्या छात्रावास में एसडीएम को छात्राओं ने बताया कि वार्डन रेखा हड़ात दिन में 1-2 घंटे के लिए ही आती हैं, छात्राओं को दूध तो दूर चाय भी समय पर नहीं मिलती। टूथब्रश, नहाने और कपड़े धोने का साबुन भी नहीं मिलता। पानी की मोटर खराब होने के कारण हैंडपंप से पानी भरकर लाना पड़ता है। तीन माह से कमरों और शौचालयों की साफ सफाई तक नहीं करवाई। बिस्तर पर बिछाई जाने वाली चद्दरों को भी छात्राएं स्वयं ही धोती है। रविवार को स्पेशल डाइट भी नहीं दी जाती। एसडीएम कालेर ने वार्डन से स्टॉक और वितरण रजिस्टर मांगा तो घर होने की जानकारी दी। वार्डन के खिलाफ एसडीएम ने कार्रवाई करने की बात कही। राउमावि बस्सी में निरीक्षण के दौरान मिड-डे-मील में गड़बड़ी और अलख प्रोफाइल अधूरी पाई गई। आंगनबाड़ी केंद्र बस्सी में ही पोषाहार नहीं देने का मामला भी उजागर हुआ। अटल सेवा केंद्र में ई मित्र संचालक कलसिंग नहीं मिला।

पर्याप्त बजट के बावजूद शिक्षकों को नहीं मिल रहा समय पर वेतन

सज्जनगढ। ब्लॉक प्रारंभिक शिक्षा सज्जनगढ़ के शिक्षकों को वेतन नहीं मिलने से आक्रोश है। शिक्षकों ने बताया कि पर्याप्त बजट होने के बावजूद उच्च प्राथमिक और प्राथमिक स्कूलों में कार्यरत शिक्षकों को समय पर वेतन नहीं मिल रहा है। वेतन देने का अधिकार पीईईओ को दिया है। शिक्षक संघ राष्ट्रीय, प्रगतिशील और प्रबोधक संघ ने समय पर वेतन देने की मांग की है। साथ ही शिक्षकों का फिक्सेशन करने को भी कहा है।

 

SHARE