shivira shiksha vibhag rajasthan shiksha.rajasthan.gov.in

डीडी कार्यालय में किया हंगामा

उदयपुर। शिक्षा विभाग से हाल ही में ग्रेड थर्ड से ग्रेड सेकंड पद पर प्रमोशन को लेकर जारी पदोन्नति सूची में जूनियर शिक्षकों को प्रमोशन दे दिया गया जबकि इनसे पहले ज्वाइनिंग वाले शिक्षक वंचित हो गए। मामले को लेकर मधुबन स्थित माध्यमिक शिक्षा उपनिदेशक कार्यालय में सोमवार को हंगामा हुआ। डीडी कार्यालय में डीपीसी का काम देख रहे मांगीलाल मेघवाल से शिक्षक उलझ गए। गुस्साए शिक्षकों और मांगीलाल के बीच तीखी बहस हुई। शिक्षकों ने पूछा कि आपत्ति देने के बावजूद उनके नाम क्यों नहीं जोड़े गएω इस दौरान शिक्षकों ने सहायक निदेशक सुरेन्द्र सिंह राव को इसकी शिकायत भी की। उदयपुर मंडल में कुल 1053 ग्रेड थर्ड शिक्षकों को ग्रेड सेकंड के पद पर पदोन्नत किया गया है। इसमें 679 टीएसपी और 374 नॉन टीएसपी के हैं।

वंचित शिक्षकों के नहीं जुड़े नाम, सहायक निदेशक को की शिकायत

डीईओ ने 19 अप्रेल को प्रतापगढ़ के शिक्षक हितेंशु पुरोहित का नाम वरिष्ठता सूची में जुड़वाने के लिए उपनिदेशक कार्यालय उदयपुर को परिवेदना भेजी थी। इसके बावजूद पदोन्नति सूची में नाम नहीं जोड़ा गया। प्रतापगढ़ में अरणोद राउमावि स्कूल के शिक्षक भुवान सिंह का नाम स्थाई पात्रता सूची में 4944 नंबर पर था, लेकिन फिर भी प्रमोशन से वंचित रह गए। इनका आरोप है कि इनसे जूनियर शिक्षकों को प्रमोशन मिल गया। राजसमंद में वागूदड़ा यूपीएस स्कूल के शिक्षक राजकुमार जटिया ने बताया कि उनकी ज्वाइनिंग 2 जुलाई 1996 मेंं हुई, जबकि उनसे बाद ज्वाइनिंग वाले शिक्षक अंबालाल को प्रमोशन मिल गया। राउप्रावि पुटोल के शिक्षक मदनलाल और अर्जुन सालवी का स्थाई पात्रता में नाम होने के बावजूद प्रमोशन नहीं मिला।

किस विषय में कितने शिक्षकों को मिला प्रमोशन

नॉन टीएसपी

अंग्रेजी : 81, संस्कृत : 47, विज्ञान : 40, गणित: 64, सामान्य: 63, सामाजिक वि.: 69, उर्दू: 1, पीटीआई: 4, विशेष शिक्षा में गणित, विज्ञान, सामान्य, संस्कृत, सामाजिक विज्ञान में 1-1

टीएसपी

अंग्रेजी: 131, संस्कृत: 94, विज्ञान: 128, सामान्य: 83, गणित: 54, सामाजिक वि.: 142, उर्दू: 1, पीटीआई: 46

कार्रवाई हो

विभाग की गलती से जो शिक्षक प्रमोशन से वंचित रहे हैं, उन्हें नियमानुसार प्रमोशन मिलना चाहिए। लापरवाही बरतने वाले अधिकारी और कार्मिकों के खिलाफ सख्त कार्रवाई हो।

-जसवंत सिंह, अध्यक्ष, राजस्थान शिक्षक संघ राष्ट्रीय

समय दिया गया था

शिक्षकों को आपत्ति देने के लिए समय दिया गया था। इस समय के बाद कोई नाम नहीं जोड़ सकते। समय से पहले अगर डीईओ के माध्यम से परिवेदना दी थी तो ऐसे वंचित शिक्षकों को रिव्यू डीपीसी में शामिल किया जाएगा।

-भरत मेहता, उपनिदेशक, माध्यमिक

SHARE