shivira shiksha vibhag rajasthan December 2016 shiksha.rajasthan.gov.in district news DPC, RajRMSA, RajShiksha Order, rajshiksha.gov.in, shiksha.rajasthan.gov.in, अजमेर, अलवर, उदयपुर, करौली, कोटा, गंगानगर, चित्तौड़गढ़, चुरू, जयपुर, जालोर, जैसलमेर, जोधपुर, झालावाड़, झुंझुनू, टोंक, डीपीसी, डूंगरपुर, दौसा, धौलपुर, नागौर, पाली, प्रतापगढ़, प्राइमरी एज्‍युकेशन, प्राथमिक शिक्षा, बाड़मेर, बारां, बांसवाड़ा, बीकानेर, बीकानेर Karyalaye Nirdeshak Madhyamik Shiksha Rajisthan Bikaner, बूंदी, भरतपुर, भीलवाड़ा, माध्‍यमिक शिक्षा, मिडल एज्‍युकेशन, राजसमन्द, शिक्षकों की भूमिका, शिक्षा निदेशालय, शिक्षा में बदलाव, शिक्षा में सुधार, शिक्षा विभाग राजस्‍थान, सरकार की भूमिका, सवाई माधोपुर, सिरोही, सीकर, हनुमानगढ़

उदयपुर। जिले में समान परीक्षा के तहत कक्षा 9वीं में स्वास्थ्य एवं शारीरिक शिक्षा विषय का पेपर शोभागपुरा सीनियर सैकंडरी स्कूल ने शुक्रवार की बजाय एक दिन पहले ही गुरुवार को करा दिया। स्कूल प्रिंसिपल से लेकर यहां कार्यरत शिक्षकों को इस लापरवाही का पता पेपर होने के बाद उस वक्त लगा, जब अभिभावकों ने शिकायत की। शिकायत पर डीईओ माध्यमिक ने जिला परीक्षा समिति की आपात बैठक बुलाई। इसमें पेपर आउट मानते हुए रिजर्व में रखा दूसरा बदला हुआ पेपर स्कूलों में भेजने का निर्णय लिया। तुरंत ही जिले के 653 सरकारी स्कूलों सहित निजी स्कूलों में भी बदले हुए पेपर का बंडल वाहनों के जरिए परीक्षा केन्द्रों पर भिजवाए गए। शाम तक कई परीक्षा केन्द्रों पर प्रश्न पत्र नहीं पहुंच पाए। डीईओ ने स्कूल प्रिंसिपल विजय लक्ष्मी को नोटिस देते हुए इस लापरवाही का कारण पूछा है। दरअसल, कक्षा 9वीं में स्वास्थ्य एवं शारीरिक शिक्षा का यह पेपर 18 अप्रैल को होना था, लेकिन उस दिन सरकार की तरफ से परशुराम जयंती का अवकाश घोषित किया गया तो शिक्षा विभाग ने इस परीक्षा की तिथि आगे बढ़ाकर 27 अप्रैल तय की थी। लेकिन शोभागपुरा स्कूल ने यह पेपर एक दिन पहले ही करा दिया।

जवाब मिलने के बाद होगी सख्त कार्रवाई

स्कूल प्रिंसिपल ने बहुत बड़ी चूक की है, उनसे जवाब मांगा गया है। जवाब मिलने के बाद सख्त कार्रवाई करेंगे। सभी संस्था प्रधानों के सूचित करते हुए दूसरा बदला हुआ पेपर कराने संबंधी निर्देश दिए गए हैं।

-नरेश डांगी, डीईओ माध्यमिक

सुविवि में फिर गड़बड़ी, इंग्लिश ऑनर्स की जगह दिया बीए सामान्य का पेपर

उदयपुर। सुविवि में पेपर में गड़बड़ी का मामला फिर सामने आया है। बुधवार को इंग्लिश ऑनर्स फाइनल ईयर के बजाय बीए प्रथम वर्ष का सामान्य पेपर आ गया। इंग्लिश ऑनर्स के छात्रों को बिना पेपर दिए ही लौटना पड़ा। सुविवि में पिछले 15 दिन में पेपर गड़बड़ी का यह दूसरा मामला है। इससे पहले फिलोसॉफी विषय में भी छात्रों को दूसरे विषय का पेपर दे दिया गया था। बीए ऑनर्स के छात्रों ने बताया कि उनका 20 सेंचुरी लिटरेचर इन इंग्लिश विषय का पेपर था। विषय नाम और कोड सही था, मगर पेपर बीए प्रथम वर्ष का था। शिक्षकों को सूचना दी तो उन्होंने यही पेपर करने का दबाव बनाया। मगर बाद में सभी छात्रों ने विवि के परीक्षा विभाग के नाम शिकायत लिखकर दी। छात्रों ने कहा कि फाइनल ईयर होने के चलते उन्हें पीजी के लिए भी आवेदन करना है। यह पेपर गलत हो जाने से परेशानी आएगी। छात्रों ने शिकायत में यह भी मांग की है कि उनका यह पेपर 15 मई से पहले हो। उधर, परीक्षा नियंत्रक आरसी कुमावत ने बताया कि सूचना आई है। ग्रीवांस कमेटी जांचकर इसका निर्णय देगी।

निर्देश : पांच साल से एक जगह जमे अधिकारी-कर्मचारियों की मांगी रिपोर्ट

उदयपुर। प्रदेश भर में सरकारी दफ्तरों में 5 वर्षों से अधिक एक ही स्थान पर जमे सरकारी अधिकारियों और कर्मचारियों को लेकर सरकार सक्रिय हो गई है। प्रशासनिक सुधार एवं समन्वय विभाग ने इस मामले में प्रदेश के सभी कलेक्टरों को पत्र लिखकर रिपोर्ट मांगी है। प्रशासनिक सुधार एवं समन्वय विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव ने सभी कलेक्टर को पत्र लिखा है कि आपके जिले में विभिन्न विभागों में 5 वर्ष से अधिक एक ही पद या स्थान पर कितने कर्मचारी अधिकारी पदस्थापित हैं। कलेक्टर को जिले में ग्राम पंचायत, ब्लॉक, तहसील, उपखंड और जिला स्तर के समस्त विभागों की जानकारी भेजने के निर्देश दिए गए हैं।

SHARE