Bank Exam Career in Bank Job Career in Private Banks v/s Public Sector Banks

प्राइवेट बैंक में नौकरी लगने का तरीका Procedure to apply for private bank jobs

वर्तमान में सरकार बैंकिंग सिस्‍टम पर बहुत तेजी से काम कर रही है, ऐसे में बैंकों से संबंधित नौ‍करियों में तेजी से इजाफ हुआ है। सरकारी और प्राइवेट (private bank) दोनों ही प्रकार की बैंकों में बहुत नौकरियां निकल रही हैं और दोनों ही सेक्‍टर में आम सरकारी नौकरी की तुलना में जॉब कंडीशन बहुत अच्‍छी है।

अगर आप बैंकिंग क्षेत्र में अपना कॅरियर बनाना चाहते हैं तो इसके लिए आपको कम से कम स्‍नातक होना चाहिए। इसेक बाद ही आप प्राइवेट बैंक में नौकरी के लिए आवेदन कर सकते हैं।

हर प्राइवेट बैंक अपने स्‍तर पर नौकरियां निकालती है। सामान्‍य तौर पर नौकरी के लिए होने वाली परीक्षा में अंग्रेजी(English) , क्‍वाटिटेटिव एप्‍टीट्यूट (Quantitative Aptitude), सामान्‍य ज्ञान (GK) और वित्‍तीय ज्ञान की जरूरत होती है। प्राइवेट बैंक में क्‍लर्क के अलावा पीओ की नौकरी के लिए भी आवेदन किया जाना चाहिए।

सामान्‍य तौर पर भर्ती की सूचना निकलने के बाद अभ्‍यर्थी के पास लगभग दो महीने का समय होता है। ऐसे में अगर उपरोक्‍त विषयों की पहले से तैयारी रखी जाए तो प्राइवेट बैंक द्वारा घोषित किए गए सिलेबस को भी कवर करने के लिए पर्याप्‍त समय मिल जाता है।

इस परीक्षा की तैयारी को अगर समयबद्ध तरीके से घड़ी के साथ और स्‍टॉप वॉच के साथ किया जाए तो परीक्षा में सफल होने की संभावना बढ़ती है। आप क्‍या क्‍या पढ़ चुके हैं, कितना पढ़ चुके हैं, इससे भी अधिक यह मायने रखता है कि तय समय में तैयारी करने के बाद परीक्षा हॉल में उतनी ही तेजी से आप पूछे गए प्रश्‍नों का जवाब देने के लिए भी खुद को तैयार कर पाएं।

सामान्‍य विषय

अंग्रेजी भाषा : इस विषय से संबंधित सवालों को हल करने के लिए वॉकब्‍लरी, ग्रामर, अंग्रेजी उपयोग और पठन क्षमता का समय रहते विकास किया जाए तो बेहतर है।

न्‍यूमैरिकल एबीलिटी : अंकगणित और डाटा इंटरप्रटेशन की तैयारी हर बैंक परीक्षा देने वाले अभ्‍यर्थी की अच्‍छी होनी चाहिए। सामान्‍यीकरण और न्‍यूमैरीकल सीरीज को लेकर पूछे गए प्रश्‍न आमतौर पर अधिक मात्रा में होते हैं। अत: इन बिंदुओं पर अधिक ध्‍यान देने की जरूरत होती है।

रीजनिंग एबीलिटी : Puzzle test, mathematical inequalities, syllogisms, seating arrangement, blood relations, coding-decoding और input-output के सवालों को अगर आप आसानी से हल कर पाते हैं तो आपके सलेक्‍शन के चांसेज बढ़ जाते हैं।

कम्यूटर ज्ञान : आज के दौर में बिना कम्‍प्‍यूटर बैंकिंग संभव ही नहीं है। ऐसे में आपको कीबोर्ड शॉर्टकट, सॉफ्टवेयर पैकेज और यूजेज, साइबर सिक्‍युरिटी एवं सिक्‍युरिटी टूल्‍स, एब्रीविएशन, एक्रोनिम्‍स, नेटवर्किंग फण्‍डामेंटल, कम्‍प्‍यूटर का इतिहास आदि के सवाल प्रमुखता से पूछे जा सकते हैं।

जनरल बैंकिंग : इसमें सामान्‍य बैंकिंग शब्‍दावली और वित्‍तीय समझ का टैस्‍ट होता है। इसके बारे में आपको पुस्‍तकों से एक सामान्‍य समझ विकसित करनी होती है। अगर आप बैंकिंग की तैयारी कर रहे हैं तो इन विषयों की समझ होना बहुत जरूरी है, प्रतियोगी परीक्षा में इससे संबंधित कई प्रश्‍न आवश्‍यक रूप से पूछे जाते हैं।

सामान्‍य ज्ञान : इसके तहत नए अपाइंटमेंट्स, पुरस्‍कार और अवार्ड, अंतरराष्‍ट्रीय घटनाएं खासकर गोष्ठियां, सरकारी स्‍कीमें, खेलकूद की गतिविधियां, विज्ञान और प्रौद्योगिकी के प्रोजेक्‍ट्स, पुस्‍तकें और उनके लेखक तथा अंतरराष्‍ट्रीय संगठनों के बारे में पूछा जा सकता है।

इन आधारभूत विषयों की तैयारी के साथ ही आपको संबंधित बैंक द्वारा बताए गए सिलेबस पर अधिक सावधानी से मेहनत करनी चाहिए। आधार विषयों की तैयारी आप पहले शुरू कर सकते हैं, लेकिन बैंक द्वारा घोषित सिलेबस के लिए तो आपको उनके द्वारा भर्ती निकलने तक इंतजार ही करना होता है। अगर आपकी पूर्व की तैयारी अच्‍छी है तो परीक्षा जारी होने के बाद आप पर दबाव बहुत हद तक कम हो जाता है।

इन परीक्षाओं के माध्‍यम से बैंक सीधी भर्ती करती है। अन्‍य किसी प्रोसेस को फॉलो नहीं करना होता। आगामी दिनों में बैंक की बहुतेरी नौकरियां निकलने की संभावना है, ऐसे में आपको अभी पूरी ताकत से तैयारी शुरू कर देनी चाहिए।

SHARE
राजस्‍थान के शिक्षा विभाग, शिक्षा व्‍यवस्‍था, सरकारी स्‍कूलों, निजी विद्यालयों, केन्‍द्रीय विद्यालय, शिक्षक संगठनों, सरकारी आदेश, शिक्षकों के लिए अवसरों सहित तमाम तरह की जानकारियां इस चिठ्ठे में शामिल किए गए हैं।