आधार नंबर से होगी विद्यार्थियों की निगरानी

shivira shiksha vibhag rajasthan shiksha.rajasthan.gov.in

आधार से होगी विद्यार्थियों की निगरानी

देशभर में जल्द ही सरकारी स्कूलों के छात्रों का शैक्षणिक रिकॉर्ड को आधार नंबर से जोड़ा जाएगा। उपस्थिति, होमवर्क, परीक्षा परिणाम से लेकर स्कूल की तमाम गतिविधियों का हर दिन का ब्योरा छात्र के आधार पर लिंक कर अपडेट किया जाएगा। इस तरह से छात्रों की पढ़ाई की निगरानी कर समीक्षा की जाएगी।

मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने इस बाबत तैयारी कर ली है। पांच से 18 आयु वर्ग तक के सभी छात्रों का आधार लिंक किया जाएगा। मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार, न सिर्फ पढ़ाई की रियल टाइम मॉनिटरिंग की जाएगी बल्कि यह भी पता चल पाएगा कि बच्चे आखिर स्कूल क्यों छोड़ देते हैं। इनका समाधान निकालने में इससे मदद मिलेगी। दरअसल, सरकारी स्कूलों में कितने छात्र पढ़ते हैं, उनका रिजल्ट कैसा आ रहा है, इस बाबत राज्यों को सही जानकारी नहीं होती है। इसी को देखते हुए आधार को लिंक करने का फैसला किया गया है। रियल टाइम मॉनिटरिंग में जो छात्र बेहतर नहीं कर रहे होंगे उनके लिए स्कूल अलग से अतिरिक्त कक्षाएं आयोजित करेगा।

26 करोड़ से अधिक छात्र जुड़ेंगे

23 करोड़ से अधिक छात्रों को आधार से जोड़ा जा रहा है। कुल 26 करोड़ से अधिक छात्रों को इस योजना से जोड़ा जाना है। सबसे पहले बच्चों को आधार कार्ड से जोड़ा जाएगा। जिन बच्चों के पास आधार कार्ड नहीं होगा, उन्हें यूनीक नंबर दिया जाएगा। इस योजना में बच्चों के साथ-साथ शिक्षकों के भी आधार कार्ड जुड़ेंगे। इस प्रक्रिया में स्कूल खुद से बच्चों की पढ़ाई की समीक्षा करेगा। इसके बाद पर रिपोर्ट राज्य के शिक्षा निदेशालय के पास जाएगी। सरकार इस रिपोर्ट के आधार पर नीतियां तय करेंगी और बच्चों के लिए बेहतर शिक्षा की व्यवस्था करेगी।

शिक्षकों पर नजर रखी जाएगी

शिक्षक सही समय पर क्लास में आते हैं या नहीं? उनका पढ़ाने का तरीका इनोवेटिव है या नहीं, इन तमाम बिंदुओं पर शिक्षकों पर नजर रखी जाएगी। स्कूल के प्रिंसिपल खुद से इसे शिक्षकों के आधार नंबर पर इसे अपडेट करेंगे। इसके अलावा सरकार ई संपर्क पोर्टल पर शिक्षकों का डाटाबेस भी रखेगी। इसके तहत करीब 55,77, 029 शिक्षकों का डाटा एकत्र किया जा चुका है। अभी तक 16,10,487 शिक्षकों का आधार, 20,20,687 ईमेल और 37,59,705 शिक्षकों का मोबाइल नंबर इक_ा कर लिया है। इनके माध्यम से शिक्षकों का एकेडमिक रिकॉर्ड का रिव्यू होगा। पढ़ाने में खराब शिक्षकों की बाकायदा ट्रेनिंग भी करवाई जाएगी।