बदलेगा नैक ग्रेडिंग पैटर्न, यूजीसी ने शुरू की तैयारी

education news national Rajasthan shiksha com
education news national Rajasthan shiksha com

बदलेगा नैक ग्रेडिंग पैटर्न, यूजीसी ने शुरू की तैयारी

राष्ट्रीय मूल्यांकन एवं प्रत्ययन परिषद (नैक) अब अपना ग्रेडिंग सिस्टम बदलने जा रहा है। यानि अब कॉलेजों को ए, बी ,सी, डी नैक ग्रेड नहीं मिलेगा। बल्कि नए पैटर्न में ए++, ए+, ए, बी++, बी+, सी, डी ग्रेड दिया जाएगा। जिसमें ए++ सर्वाधिक स्कोर करने वाले कॉलेज को दिया जाएगा और डी पहले की ही तरह निम्न स्कोर करने वाले संस्थान को दिया जाएगा।

यूजीसी द्वारा कॉलेजों को ग्रेडिंग दी जाती है। यह ग्रेडिंग यूजीसी नैक के माध्यम से देती है। नैक की टीम विश्वविद्यालयों कॉलेजों में पहुंच कर वहां के इंफ्रोस्ट्रक्चर, शैक्षणिक व्यवस्था आदि का निरीक्षण करते हैं।

पहले इस पैटर्न पर दी जाती रही है ग्रेडिंग

अभी तक जो पैटर्न रहा है उसमें वैरी गुड संस्था को ए, गुड को बी,संतोषजनक को सी असंतोजनक स्थिति वाले संस्थान को डी ग्रेड दिया जाता रहा है। इस बदलाव से शैक्षिक स्तर को भी सुधारने में काफी मदद मिल सकेगी।

ग्रेडिंग के आधार पर ही मिलता है अनुदान

यूजीसी द्वारा उच्च शिक्षण संस्थानों के विकास के लिए अनुदान दिया जाता है। यह अनुदान संस्थान को मिले नैक ग्रेडिंग के आधार पर दिया जाता है। अब तक अनुदान की पात्रता सिर्फ और बी ग्रेड के कॉलेजों विश्वविद्यालयों को ही दी जाती रही है। सी डी ग्रेड कॉलेजों को यूजीसी किसी भी तरह का अनुदान राशि नहीं देती है। इसलिए नैक ग्रेडिंग के लिए आवेदन करने वाले कॉलेज विश्वविद्यालयों का यह प्रयास में रहता है कि किसी भी तरह उन्हें या बी ग्रेड मिल जाए।

नया पैटर्न कुछ ऐसा होगा

यूजीसी के प्रावधानुसार किसी भी संस्थान को सर्वाधिक स्कोर 4 सीजीपीए ही दिया जा सकता है। इसे ध्यान में रखने हुए नैक टीम द्वारा ग्रेडिंग दी जाएगी। इसमें 3.76 या इससे अधिक अंक प्राप्त करने वाले संस्था को ए++, 3.51 से 3.75 अंक प्राप्त करने पर ए+, 3.01 से 3.50 अंक पर ग्रेड, 2.76 से 3 तक अंक प्राप्त करने पर बी++, 2.51 से 2.75 अंक पर बी+, 2.01 से 2.50 तक प्राप्त करने पर बी ग्रेड दिया जाएगा।