बार कोडिंग पर माध्‍यमिक शिक्षा बोर्ड का यू टर्न

राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड Rajasthan Board of secondary education RBSE

बार कोडिंग पर माध्‍यमिक शिक्षा बोर्ड का यू टर्न

अजमेर : राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड ने परीक्षाओं में बार कोडिंग उत्तर पुस्तिका की व्यवस्था लागू करने के फैसले से यू टर्न ले लिया है। अब बोर्ड की आगामी परीक्षा में 10वीं की अंग्रेजी की परीक्षा में भी बार कोडिंग उत्तर पुस्तिका नहीं रहेगी। संवीक्षा के दौरान आई परेशानी को देखते हुए बोर्ड ने निर्णय कर लिया है कि साधारण उत्तर पुस्तिकाएं ही विद्यार्थियों को दी जाएंगी।

बोर्ड ने वर्ष 2015 में मेरिट प्रकरण के बाद बोर्ड की मुख्य परीक्षाओं में बार कोडेड उत्तर पुस्तिका के संबंध में निर्णय लिया था। प्रायोगिक तौर पर बोर्ड ने कक्षा 10वीं की केवल अंग्रेजी विषय की उत्तर पुस्तिका बारकोडेड करने का निर्णय लिया।

वर्ष 2016 की परीक्षा में 10वीं की अंग्रेजी विषय की उत्तर पुस्तिका बार कोडेड दी गई। बोर्ड ने परीक्षा भी ले ली और उत्तर पुस्तिकाओं की जांच भी करा कर परिणाम भी जारी कर दिया गया। इसे देखते हुए बोर्ड मानस बना रहा था कि 10वीं की सभी विषयों की परीक्षा में विद्यार्थियों को बार कोडेड उत्तर पुस्तिका दी जाए। यह भी तर्कसंगत नहीं हो सका, फिर वापस निर्णय लिया गया कि केवल 10वीं अंग्रेजी में ही वापस बार कोडेड उत्तर पुस्तिका व्यवस्था लागू करने का निर्णय किया गया। लेकिन अब 10वीं अंग्रेजी में भी बार कोडेड उत्तर पुस्तिका नहीं रहेगी।

इसलिए लेना पड़ा निर्णय वापस

बोर्ड सूत्रों के मुताबिक 10वीं के परिणाम के बाद प्रदेश के विभिन्न विद्यार्थियों ने संवीक्षा के लिए आवेदन किए। अंग्रेजी विषय के लिए भी काफी आवेदन आए। बार कोडेड उत्तर पुस्तिका में ऊपर रोल नंबर नहीं होने से संवीक्षा के समय इन उत्तर पुस्तिकाओं को ढूंढने में काफी समस्या आई। इसके चलते संवीक्षा के परिणाम में भी विलंब हुआ। बोर्ड की समिति ने भी इसे व्यावहारिक नहीं बताया और बोर्ड ने इस व्यवस्था को समाप्त कर दिया। अब साधारण उत्तर पुस्तिकाएं ही विद्यार्थियों को मिलेंगी।
अगले साल से कोई और व्यवस्था करेंगे

अजमेर राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के अध्यक्ष प्रोफेसर बीएल 10वीं कक्षा में अंग्रेजी विषय में बार कोडिंग वाली उत्तर पुस्तिका दी जा रही थी। संवीक्षा के समय काफी परेशानी हुई। इसे देखते हुए अब किसी भी परीक्षा में बार कोडिंग वाली उत्तर पुस्तिका नहीं दी जाएगी। अगले साल इसकी जगह किसी और व्यवस्था को देखेंगे।