राजस्थान सरकार एक करोड़ मास्क बांटेगी – नो मास्क नो एंट्री

एक करोड़ मास्क अशोक गहलोत

राजस्थान सरकार ने कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए आमजनता को एक करोड़ मास्क वितरित करने का लक्ष्य रखा है। सरकार ने कोराना वायरस संक्रमण से बचाव और इसको लेकर आम जनता में जागरुकता के लिए एक बड़े जनजागरण अभियान की शुरुआत शुक्रवार को गांधी जयंती पर की।

अल्बर्ट हॉल में आयोजित कार्यक्रम में मुख्य अतिथि विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सी.पी जोशी ने जन आंदोलन शुरू करने के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के कदम को समसामयिक फैसला बताते हुए कहा, कि जन आन्दोलन से आम जनता संक्रमण के प्रति सतर्क होगी। उन्होंने कहा, कि सरकार का यह आन्दोलन किसी भी जाति, धर्म, विचारधारा या राजनीति से परे है। इससे आम जनता संक्रमण के प्रति सतर्क होगी।

सरकार का यह जागरुकता कार्यक्रम 31 अक्टूबर तक चलेगा। इस आन्दोलन के तहत सरकार ने संक्रमण से बचाव के लिए आम जनता को एक करोड़ मास्क वितरित करने का लक्ष्य रखा है। स्वायत्त शासन मंत्री शांति धारीवाल ने जनता से अपील की कि वह मुख्यमंत्री गहलोत के नेतृत्व में संक्रमण के विरुद्ध इस जन आन्दोलन अभियान में सक्रिय भागीदारी निभायें खुद भी मास्क पहने, औरों को भी पहनाये. शिक्षा राज्य मंत्री गोविन्द डोटासरा ने कहा, कि यह एक गैर राजनैतिक आन्दोलन है, जिसमें सभी राजनैतिक दलों तथा समाज के सभी वर्गों को शामिल करने का प्रयास रहेगा।

कांग्रेस सरकार के मंत्रियों, विधायकों और कांग्रेस पदाधिकारियों ने राजधानी जयपुर में मास्क वितरण कर नो मास्क नो एंट्री जन आंदोलन की विधिवत शुरूआत की। कोरोना के खिलाफ रामनिवास बाग अल्बर्ट हाल से जनआंदोलन के राज्य स्तरीय कार्यक्रम के बाद सभी परकोटे के बाजारों में पहुंचे। परकोटे के दस बाजारों में घूम कर लोगों को मास्क वितरित किए। जिन लोगों ने मास्क नहीं पहन रखे थे या मुंह पर कपड़े बांध रखे थे उन्हें मास्क वितरित किए गए। इस दौरान कुछ जगह सोशल डिस्टेंस भी टूटी।

1 नवंबर से बदलेगी स्कूलों की टाइमिंग

राजस्थान के स्कूल शिक्षा मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा ने इस बात की जानकारी अपने ट्विटर हैंडल के जरिए दी है। उन्होंने लिखा– “कोरोना वायरस के प्रकोप और शिक्षक संगठनों की मांग पर शिक्षक व छात्रहित में निर्णय लेते हुए शिविरा कार्यक्रम में आंशिक संशोधन करते हुए ग्रीष्मकालीन विद्यालय अवधि को 31 अक्टूबर तक के लिए बढ़ाया जाता है. प्रदेश के सरकारी स्कूलों का समय परिवर्तन अब 1 नवंबर 2020 से होगा।

अनलॉक-4 में केंद्र सरकार ने 9वीं से 12वीं क्लास के छात्रों के लिए स्कूलों को आंशिक रूप से फिर से खोलने की अनुमति दी है। केंद्र के इस फैसले के बाद असम, ओडिशा और मध्य प्रदेश सहित कई राज्यों ने स्कूलों को कक्षा 9वीं से 12वीं के छात्रों के लिए फिर से खोल दिया है।