विश्वविद्यालयों के लिए परीक्षा और शैक्षणिक कैलेंडर पर यूजीसी के दिशानिर्देश

University UGC MHRD

विश्वविद्यालय अनुदान आयोग ने कोविड-19 और लॉकडाउन के मद्देनजर अकादमिक नुकसान से बचने और छात्रों के भविष्य को लेकर उचित उपाय करने के लिए परीक्षा और शैक्षणिक कैलेंडर से संबंधित मुद्दों पर विचार-विमर्श और सिफारिश करने के लिए एक विशेषज्ञ समिति का गठन किया है। विश्वविद्यालयों के लिए परीक्षा और शैक्षणिक कैलेंडर पर यूजीसी के दिशानिर्देश केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री की मौजूदगी में जारी किए गए।

यूजीसी के पूर्व सदस्य, हरियाणा केंद्रीय विश्वविद्यालय महेंद्रगढ़, हरियाणा के पूर्व कुलपति प्रोफेसर आर.सी. कुहाड़ विशेषज्ञ समिति की अध्यक्षता कर रहे हैं। इस विशेषज्ञ समिति में अन्य सदस्य भी शामिल हैं। आयोग ने 27.4.2020 को हुई बैठक में समिति की रिपोर्ट को स्वीकार कर लिया और परीक्षा और अकादमिक कैलेंडर पर दिशानिर्देशों को मंजूरी दे दी।

कोविड-19 और लॉकडाउन के मद्देनजर विश्वविद्यालयों के लिए परीक्षा और अकादमिक कैलेंडर पर यूजीसी के इन दिशानिर्देशों को आज नई दिल्ली में केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री की उपस्थिति में जारी किया गया।

मुख्य सिफारिशें

  • इंटरमीडिएट सेमेस्टर के छात्र: वर्तमान और पिछले सेमेस्टर के आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर इन छात्रों को ग्रेड प्रदान किए जाएंगे। जिन राज्यों में कोविड-19 की स्थिति सामान्य हुई है, वहां जुलाई के महीने में परीक्षा होगी।
  • टर्मिनल सेमेस्टर के छात्र: जुलाई के महीने में परीक्षा आयोजित की जाएगी।
  • प्रत्येक विश्वविद्यालय में एक कोविड-19 सेल का गठन किया जाएगा जो शैक्षणिक कैलेंडर और परीक्षाओं से संबंधित छात्रों के मुद्दों को सुलझाने में सक्षम होगा।
  • तेजी से निर्णय लेने के लिए यूजीसी में एक कोविड-19 सेल बनाया जाएगा।
  • दिशानिर्देश की प्रकृति सलाहकारी है, विश्वविद्यालय कोविड-19 महामारी से संबंधित मुद्दों को ध्यान में रखते हुए अपनी कार्ययोजना की रूपरेखा तैयार कर सकते हैं तथा संस्‍थान सोशल डिस्टेंसिंग सुनिश्चित करें।

परीक्षाएं

  • विश्वविद्यालय द्वारा कम समय में प्रक्रिया को पूरा करने के लिए परीक्षाओं के लिए वैकल्पिक, सरलीकृत प्रणालियां और तरीके अपनाये जा सकते हैं।
  • विश्वविद्यालय परीक्षा के समय को 3 घंटे से घटाकर 2 घंटे करके परीक्षाओं के लिए कुशल और नवीन तरीकों को अपना सकते हैं।
  • विश्वविद्यालय अपने अध्यादेशों/ नियमों और अधिनियमों, परीक्षाओं की योजनाओं, सामाजिक दूरी अपनाने के दिशा-निर्देशों का अवलोकन करते हुए, अपने पास उपलब्ध संगत प्रणाली को ध्यान में रखते हुए और सभी छात्रों के लिए उचित अवसर को सुनिश्चित करते हुए ऑफलाइन/ ऑनलाइन रूप में त्रैमासिक/ माध्यमिक/ वार्षिक परीक्षाएं आयोजित कर सकते हैं।
  • स्नातकोत्तर/ पूर्वस्नातक पाठ्यक्रमों/ कार्यक्रमों के लिए त्रैमासिक सेमेस्टर/ वार्षिक परीक्षाएं विश्वविद्यालयों द्वारा आयोजित की जा सकती हैं जैसा कि अकादमिक कैलेंडर में सुझाया गया है। विश्वविद्यालयों द्वारा परीक्षा के समय पर उचित विचार किया जा सकता है और “सामाजिक दूरी” के दिशा-निर्देशों को ध्यान में रखते हुए परीक्षाएं आयोजित की जा सकती हैं।
  • माध्यमिक सेमेस्टर/ वार्षिक छात्रों के लिए, विश्वविद्यालय अपनी तैयारियों का स्तर, छात्रों की आवासीय स्थिति, विभिन्न क्षेत्रों/ राज्यों पर कोविड-19 महामारी के फैलाव का व्यापक आकलन और अन्य कारकों की स्थिति का अवलोकन करने के बाद परीक्षाएं आयोजित कर सकते हैं।
  • अगर कोविड-19 के अनुसार स्थिति सामान्य नहीं दिखाई देती है, “सामाजिक दूरी” को बनाए रखने के लिए और छात्रों की सुरक्षा और स्वास्थ्य का ख्याल रखते हुए, विश्वविद्यालयों द्वारा छात्रों के लिए अपनाए गए आंतरिक मूल्यांकन पैटर्न के आधार पर 50 प्रतिशत अंकों की ग्रेडिंग दी जा सकती है और शेष 50 प्रतिशत अंक केवल पिछले सेमेस्टर में प्रदर्शन के आधार (अगर उपलब्ध है तो) पर दिए जा सकते हैं। यह आंतरिक मूल्यांकन, सतत मूल्यांकन, प्रीलिम्स, मिड-सेमेस्टर, आंतरिक मूल्यांकन या छात्र प्रगति के लिए जो भी नाम दिया गया हो, किया जा सकता है।
  • उन स्थितियों में जहां पर पिछले सेमेस्टर या पिछले वर्ष के अंक उपलब्ध नहीं हैं, विशेष रूप से परीक्षाओं के वार्षिक पैटर्न के पहले वर्ष में, आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर 100% मूल्यांकन किया जा सकता है।
  • अगर छात्र अपनी ग्रेडिंग में सुधार करना चाहता है, तो वह अगले सेमेस्टर के दौरान ऐसे विषयों के लिए आयोजित विशेष परीक्षा में बैठ सकता है।
  • हालांकि, सभी हितधारकों की सुरक्षा और स्वास्थ्य को बनाए रखते हुए और परीक्षाओं की पवित्रता और गुणवत्ता बनाए रखते हुए, इंटरमीडिएट सेमेस्टर परीक्षाओं के लिए यह प्रावधान केवल चालू शैक्षणिक सत्र (2019-20) के लिए कोविड-19 महामारी को ध्यान में रखते हुए किये गए हैं।
  • लॉकडाउन की अवधि को सभी छात्रों/ शोध छात्रों द्वारा उपस्थित होने के रूप में’ माना जा सकता है।
  • परियोजनाओं/ शोध कार्यों में लगे हुए स्नातकोत्तर/ पूर्वस्नातक छात्रों की सुविधा के लिए उपयुक्त रणनीति अपनाएं। विश्वविद्यालय इन छात्रों के लिए प्रयोगशाला आधारित प्रयोगों या क्षेत्र/ सर्वेक्षण-आधारित कार्य देने के बजाय समीक्षा-आधारित/ माध्यमिक डेटा-आधारित परियोजना या सॉफ़्टवेयर-संचालित परियोजना पर विचार कर सकते हैं।
  • विश्वविद्यालय स्काइप या अन्य मीटिंग ऐप्स के माध्यम से व्यावहारिक परीक्षा और मौखिक परीक्षा आयोजित कर सकते हैं, और इंटरमीडिएट सेमेस्टर के मामले में, आगामी सेमेस्टर के दौरान व्यावहारिक परीक्षा आयोजित की जा सकती है।
  • विश्वविद्यालय गूगल, स्काइप, माइक्रोसॉफ्ट टेक्नोलॉजीज या किसी अन्य विश्वसनीय और परस्पर रूप से सुविधाजनक तकनीक का उपयोग करके वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से पीएचडी और एमफिल के छात्रों के लिए मौखिक परीक्षाओं का संचालन कर सकते हैं।
  • एमफिल या पीएचडी छात्रों को छह महीने का विस्तार दिया जा सकता है।
  • प्रत्येक विश्वविद्यालय कोविड-19 महामारी के दौरान परीक्षाओं और अकादमिक गतिविधियों से संबंधित छात्रों की शिकायतों का निपटारा करने के लिए एक प्रकोष्ठ स्थापित करेगा और उसके बारे में छात्रों को प्रभावी ढंग से सूचित करेगा।
  • यूजीसी द्वारा कोविड-19 महामारी के दौरान परीक्षाओं और अकादमिक गतिविधियों से संबंधित छात्रों की शिकायतों की निगरानी करने के लिए एक हेल्प लाइन जारी किया जाएगा।

शैक्षणिक कैलेंडर

शैक्षणिक सत्र 2019-20 के लिए निम्नलिखित कैलेंडर का सुझाव दिया जाता है कि शैक्षणिक कैलेंडर प्रकृति में सांकेतिक है। विश्वविद्यालय छात्रों की तैयारी के स्तर, आवासीय स्थिति,उनके नगर/क्षेत्र/राज्य में फैले कोविड-19 महामारी की स्थिति और अन्य कारकों का एक व्यापक आकलन करने के बाद इसे अपना/रूपांतरित कर सकते हैं।


सम सेमेस्टर का आरंभ 01.01.2020
कक्षाओं का आस्थगन 16.03.2020
विभिन्न तरीकों जैसे आनलाइन लर्निंग/दूरस्थ शिक्षा/सोशल मीडिया (व्हाट्सअप/यूट्यूब)/मेल/वीडियो कांफ्रेंसिंग/मोबाइल ऐप्स/डीटीएच पर स्वयंप्रभा चैनल आदि जैसे विभिन्न तरीकों के जरिये शिक्षणअध्ययन की निरंतरता 16.03.2020 से 31.05.2020
शोध निबंध का समापन/प्रोजेक्ट वर्क/इंटर्नशिप रिपोर्ट/लैब्स/ सिलेबस का समापन/ आंतरिक मूल्यांकन/एसाइनमेंट/ स्टूडेंट प्लेसमेंट ड्राइव आदि 01.06.2020 से 15.06.2020
ग्रीष्म अवकाश 16.06.2020 से 30.06.2020
परीक्षाओं का संचालन

टर्मिनल सेमेस्टर/ वर्ष

इंटरमीडिएट सेमेस्टर/वर्ष

01.07.2020 से 15.07.2020

16.07.2020 से 31.07.2020

मूल्यांकन एवं परीक्षा का परिणाम

टर्मिनल सेमेस्टर/ वर्ष

इंटरमीडिएट सेमेस्टर/वर्ष

31.07.2020

14.08.2020