सेवा भर्ती नियम एक माह में तैयार करें – गृहमंत्री

shivira shiksha vibhag rajasthan December 2016 shiksha.rajasthan.gov.in district news DPC, RajRMSA, RajShiksha Order, rajshiksha.gov.in, shiksha.rajasthan.gov.in, अजमेर, अलवर, उदयपुर, करौली, कोटा, गंगानगर, चित्तौड़गढ़, चुरू, जयपुर, जालोर, जैसलमेर, जोधपुर, झालावाड़, झुंझुनू, टोंक, डीपीसी, डूंगरपुर, दौसा, धौलपुर, नागौर, पाली, प्रतापगढ़, प्राइमरी एज्‍युकेशन, प्राथमिक शिक्षा, बाड़मेर, बारां, बांसवाड़ा, बीकानेर, बीकानेर Karyalaye Nirdeshak Madhyamik Shiksha Rajisthan Bikaner, बूंदी, भरतपुर, भीलवाड़ा, माध्‍यमिक शिक्षा, मिडल एज्‍युकेशन, राजसमन्द, शिक्षकों की भूमिका, शिक्षा निदेशालय, शिक्षा में बदलाव, शिक्षा में सुधार, शिक्षा विभाग राजस्‍थान, सरकार की भूमिका, सवाई माधोपुर, सिरोही, सीकर, हनुमानगढ़

सेवा भर्ती नियम एक माह में तैयार करें – गृहमंत्री

गृहमंत्री श्री गुलाब चन्द कटारिया ने कहा कि विभागीय नोडल अधिकारी कार्मिक विभाग से सम्पर्क कर राजस्थान गृह रक्षा विभाग के भर्ती सेवा नियम एक माह में तैयार करें, ताकि विभागीय गतिविधियों को सुचारू बनाया जा सके।

उन्होंने अधिकारियों को भुगतान की परेशानी को देखते हुए विभाग के आवंटित बजट को नोडल पुलिस विभाग से पृथक गृह रक्षा विभाग के अधीन करने की कार्यवाही करने के भी निर्देश दिये। श्री कटारिया बुधवार को शासन सचिवालय में गृह रक्षा विभाग की मासिक समीक्षा बैठक में अधिकारियों को सम्बोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि गृह रक्षा विभाग के स्वयं सेवकों को वर्तमान में मिल रही मानदेय राशि 325 रुपये प्रति दिवस से 350 रुपये प्रति दिवस करने हेतु जो प्रस्ताव गृह विभाग को भेजे गये हैं, उन पर अतिशीघ्र कार्यवाही करें ताकि गृह रक्षा स्वंय सेवकों को राज्य के श्रम विभाग द्वारा राज्य में न्यूनतम मजदूरी की दर 350 रूपये प्रति दिवस के हिसाब से ड्यूटी भत्ता मिल सके।

गृह मंत्री ने श्री उपे्रती को निर्देश दिये कि वे गृह रक्षा स्वंय सेवकों को हर माह ड्यूटी भत्ता समय पर मिल सके इस हेतु वित्त विभाग से सम्पर्क स्थापित कर बजट आंवटन की कार्यवाही करवायें।

उन्होंने अन्य राज्यों में चुनावों के दौरान ड्यूटी दे चुके गृह रक्षा स्वयं सेवकों को दिये जाने वाला बकाया भुगतान अतिशीघ्र दिलाने हेतु सम्बधित राज्यों के मुख्य सचिवों से वार्ता कर आवश्यक कार्यवाही करने के निर्देश देते हुए कहा कि संभव हो तो इसके लिये चुनाव विभाग को भी पत्र लिखा जाये, ताकि गृह रक्षा स्वंय सेवकों को भुगतान किया जा सके। उन्होंने कहा कि जब तक अन्य राज्यों से पैसा नहीं मिलता तब तक वित्त विभाग से भुगतान की कार्यवाही की जा सकती है, और इस पैसे को अन्य राज्यों से भुगतान होने पर समायोजित किया जा सकता है।

उन्होंने बताया कि सबसे अधिक भुगतान 73 लाख 89 हजार 814 रुपये केरल, दिल्ली का 20 लाख 82 हजार 915 रुपये तथा 14 लाख 69 हजार 605 रुपये त्रिपुरा राज्य का बकाया है। उन्होंने बताया कि बोर्डर होम गार्ड के लिये 12 बोर रायफल के लाइसेंस के लिये सभी जिला कलक्टर को पत्र लिख दिया गया है। यदि वे चाहे तो व्यक्तिगत रूप से भी यह लाइसेंस बनवा सकते हैं।

कटारिया ने उन्हें राजस्‍थान गृह रक्षा अधीनस्थ सेवा नियम के अनुमोदन की कार्यवाही कार्मिक विभाग से अतिशीध्र करवाने के निर्देश दिये ताकि गृह रक्षा विभाग में अधीनस्थ सेवा के विभिन्न संवर्गों के रिक्त पदों पर भर्ती की प्रक्रिया शुरू हो सके।

बैठक में जब गृह रक्षा विभाग के कार्यालय हेतु जमीन आंवटन का मुद्दा महानिदेशक गृह रक्षा श्री नवदीप सिंह ने गृहमंत्री श्री कटारिया के समक्ष रखा, तब प्रमुख सचिव गृह श्री उपे्रती ने श्री सिंह को निर्देश दिये कि वे शहर में पर्याप्त जगह तलाश कर अवगत करवायें ताकि अधिकारियों व कर्मचारियों के बैठने की भविष्य की आवश्यकताओं को देखते हुए जमीन आवंटन हेतु कार्यवाही की जा सके।

बैठक में महानिदेशक गृह रक्षा श्री सिंह ने गृह मंत्री श्री कटारिया को विभाग की प्रगति की जानकारी देते हुए बताया कि अवैध खनन की रोकथाम हेतु 460 बोर्डर होमगार्ड सवर्तमान में नियोजित किये जा रहे हैं, इन जवानों को माह अगस्त 2016 तक का भुगतान किया जा चुका है।

श्री सिंहं ने बताया कि गृह रक्षा विभाग के बेगस स्थित केन्द्रीय प्रशिक्षण संस्थान में गृह रक्षा विभाग के अधिकारियों, कर्मचारियों एवं स्वयं सेवकों के लिये बहुआयामी 12 प्रशिक्षण कोर्स संचालित किये गये हैं । बैठक में अतिरिक्त महानिदेशक होमगार्डस श्री एन0 मोरिस बाबू व गृहमंत्री के विशिष्ठ सहायक श्री महेन्द्र पारख सहित गृह रक्षा विभाग के अन्य अधिकारी उपस्थित थे ।