8 नये मेडिकल कॉलेजों में अगले सत्र 2017 से प्रवेश

shivira shiksha vibhag rajasthan December 2016 shiksha.rajasthan.gov.in district news DPC, RajRMSA, RajShiksha Order, rajshiksha.gov.in, shiksha.rajasthan.gov.in, अजमेर, अलवर, उदयपुर, करौली, कोटा, गंगानगर, चित्तौड़गढ़, चुरू, जयपुर, जालोर, जैसलमेर, जोधपुर, झालावाड़, झुंझुनू, टोंक, डीपीसी, डूंगरपुर, दौसा, धौलपुर, नागौर, पाली, प्रतापगढ़, प्राइमरी एज्‍युकेशन, प्राथमिक शिक्षा, बाड़मेर, बारां, बांसवाड़ा, बीकानेर, बीकानेर Karyalaye Nirdeshak Madhyamik Shiksha Rajisthan Bikaner, बूंदी, भरतपुर, भीलवाड़ा, माध्‍यमिक शिक्षा, मिडल एज्‍युकेशन, राजसमन्द, शिक्षकों की भूमिका, शिक्षा निदेशालय, शिक्षा में बदलाव, शिक्षा में सुधार, शिक्षा विभाग राजस्‍थान, सरकार की भूमिका, सवाई माधोपुर, सिरोही, सीकर, हनुमानगढ़

8 नये मेडिकल कॉलेजों में अगले सत्र 2017 से प्रवेश

चिकित्सा एवं स्वास्थ्य मंत्री श्री कालीचरण सराफ ने चिकित्सा शिक्षा के अधिकारियों एवं प्रस्तावित नये मेडिकल कॉलेजों के नोडल अधिकारियों को प्रदेश में स्वीकृत 8 नये मेडिकल कॉलेजों में अगले सत्र 2017 से प्रवेश प्रारम्भ करने के लिए सभी कार्य यथाशीघ्र पूर्ण करने के निर्देश दिए।

श्री सराफ सोमवार को सायं स्वास्थ्य भवन में आयोजित चिकित्सा शिक्षा विभाग के कार्यों की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। उन्होंने नये मेडिकल कॉलेजों के निर्माण कार्यों की विस्तार से समीक्षा की एवं निर्माण कार्यों की गुणवत्ता पर विशेष ध्यान देने के निर्देश दिये। निर्धारित अवधि में चिकित्सा उपकरणों की खरीद का कार्य भी पूर्ण करने के निर्देश दिए।

उन्होंने नये मेडिकल कॉलेजों के लिए शीघ्रता से नयी नियुक्तियां करने के निर्देश दिये। उन्होंने बताया कि इन मेडिकल कॉलेजों में शीघ्र ही प्राचार्य एवं विशेषाधिकारियों की नियुक्तियां की जायेगी। चिकित्सा मंत्री ने बताया कि अजमेर, उदयपुर व कोटा मेडिकल कॉलेजों मेें 100-100 एवं झालावाड़ 50 सहित कुल 350 एमबीबीएस सीटों की वृद्धि के कार्यों पर कुल 420 करोड़ रुपये की राशि व्यय की जायेगी।

उन्होंने इन कार्यों की निरन्तर निगरानी रखकर समय पर पूर्ण कराने के निर्देश दिये। एसएमएस में बनेगी नवीन कैथलेब सवाई मानसिंह चिकित्सालय में विभिन्न विकास कार्यों के लिए अलग से 20 करोड़ रुपये की राशि स्वीकृत की गयी है। उन्होंने बताया कि एसएमएस में 10 करोड़ 50 लाख रुपये की राशि से नवीन कैथलेब एवं बीएस लैब-3 का निर्माण किया जायेगा एवं स्वाइन फ्लू लैब को अपगे्रड किया जाएगा।

साथ ही राज्य स्तर पर 12 बैड क्षमता के स्पाइनल इंजरी सेन्टर खोलने के लिए 2 करोड़ 33 लाख रुपये की राशि स्वीकृत की गयी है। 150-150 करोड़ की लागत से सुपर स्पेशिलिटी विंग श्री सराफ ने बताया कि बीकानेर, कोटा व उदयपुर में 150-150 करोड़ की लागत से सुपर स्पेशिलिटी विंग बनायी जायेगी।

अजमेर मेडिकल कॉलेज में 4 करोड़ रुपये की लागत से 4 ऑपरेशन थियेटर को मॉड्यूलर थियेटर के रूप में विकसित किया जायेगा। उदयपुर में 4 करोड़ की लागत से नयी कोबाल्ट मशीन स्थापित की जायेगी। उन्होंने बताया कि कोटा मेडिकल कॉलेज में 38 करोड़ की लागत से पीजी हॉस्टल, स्टॉफ क्वार्टर का निर्माण किया जायेगा।

जयपुरिया हॉस्पिटल की बिस्तर क्षमता 500 होगी  चिकित्सा मंत्री ने बताया कि एसएमएस चिकित्सालय का भार कम करने के लिए जयपुरिया चिकित्सालय को बड़े अस्पताल के रूप में विकसित किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि पहले 100 से बढ़ाकर 400 बैड्स कर दिये गये थे। अब इन्हें 500 किया जायेगा।

इस अस्पताल में पहले ओपीडी मेें प्रतिदिन औसतन 500 मरीज आते थे। अब उनकी संख्या बढ़कर प्रतिदिन औसतन 2500 हो गयी है। उन्होंने बताया कि सार्वजनिक निजी सहभागिता के आधार पर चिकित्सालय में सीटी स्केन व एमआरआई मशीन भी लगवायी जा रही है। उन्होंने चिकित्सालय में सेवानिवृत विशेषज्ञ चिकित्सकों की सेवायें लेने पर बल दिया।

आरयूएचएस में विवेकानंद की मूर्ति श्री सराफ ने राजस्थान यूनिवर्सिटी ऑफ हैल्थ साईंस प्रांगण में स्वामी विवेकानंद की मूर्ति स्थापित करने एवं एक बड़ा राष्ट्रीय ध्वज स्थापित करने के निर्देश दिये। आरयूएचएस के कुलपति डॉ. राजाबाबू पंवार ने बताया कि राष्ट्रीय ध्वज लगाने के साथ ही स्वामी विवेकानंद की मूर्ति आगामी 2 माह में स्थापित कर दी जायेगी।

चिकित्सा शिक्षा सचिव श्रीमती रोली सिंह ने बताया कि प्रदेश में चिकित्सा शिक्षा की गुणवत्ता को बेहतर बनाने के लिए व्यापक प्रयास किये जायेंगे। उन्होंने बताया कि नये मेडिकल कॉलेजों के निर्माण कार्यों की निरन्तर मॉनिटरिंग की जा रही है। बैठक में चिकित्सा शिक्षा विभाग की अतिरिक्त निदेशक श्रीमती पुष्पा सत्यानी, आरयूएचएस रजिस्ट्रार श्री जसवंत सिंह एवं एसएमएस मेडिकल कॉलेज प्राचार्य डॉ. यू.एस. अग्रवाल सहित प्रदेश के सभी राजकीय मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य मौजूद थे।