एपीओ शारीरिक शिक्षक को वापस उसी स्कूल में लगाने का विरोध

shivira shiksha vibhag rajasthan shiksha.rajasthan.gov.in district news DPC, RajRMSA, RajShiksha Order, rajshiksha.gov.in, shiksha.rajasthan.gov.in, Shivira Panchang February 2017, अजमेर, अभिनव शिक्षा, अलवर, उदयपुर, करौली, कोटा, गंगानगर, चित्तौड़गढ़, चुरू, जयपुर, जालोर, जैसलमेर, जोधपुर, झालावाड़, झुंझुनू, टोंक, डीपीसी, डूंगरपुर, दौसा, धौलपुर, नागौर, पाली, प्रतापगढ़, प्राइमरी एज्‍युकेशन, प्राथमिक शिक्षा, बाड़मेर, बारां, बांसवाड़ा, बीकानेर, बीकानेर Karyalaye Nirdeshak Madhyamik Shiksha Rajisthan Bikaner, बूंदी, भरतपुर, भीलवाड़ा, माध्‍यमिक शिक्षा, मिडल एज्‍युकेशन, राजसमन्द, शिक्षकों की भूमिका, शिक्षा निदेशालय, शिक्षा में बदलाव, शिक्षा में सुधार, शिक्षा विभाग राजस्‍थान, सरकार की भूमिका, सवाई माधोपुर, सिरोही, सीकर, हनुमानगढ़

नाथद्वारा। राजकीय उच्च माध्यमिक स्कूल टांटोल में प्रधानाध्यापक से जातिगत गाली-गलौज करने व छात्र छात्राओं से दुव्र्यवहार के आराेप में एपीओ हुए शारीरिक शिक्षक को वापस इसी स्कूल में लगा देने पर बुधवार को छात्रों ने विरोध जताया। टांटोल के लोगों ने 13 मार्च को डीईओ को स्कूल के शारीरिक शिक्षक इंद्रसिंह चाैहान के खिलाफ पत्र लिखा था। इसमें आरोप लगाया था कि वे छात्र-छात्राओं से दुव्र्यवहार करते हैं, खेल संबंधी जानकारी देने की जगह मोबाइल पर व्यस्त रहते हैं। शिकायत करते हुए चाैहान का तबादला करवाने की मांग की थी। छात्राओं ने भी शारीरिक शिक्षक की शिकायत स्कूल की प्रधानाध्यापिका इन्द्रा परेवा को दी थीं। इससे पूर्व 5 मार्च को यात्रा भत्ते के बिल पर हस्ताक्षर करने के मामले में शारीरिक शिक्षक चाैहान तथा प्रधानाध्यापक परेवा के बीच तकरार पर परेवा ने जातिगत गाली देने का आरोप लगाते हुए चौहान के खिलाफ उच्चाधिकारियों से शिकायत की थी। इस पर चाैहान को 6 मार्च को एपीओ कर 4 अप्रैल से 8 मई तक राउमावि कोठारिया में लगा दिया। 8 मई को अंतिम कार्य दिवस पर मूल पदस्थापन पर भेज दिया। इससे लोगों ने रोष जताया है।

कमेटी ने भी जांच में सही माने थे शारीरिक शिक्षक पर आरोप

शारीरिक शिक्षक चौहान के खिलाफ आरोप पर डीईओ ने मोलेला स्कूल के प्रधानाध्यापक राजेन्द्र हेड़ा तथा बिलोता स्कूल के प्रधानाध्यापक मदनलाल माली की कमेटी बनाई थी। कमेटी ने ग्रामीणों की शिकायत पर जांच की। ग्रामीणों से पूछताछ में आरोपों को सही बताया था। जांच के बाद कमेटी ने अपनी रिपोर्ट डीईओ को सौंपी थी।

राउमावि टांटोल का मामला

यात्रा भत्ता बिल पास करवाने को ले कर शारीरिक शिक्षक ने मेरे साथ गाली-गलौज व अपमानजनक बात कही थी। इसकी शिकायत उच्चाधिकारियों को देने पर वे एपीओ हुए थे। वे 1 लाख के यात्रा बिल पास करवाने लाए थे। कार्यालय आदेश नहीं होने से पास नहीं किए थे।

-इन्द्रा परेवा, प्रधानाध्यापक, राउमावि टांटोल।

ग्रामीणों की दुर्व्यहवहार वाली शिकायत पर छात्राओं से बयान लिए हैं। रिपोर्ट डीईओ को सौंप दी है। रिपोर्ट पर अभी कुछ बताना ठीक नहीं।

-राजेन्द्र हेड़ा तथा मदनलाल माली, जांच कमेटी सदस्य।

कमेटी की रिपोर्ट मिल गई है।

छुट्टियों में रिपोर्ट के अनुसार कार्रवाई की जाएगी। कार्य के अंतिम दिवस मूल पद पर भेजने के नियम हैं। उसका कार्रवाई पर कोई असर नहीं होना है।

-भरत जोशी, डीईओ, माध्यमिक शिक्षा, राजसमंद

किसी छात्र या छात्रा से कभी भी दुव्र्यवहार नहीं किया। 20 साल से इसी स्कूल में हूं। यात्रा भत्ता के बिल वाले मामले के बाद षड्यंत्र पूर्वक मेरे खिलाफ ग्रामीणों व छात्राओं को बरगला कर झूठी शिकायत की गई। यात्रा बिल 1 लाख के नहीं मात्र 49 हजार के हैं। वो भी 3 साल के। सभी बिल के साथ कार्यालय व ड्यूटी आदेश हैं, लेकिन कमीशन के चक्कर में झूठे आरोप लगवाए जा रहे हैं।

-इन्द्रसिंह चाैहान, शारीरिक शिक्षक, राउमावि टांटोल।

विदेशी सैलानियों ने छात्रों से की अंगे्रजी में बात, फिर दिया बालिका शिक्षा का सन्देश

पीपलीनगर विद्यालय का स्विट्जरलैंड के सैलानियों ने किया दौरा

देवगढ़। राजकीय बालिका उप्रावि पीपली नगर में बुधवार को स्विट्जऱलैंड से आई विदेशी सैलानियों ने दौरा कर कई सवाल-जवाब करते हुए बालिका शिक्षा पर जोर दिया और स्टेशनरी वितरित की। नगर के एक रिसोर्ट में ठहरे सैलानियों को गोरमघाट एवं फुलाद की ओर सैर कराने के दौरान राजूसिंह रावत ने पीपली नगर के स्कूल का भ्रमण करवाया। उन्होंने स्कूल की बालिकाओं से प्रश्न-उत्तर बोर्ड पर लिखकर हल किए एवं सेल्फ कॉन्फिडेंस के कुछ गुण बताए। इस दौरान बच्चों ने भी टूटी- फूटी अंग्रेजी भाषा बोलने की कोशिश की। राजूसिंह के मोटीवेशन पर जरुरतमंद एवं गरीब बालिकाओं को नोटबुक, पुस्तकंे एवं पेन-पेंसिल वितरित किए। साथ ही नकद राशि भी प्रोत्साहन स्वरूप विद्यालय में प्रदान की। इस दौरान प्रधानाचार्य तारा सोनगरा, लीला चौहान, माया यादव, संतोष नेहरा, कृष्णा मीणा, सुनीता, अंजू गहलोत आदि मौजूद थे।