अति पिछड़ा वर्ग के छात्रों को निजी स्कूलों में मिलेगा नि:शुल्क प्रवेश

shivira shiksha vibhag rajasthan December 2016 shiksha.rajasthan.gov.in district news DPC, RajRMSA, RajShiksha Order, rajshiksha.gov.in, shiksha.rajasthan.gov.in, अजमेर, अलवर, उदयपुर, करौली, कोटा, गंगानगर, चित्तौड़गढ़, चुरू, जयपुर, जालोर, जैसलमेर, जोधपुर, झालावाड़, झुंझुनू, टोंक, डीपीसी, डूंगरपुर, दौसा, धौलपुर, नागौर, पाली, प्रतापगढ़, प्राइमरी एज्‍युकेशन, प्राथमिक शिक्षा, बाड़मेर, बारां, बांसवाड़ा, बीकानेर, बीकानेर Karyalaye Nirdeshak Madhyamik Shiksha Rajisthan Bikaner, बूंदी, भरतपुर, भीलवाड़ा, माध्‍यमिक शिक्षा, मिडल एज्‍युकेशन, राजसमन्द, शिक्षकों की भूमिका, शिक्षा निदेशालय, शिक्षा में बदलाव, शिक्षा में सुधार, शिक्षा विभाग राजस्‍थान, सरकार की भूमिका, सवाई माधोपुर, सिरोही, सीकर, हनुमानगढ़

सरकार उठाएगी पूरा खर्चा

विशेष पूर्व मेट्रिक छात्रवृत्ति योजना, अजा-जजा के विद्यार्थी भी शामिल

बीकानेर। विशेष पूर्व मेट्रिक छात्रवृत्ति योजना के तहत शिक्षण सत्र 2018-19 में अनुसूचित जाति-जनजाति व विशेष अति पिछड़ा वर्ग के एक हजार 500 छात्र-छात्राओं को राज्य के निजी उच्च शिक्षण संस्थानों में नि:शुल्क प्रवेश दिलाया जाएगा। इन प्रवेशित बच्चों का पूरा खर्च सरकार उठाएगी। इसमें आवास, भोजन, फ ीस, बिस्तर, पुस्तकें व पोशाक तक का खर्च शामिल है। सरकार निजी स्कूलों को ऐसे प्रवेशित बच्चों के लिए कक्षा १२ तक सालाना 50 हजार रुपए प्रति छात्र देगी। विशेष पूर्व मेट्रिक छात्रवृत्ति योजना के तहत शिक्षा विभागीय योजना में अनुसूचित वर्ग के 286 छात्र-छात्राओं को तथा जनजाति वर्ग के 214 विद्यार्थियों को निजी उच्च शिक्षण संस्थानों में प्रवेश दिलाया जाएगा। इसी तरह जनजाति क्षेत्रीय विकास योजना के तहत भी 500 छात्र-छात्राओं का प्रवेश होगा। इसमें पांच जनजाति जिलों के 300 बच्चों को तथा 200 गैर जनजाति क्षेत्र के बच्चों को प्रवेश दिलाया जाएगा। विशेष समूह योजना के तहत भी अति पिछड़ा वर्ग के 500 छात्र-छात्राओं को निजी स्कूलों में नि:शुल्क प्रवेश दिलाया जाएगा।

परीक्षा से होगा प्रवेश

राज्य के प्रतिष्ठित स्कूलों में प्रवेश के लिए शिक्षा विभाग परीक्षा का आयोजन करेगा। माध्यमिक शिक्षा निदेशक नथमल डिडेल की ओर से जारी निर्देशों में प्रवेश परीक्षा में अनुसूचित जाति, जनजाति, विशेष अति पिछड़ा वर्ग तथा जनजातीय उप क्षेत्र के ऐसे छात्र-छात्राएं पात्र होंगे, जो कक्षा 5 में कम से कम सी ग्रेड लाएंगे। प्रवेश परीक्षा की मेरिट के अनुसार विद्यार्थियों को उनकी पसंद के निजी स्कूल में प्रवेश दिलाया जाएगा। प्रवेश परीक्षा पूरे राज्य में 3 जून को जिला मुख्यालयों पर पंजीयक शिक्षा विभागीय परीक्षाएं की ओर से आयोजित की जाएगी। इसके लिए 11 मई तक आवेदन जिला शिक्षा अधिकारी कार्यालय में दिए जा सकेंगे।

यह रहेगा कार्यक्रम

3 जून : प्रवेश परीक्षा।
21 जून : मेरिट सूची जारी होगी।
2 से 5 जुलाई : निदेशालय में चयनित छात्र-छात्राओं की मेरिट अनुसार काउंसलिंग।
6 जुलाई : विद्यालय आवंटन सूची जारी होगी।
9 से 12 जुलाई : जिला शिक्षा अधिकारी अपने जिले में प्रवेशित विद्यार्थियों के विद्यालय वार प्रवेश शिविर लगाएंगे।
13 जुलाई : प्रवेश प्रक्रिया समाप्त।

प्रवेश परीक्षा की पात्रता

विद्यार्थी राजस्थान राज्य का मूल निवासी हो।
कक्षा 5 में कम से कम सी ग्रेड हो।
विद्यार्थी का जाति प्रमाणपत्र जरूरी।
माता-पिता आयकरदाता न हो
एक माता-पिता की अधिकतम दो संतानों को ही इस योजना का लाभ मिल सकेगा।

2701 सैकंड ग्रेड शिक्षक बने व्याख्याता

बीकानेर। राजस्थान लोक सेवा आयोग, अजमेर में बुधवार को हुई विभागीय पदोन्नति समिति की बैठक में 2701 सैकंड ग्रेड शिक्षकों को व्याख्याता बनाया गया है। आयोग के सदस्य के आर बगडिय़ा की अध्यक्षता में हुई डीपीसी में पांच विषयों के पात्र सैकंड ग्रेड शिक्षकों का चयन किया गया। माध्यमिक शिक्षा निदेशक नथमल डिडेल ने बताया कि हिंदी 1012, इतिहास 674, राजनीतिक विज्ञान 767, अंग्रेजी 185 और कॉमर्स के 63 व्याख्याता बनाए गए हैं। इनके पदस्थापन आदेश आयोग से अनुमोदन के बाद जारी किए जाएंगे। बैठक में कार्मिक विभाग के प्रतिनिधि भी मौजूद थे।