Blue whale challenge game जागरूकता अभियान

Blue whale challenge game

Blue whale challenge game के खिलाफ स्कूलों ने कसी कमर, वर्कशॉप और जागरूकता अभियान चलाने के निर्देश

राजधानी और प्रदेश के स्कूलों में सुसाइड गेम यानी ब्लू व्हेल (Blue whale challenge game) से बच्चों को बचाने की मुहिम शुरू हो गई है। इस मुहिम में जहां एक ओर स्कूल प्रबंधन ने साइबर क्राइम के साथ ही सुसाइड गेम से बचाव की वर्कशॉप आयोजित करने की योजना बनाई है। वहीं शिक्षा राज्यमंत्री वासुदेव देवनानी ने बच्चों की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए ब्लू व्हेल गेम के खतरे के लिए स्कूलों में जागरूकता अभियान चलाने के निर्देश दिए है।

उन्होंने शिक्षकों को अभिभावकों से संवाद कर बच्चों के सोशल मीडिया के प्रयोग पर सतर्क निगरानी रखने की बात कही है। देवनानी ने कहा कि ब्लू व्हेल गेम बच्चों को भ्रमित कर खुद को शारीरिक नुकसान पहुंचाने एवं आत्महत्या करने के लिए उकसाता है। इस गेम के कारण बच्चों के हो रहे नुकसान पर ङ्क्षचता जताते हुए उन्होंने अभिभावकों से आह्वान किया है कि वे विभिन्न सोशल मीडिया प्लेटफार्म गूगल, फेसबुक, व्हाटसप, इंस्टाग्राम आदि के अंतर्गत ब्लू व्हेल और उसके जैसे ही किसी भी गेम के लिंक को नहीं खोले। इस तरह के किसी भी गेम के डाउनलोड से बचने की सलाह देते हुए उन्होंने इस संबंध में बच्चों को भी जागरूक किए जाने पर जोर दिया है।

होगी वर्कशॉप

स्कूल प्रबंधन ने साइबर क्राइम के साथ ही सुसाइड गेम से बचाव की वर्कशॉप आयोजित करने की योजना बना ली है। स्कूलों में शिक्षकों को भी इस बात का ध्यान रखने के निर्देश दिए हैं कि यदि बच्चे एक-दूसरे से ब्लू व्हेल जैसे सुसाइड गेम पर चर्चा करते दिखें या सचेत हो जाएं तो उनकी काउंसलिंग करें। स्कूल प्रबंधन ने अभिभावकों को सतर्क किया है कि वे भी घर पर बच्चों की गतिविधियों पर नजर रखें। सीबीएसई ने हाल ही साइबर क्राइम व ब्लू व्हेल के भंवर में फंसे किशोर और मासूमों की जान बचाने को गाइडलाइन जारी की थी, जिसमें बताया है कि साइबर क्राइम, ब्लू व्हेल और अन्य भ्रामक वेबसाइट के चंगुल से कैसे बचें। कैसे सेफ नेट सर्फिंग की जाए।

टीचर करेंगे अवेयर…

हर स्कूल में क्लब बने हुए हैं। इन क्लब की कमान भी छात्रों के हाथ में हैं। ऐसे में वे बच्चों के अधिक करीब हैं, इसलिए वे छात्रों को जागरूक करेंगे। उन्हें बताएंगे कि वे सतर्क रहकर खुद ही नहीं, दूसरे दोस्तों को सुसाइड गेम के चंगुल से मुक्त करा सकते हैं। साथ ही शिक्षकों को भी बच्चों पर ध्यान रखने की सलाह दी गई है। इस बारे में शिक्षकों को ब्लू व्हेल जैसे गेम के खतरों से अवगत कराया गया है। ब्लू व्हेल गेम को लेकर अभिभावकों को सतर्क करना भी जरूरी है।

ब्ल्यू व्हेल गेम के दुष्परिणाम

जोधपुर। दसवींकक्षा की एक छात्रा द्वारा ब्ल्यू व्हेल गेम के टॉस्क को पूरा करने के लिए कायलाना में कूदने की घटना के बाद जस्टिस गोपालकृष्ण व्यास ने इसके दुष्प्रभावों को बताते हुए बच्चों को जागरूक करने के लिए स्कूलों में कैंप आयोजित करने के निर्देश दिए थे। ऐसे में कई स्वयंसेवी संस्थाएं आगे आई हैं जो इस दिशा में स्टूडेंट्स को जागरूक कर रही हैं। राजस्थान राज्य विधिक सेवा प्राधिकरण के उप सचिव धीरज शर्मा और पूर्णकालिक सचिव प्रेमरतन ओझा ने बताया कि जस्टिस व्यास के निर्देश की पालना में पैरा लीगल वालंटियर्स एवं पैनल अधिवक्ता द्वारा स्कूलों में कैंप आयोजित किए गए। राजस्थान एडवेंचर, स्पोर्ट्स, कल्चरल एवं वेलफेयर सोसायटी भी इस मुहिम से जुड़ गई है और बच्चों को जागरूक कर रही है। संस्था की ओर से बच्चों को आत्मरक्षा के गुर सिखाए जाएंगे और इस गेम के नुकसानों की जानकारी दी जाएगी।

उपचार जागरूकता से ही संभव: चटर्जी

ब्ल्यूव्हेल गेम भी एक पश्चिमी देश से आया रोग ही है, क्योंकि ऐसा कोई भी कार्य या गतिविधि जिससे मानव जीवन पर खतरा उत्पन्न हो वह रोग की ही श्रेणी में आता है। जिस तरह बुखार, स्वाइन फ्लू और अन्य रोगों का उपचार किया जाता है, उसी तरह ब्ल्यू व्हेल गेम जैसे रोग का उपचार आमजन में जागरूकता लाकर ही किया जा सकता है। ये उद‌्गार जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के अध्यक्ष एवं जिला एवं सेशन न्यायाधीश जोधपुर महानगर अतुल कुमार चटर्जी ने सोमवार को सिवांची गेट स्थित महेश शिक्षण संस्थान में आयोजित विधिक जागरूकता एवं साक्षरता शिविर में व्यक्त किए। कार्यक्रम में मुख्य महानगर मजिस्ट्रेट अमर वर्मा ने कहा कि ब्ल्यू व्हेल गेम आत्महत्या को प्रेरित करने का खेल है और ऐसा खेल अपराध की श्रेणी में आता है। उन्होंने बच्चों को शपथ दिलाई कि वे ऐसा कोई गेम खेलेंगे और ही अपने परिजनों मित्रों को खेलने देंगे। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की पूर्णकालिक सचिव वमीता सिंह महानगर मजिस्ट्रेट लोचन खिड़िया ने भी ब्ल्यू व्हेल गेम के दुष्प्रभाव बताए। अंत में माहेश्वरी सी.सै. स्कूल प्राचार्य सोमा चटर्जी महेश उमावि प्राचार्य एसपी पंवार ने धन्यवाद ज्ञापित किया। जस्टिस व्यास के निर्देश के बाद स्टूडेंट्स को ब्ल्यू व्हेल गेम के दुष्परिणाम बताए जा रहे हैं।


आत्‍महत्‍या के लिए उकसाने वाले इंटरनेट गेम ब्‍लू व्‍हेल चैलेंज के बारे में विस्‍तार से जानकारी के लिए यहां क्लिक करें