शिक्षकों की ड्यूटी इतर कार्यों में नहीं लगाई जाए – डोटासरा

शिक्षकों की ड्यूटी शिक्षण कार्य के अतिरिक्‍त अन्‍य कार्यों में लगाए जाने से जहां शिक्षकों और शिक्षक संगठनों में रोष है, वहीं इस बार शिक्षा राज्‍य मंत्री ने भी अपने दो अधिकारियों की ऐसी ड्यूटी को निरस्‍त कर शिक्षकों के प्रति अपने उत्‍तरदायित्‍व की प्रतिबद्धता पेश की है।

cencellation of teachers dutyकरौली मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी द्वारा शिक्षकों की ड्यूटी मनोरंजन कार्य और किशनपुरा बारां पीईईओ की ओर से शादी समारोह में सोशल डिस्टेंसिंग की पालना के लिए ड्यूटी लगाई गई थी। इससे शिक्षा राज्यमंत्री गोविंद सिंह डोटासरा नाराज हो गए। उन्होंने देर शाम दोनों आदेशों को निरस्त कर संबंधित अधिकारियों को निर्देशित किया कि बिना किसी लिखित आदेश के ऐसे बेतुके ऑर्डर न निकाले जाएं।

डोटासरा ने बताया कि मुख्य सचिव को पत्र लिखकर शिक्षकों की ड्यूटी के संबंध में जिला कलक्टरों और उपखंड अधिकारियों को स्पष्ट आदेश जारी करवाए जाएंगे। शिक्षकों की ड्यूटी सिर्फ कोविड-19 के संबंध में अतिआवश्यक कार्यों के लिए ही लगाई जा सकती है। इस तरह की ड्यूटी आदेश जारी करने वाले विभागीय अधिकारी के विरुद्ध भी अनुशाषनात्मक कार्यवाही की जाएगी।

सोमवार को आदेश जारी होने के बाद ही कई शिक्षक संगठन इन आदेशों के विरोध में उतर आए। प्राथमिक एवं माध्यमिक शिक्षक संघ की ओर से मुख्यमंत्री और शिक्षामंत्री से मामले में दखल देने की अपील की गई थी।

duty in railwayगौरतलब है कि शिक्षकों को शिक्षण कार्यों के अतिरिक्‍त सामान्‍य प्रशासन, रेलवे एवं अन्‍य विभागों द्वारा अन्‍य कार्यों में भी लगातार ड्यूटी लगाई जाती रही है। इसके चलते शिक्षकों में खासा रोष पनप रहा है। पिछले कुछ समय से शिक्षकों ने शिक्षक संगठनों के प्रतिनिधियों को निशाना बनाकर सोशल मीडिया में भी अपने गुस्‍से का स्‍पष्‍ट इजहार किया था। इसके बाद भी कोविड-19 के दौरान विभिन्‍न कार्यों के लिए शिक्षकों और शिक्षा अधिकारियों की ड्यूटी लगातार लगाई जा रही है। इस बार खुद शिक्षा राज्‍यमंत्री ने अपनी ओर से इस प्रकार का ठोस निर्णय कर ऐसी ड्यूटी को रद्द करवाया है। 

shadi me shikshkon ki duty