कलेक्टर ने कहा पहले से बेहतर हों बोर्ड परीक्षाओं के रिजल्ट

कलेक्टर ने कहा पहले से बेहतर हों बोर्ड परीक्षाओं के रिजल्ट
कलेक्टर ने कहा पहले से बेहतर हों बोर्ड परीक्षाओं के रिजल्ट

कलेक्टर ने कहा पहले से बेहतर हों बोर्ड परीक्षाओं के रिजल्ट


बोर्ड परीक्षाओं में जिले का वार्षिक रिजल्ट पहले की अपेक्षा और बेहतर होना चाहिए तथा इसके लिए विभाग को आवश्यक प्रयास करना होगा। साथ मौलिक शिक्षा से जिले का कोई भी छात्र वंचित नहीं होना चाहिए। यह कहना है कलेक्टर सौरभ कुमार सुमन का, वे गुरुवार को कलेक्ट्रेट सभा कक्ष में शिक्षा विभाग तथा सर्वशिक्षा अभियान की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता कर बोल रहे थे।

बैठक में सीएम राइज, शासकीय स्कूलों की कक्षा 9 से 12 के छात्रों का रिवीजन टेस्ट, विद्यार्थियों के प्रवेश-मैपिंग की स्थिति, डिजिलेप, सर्व शिक्षा अभियान अंतर्गत छात्रवृत्ति का भुगतान, निशुल्क गणवेश वितरण के तहत गणवेश निर्माण के लिए स्व-सहायता समूहों को कार्य आवंटन, हमारा घर हमारा विद्यालय, निष्ठा प्रशिक्षण कार्यक्रम, शाला दर्पण, आरटीइ फीस प्रतिपूर्ति, नए प्रवेश और स्कूलों की रंगाई-पुताई समेत सौंदर्यीकरण आदि बिंदुओं की समीक्षा की गई। इस दौरान जिला शिक्षा अधिकारी अरविंद चौरगड़े, जिला शिक्षा केंद्र के डीपीसी जीएल साहू सहित सम्बंधित अधिकारी, बीइओ, बीआरसी आदि मौजूद थे।

राज्यस्तरीय विभिन्न कार्यों में शिक्षकों का सराहनीय परफॉरमेंस –

कलेक्टर सुमन ने कहा कि जिले के शिक्षक राज्यस्तरीय विभिन्न शिक्षण कार्यक्रमों में बेहतर परफॉमेंस दे रहे है, जो कि सराहनीय है। बोर्ड परीक्षाओं में भी योजना बनाकर कार्य करने की आवश्यकता है। जहां समस्या आ रही है, उसका विश्लेषण कर निदान किया जा सकता है।

सीएम राइज के तहत हर ब्लाक से चयनित स्कूल की विस्तृत जानकारी तैयार की जाएं तथा 30 नवम्बर तक स्कूलों का रंगरोंगन कर फोटोग्राफ्स के साथ जानकारी प्रस्तुत की जाएं। वहीं छात्रवृत्ति के त्रुटिपूर्ण खातों में सुधार, सातवें वेतनमान से वंचित शिक्षकों का उचित निर्धारण राशि का भुगतान आदि सुनिश्चित किया जाएं।

हमारा घर हमारा विद्यालय में सभी की हो सहभागिता –

जिले में चल रहे हमारा घर हमारा विद्यालय कार्यक्रम में हर शिक्षक की सहभागिता सुनिश्चित हो तथा इसकी नियमित मॉनिटरिंग के साथ नियमित बैठक भी होनी चाहिए। वहीं ऐसे स्कूल जहां तकनीकी समस्या आ रही है, उन्हें छोड़कर शेष स्कूलों के विद्यार्थियों के गणवेश तैयार करने के लिए स्व-सहायता समूह को नियमानुसार कार्य आदेश जारी किया जाएं। एम शिक्षा मित्र ऐप से रिपोर्टिंग में लापरवाही बरतने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई, व्हाट्स ऐप आधारित अभ्यास में सुधार आदि की कार्रवाई के निर्देश दिए गए।