काउंसलिंग से पोस्टिंग पर नहीं मिलेगा यात्रा भत्ता

शिक्षा विभाग में काउंसलिंग से पोस्टिंग लेने वाले शिक्षकों और कार्मिकों को यात्रा भत्ता और कार्यग्रहण काल का लाभ नहीं मिलेगा। माध्यमिक शिक्षा निदेशालय के वित्तीय सलाहकार ने इस संबंध में समस्त डीडी-डीईअो माध्यमिक को निर्देश जारी किए है। वित्तीय सलाहकार की ओर से डीडी-डीईओ को भेजे गए पत्र में स्पष्ट किया गया है कि राज्य हित में स्थानांतरण होने पर मुख्यालय परिवर्तन पर संबंधित कार्मिक को यात्रा भत्ता एवं कार्यग्रहण काल देय है। मगर काउंसलिंग के दौरान रिक्त प्रदर्शित किए गए पदों पर कार्मिक को इच्छित स्थान पर चयन का विकल्प दिया जाता है। काउंसलिंग से मुख्यालय परिवर्तन राज्य हित में एवं प्रशासनिक कारणों से नहीं किया जाकर कार्मिक के द्वारा स्थान चयन के आधार पर पदस्थापन किया जाता है। लिहाजा काउंसलिंग के दौरान कार्मिक का पदस्थापन स्थान परिवर्तन होने पर उसे किसी प्रकार का यात्रा भत्ता और कार्यग्रहण काल देय नहीं होगा। वित्तीय सलाहकार ने डीडी-डीईओ को संबंध में समस्त संस्था प्रधानों को अवगत करवाने के निर्देश भी दिए है।

राजस्थान शिक्षा सेवा प्राध्यापक संघ के प्रदेशाध्यक्ष मोहन सियाग ने इस आदेश विरोध किया है। उनका कहना है कि काउंसलिंग में सीमित पद होने से मजबूरी में कार्मिक को इच्छा के विपरीत स्थान का चयन करता पड़ता है। ऐसी स्थिति में कार्मिक को यात्रा भत्ता और योगकाल देय होना चाहिए। इस संबंध में संगठन स्तर पर शिक्षामंत्री को भी अवगत करवाया जाएगा।

वित्तीय सलाहकार ने जारी किया स्पष्टीकरण

पीएल भी नहीं मिलेगी- शिक्षा विभाग ने फरवरी-2016 से पोस्टिंग के लिए काउंसलिंग का प्रावधान किया गया है। यह प्रक्रिया निरंतर जारी है। काउंसलिंग में शिक्षक खुद रिक्त स्थान का चयन करता है। वहीं प्रमोशन से पोस्टिंग पर जोइन करने के लिए 10 दिन मिलते हैं। संबंधित कार्मिक की ओर से तुरंत कार्यग्रहण करने पर 10 उपार्जित अवकाश (पीएल) का प्रावधान है और कार्मिकों को पीएल का नगद भुगतान भी होता है। मगर काउंसलिंग में स्वेच्छा से स्थान चयन करने के कारण पीएल का लाभ भी नहीं मिलेगा।

काउंसलिंग में शिक्षक स्वयं के खर्च से आता है। जिसमें आने का टीए-डीए नहीं मिलता है। इसी परीपेक्ष्य में 10 पीएल देने का निर्णय किया जाना चाहिए।

महेंद्र पांडे, महामंत्री, राजस्थान प्राथमिक एवं माध्यमिक शिक्षक संघ