जम्मू-कश्मीर में ओमिक्रोन के मामले : कोविड प्रबंधन में स्कूल शिक्षा विभाग के स्टाफ को तैनात करने का फैसला

जम्मू-कश्मीर में ओमिक्रोन के मामले : कोविड प्रबंधन में स्कूल शिक्षा विभाग के स्टाफ को तैनात करने का फैसला
जम्मू-कश्मीर में ओमिक्रोन के मामले : कोविड प्रबंधन में स्कूल शिक्षा विभाग के स्टाफ को तैनात करने का फैसला

जम्मू-कश्मीर में ओमिक्रोन के मामले : कोविड प्रबंधन में स्कूल शिक्षा विभाग के स्टाफ को तैनात करने का फैसला


जम्मू, राज्य ब्यूरो। केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर में ओमिक्रोन वैरिएंट के तीन मामले आने और इसके बाद संक्रमण के फैलने की आशंका को देखते हुए कोविड प्रबंधन में स्कूल शिक्षा विभाग के स्टाफ को तैनात करने का फैसला हुआ है।

आपदा प्रबंधन, राहत, पुनर्वास और पुनर्निर्माण विभाग की स्टेट एग्जीक्यूटिव कमेटी की इसके चेयरमैन और मुख्य सचिव डा.अरुण कुमार मेहता की अध्यक्षता में हुई बैठक में यह फैसला किया गया। बैठक में कहा गया कि स्कूल शिक्षा विभाग का स्टाफ पहले भी कोविड प्रबंधन में तैनात है। इसी साल दस दिसंबर को स्कूल शिक्षा विभाग के उन टीचिंग स्टाफ को विभिन्न विभागों से डिटैच करने के आदेश जारी किए गए थे जिन्हें प्रशासनिक कामों में तैनात किया गया था।

जम्मू-कश्मीर जिस दिन अनुच्छेद 370 की बेड़ियों से मुक्त हुआ प्रदेश का सफलता की ऊंचाईयों की ओर बढ़ना तय था।
अनुच्छेद 370 हटने के बाद जम्मू-कश्मीर में सफलता के साथ ऐसे बदले हालात, पढ़ें 2021 के महत्वपूर्ण घटनाक्रम हमारे साथ
यह भी पढ़ें

अब ओमिक्रान के खतरे को देखते हुए स्वास्थ्य एवं चिकित्सा शिक्षा विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव, स्कूल शिक्षा विभाग के प्रमुख सचिव व अन्य जिलों के जिला उपायुक्तों व अन्य अधिकारियों के साथ बैठक के बाद यह पाया गया है कि कोविड प्रबंधन के लिए अतिरिक्त स्टाफ तैनात किया जाए। उन्होंने जिला उपायुक्तों को मुख्य शिक्षा अधिकारियों के साथ चर्चा करके कोविड प्रबंधन में स्कूल शिक्षा विभाग के स्टाफ की सेवाएं लें। यह कर्मचारी लेक्चरार के पद से कम के हों। स्कूल शिक्षा विभाग के कर्मचारियों की सेवाएं तीन महीने के लिए ही ली जाएं। एक स्कूल से एक से अधिक कर्मचारी को तैनात न किया जाए और पहले डयूटी देने वालों को फिर से न लगाया जाए।