पदोन्नति सूची में नाम नहीं जोड़ने पर डीडी कार्यालय पर दिया धरना

shivira shiksha vibhag rajasthan shiksha.rajasthan.gov.in
उदयपुर। राजस्थान शिक्षक एवं पंचायतीराज कर्मचारी संघ ने शुक्रवार को उपनिदेशक माध्यमिक शिक्षा कार्यालय के बाहर धरना प्रदर्शन किया। प्रदेश वरिष्ठ उपाध्यक्ष शेर सिंह चौहान ने बताया कि संभाग के शिक्षकों ने सत्र 2018-19 की डीपीसी से पदोन्नति की वरिष्ठता सूची में डीईओ प्रारंभिक व माध्यमिक ने नाम नहीं जोड़ने और सत्र 2017-18 की शेष रही सामान्य, सामाजिक विषय और शारीरिक शिक्षकों की डीपीसी से पदोन्नति नहीं करने को लेकर जमकर नारेबाजी करते हुए प्रदर्शन किया। इस संबंध में शिक्षकों ने उपनिदेशक माध्यमिक को ज्ञापन सौंपा। प्रदर्शन में उदयपुर जिलाध्यक्ष नवीन व्यास, डूंगरपुर जिलाध्यक्ष देवी लाल पाटीदार, चित्तौड़गढ़ जिलाध्यक्ष गंगाराम धोबी, प्रतापगढ़ से जितेन्द्र सिंह सहित शिक्षक सतीश जैन, महेन्द्र सिंह शक्तावत, गरिमा अग्रवाल, योगेन्द्र सिंह भाटी, धर्मेंद्र जैन, मनोज मोची, नानगराम बेरवा अन्य शामिल हुए। शिक्षा उपनिदेशक माध्यमिक उदयपुर मंडल से जारी तृतीय से द्वितीय श्रेणी अध्यापकों की पदोन्नति की अस्थाई पात्रता सूची में विज्ञान एवं गणित विषयों की अस्थाई सूची शामिल नहीं करने पर शिक्षा उप निदेशक कार्यालय में शिक्षक संघ एकीकृत के पदाधिकारियों ने संपर्क किया। प्रदेश मीडिया प्रभारी गोपाल सिंह आसोलिया ने बताया कि सहायक उप निदेशक सुरेंद्र सिंह राव ने समाधान का आश्वास दिया है और सभी डीईओ को लेटर जारी कर 3 दिन में गणित व विज्ञान से संबंधित सूचना भेजने के निर्देश दिए हैं।

देशभक्ति की भावना को व‍िद्यार्थियों में बढ़ावा देने के ल‍िए सुखाडिय़ा विवि ने की ये अनूठी पहल

सुखाडिय़ा विवि में लगेगा 104 फीट ऊंचा तिरंगा

उदयपुर। मोहनलाल सुखाडिय़ा विश्वविद्यालय परिसर में जल्द ही 104 फीट ऊंचा तिरंगा लहराएगा। छात्रों में देशभक्ति की भावना को प्रोत्साहन देने एवं तिरंगे के प्रति सम्मान के लिए यह पहल की गई है। संभाग में पहली बार इतना ऊंचा तिरंगा विश्वविद्यालय की शान बढ़ाएगा। कुलपति प्रो. जेपी शर्मा ने बताया कि तिरंगा लगाने को लेकर प्रक्रिया पूरी हो चुकी है। इस पर करीब 10 लाख रुपए खर्च होने का अनुमान है। इसके अलावा सुखाडिय़ा विश्वविद्यालय का आकर्षक प्रवेशद्वार भी बनाया जाएगा, जो अनूठा होगा। बोम की बैठक में इसका नाम भी तय किया जाएगा। इसके लिए 25 से 30 लाख रुपए खर्च होंगे। कार्य का जिम्मा बीएसएनएल को दिया गया है।