गर्मी की छुट्टी मेंं होगा शिक्षकों का आवासीय प्रशिक्षण

जिस ब्लॉक में कार्यरत हैं वहीं लेनी होगी ट्रेनिंग

उदयपुर। गर्मी की छुट्टियों में पहली से पांचवीं कक्षा को पढ़ाने वाले जिले के आठ हजार शिक्षकों के लिए ब्लॉक स्तर पर पांच चरणों में प्रशिक्षण शिविर लगेंगे। पहला चरण 14 से 19 मई, दूसरा 21 से 26 मई, तीसरा 28 मई से 2 जून, चौथा 4 से 9 जून और अंतिम चरण 11 से 16 जून तक लगेगा। इनमें माध्यमिक सेटअप के 1675 और प्रारंभिक के 6261 शिक्षक शामिल होंगे। शिक्षक जिस जिले और ब्लॉक में कार्यरत हैं, उन्हें वहीं रहकर प्रशिक्षण लेना होगा। जिला-ब्लॉक परिवर्तन में छूट नहीं मिलेगी। पहले की तरह इस बार भी शिविर स्थल पर उपस्थिति बायोमेट्रिक मशीन से ही दर्ज की जाएगी। प्रशिक्षण में अनुपस्थित रहने वाले शिक्षकों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। इधर शिक्षकों में आवासीय शिविरों को लेकर विरोध है। शिक्षकों का कहना है कि शिविर गैर आवासीय हों और जिला-ब्लॉक बदलने की छूटी मिलनी चाहिए। जो शिक्षक इन दिनों अपने गृह जिले में छुट्टियों पर जाएंगे, उन्हें वापस शिविर में आना पड़ेगा। ऐसे में उन्हें उन्हीं के जिले-ब्लॉक में ही प्रशिक्षण मिलना चाहिए।

इन जरूरतमंदों को प्रशिक्षण से छूट का प्रावधान

प्रशिक्षण में जरूरतमंदों को छूट का प्रावधान है , जिसमें जिन महिला शिक्षिकाओं के शिशु की आयु छह महीने तक, शिक्षिका गर्भवती हो या फिर सेवानिवृत्ति में एक साल का समय शेष रहा हो, ऐसी महिला शिक्षिकाएं जो गंभीर बीमारी से पीड़ित हैं या फिर जिनके बच्चे मानसिक रूप से विमंदित हैं। उन्हें छूट देने का प्रावधान रखा गया है।

शिविर में सुविधाएं बढ़ाने की मांग करें, निरस्त करने की नहीं

प्रशिक्षण शिविरों को निरस्त करने की मांग की बजाय शिविर स्थल पर सुविधाएं बढ़ाने की मांग की जानी चाहिए। प्रशासनिक अधिकारी जहां इन शिविरों को सुविधायुक्त और गुणवत्तापूर्ण बनाने के प्रयास में हैं वहीं इन्हें निरस्त करने की मांग शैक्षिक संगठनों को शोभा नहीं देता।

-विजय सारस्वत, मनोविज्ञान विशेषज्ञ, एसआईईआरटी

पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति योजना से 5 साल में 1 लाख 45 हजार छात्र लाभान्वित हुए

जयपुर। पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति योजना के अंतर्गत प्रदेश में अल्पसंख्यक मामलात विभाग द्वारा अल्पसंख्यक वर्ग के 1,45,359 छात्रों को पिछले 5 सालों में छात्रवृत्ति प्रदान की गई। 2014 में सबसे ज्यादा 43,233 छात्रों को छात्रवृत्ति मिली। वहीं 2017 में सबसे कम 15,842 छात्रों को छात्रवृत्ति मिली। जानिए.. पिछले 5 सालों में कितने छात्रों को छात्रवृत्ति मिली।