सरकार बालिका शिक्षा को बढावा देने के लिए लगातार कर रही है कार्य-स्वायत्त शासन मंत्री

girls education

जयपुर, 19 नवम्बर। स्वायत्त शासन एवं नगरीय विकास मंत्री शांति धारीवाल ने कहा कि राज्य सरकार प्रदेश में बालिकाओं को सस्ती व सुलभ शिक्षा के लिए लगातार कार्य कर रही है। 5 हजार नामांकन वाले विद्यालयों को कन्या महाविद्यालय में क्रमोन्नत किया गया है। उन्होंने कहा कि आने वाला बजट युवाओं पर केंद्रित होगा जिसमें शिक्षा, खेल एवं कौशल विकास के लिए युवाओं को अनेक तौहफे मिल सकेंगे।

स्वायत्त शासन मंत्री शनिवार को कोटा के राजकीय जानकीदेवी बजाज कन्या विज्ञान महाविद्यालय के छात्रसंघ शपथ ग्रहण समारोह को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार बालिका शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए अनेक योजनाएं लेकर आई है। बालिकाओं को सस्ती सुलभ शिक्षा मिले इसके लिए अनेक महाविद्यालय खोले गए हैं। बालिकाओं को आने जाने के लिए विभिन्न योजनाओं में स्कूटी वितरण का प्रावधान किया गया है। उन्होंने कहा कि सरकार युवाओं के कल्याण के लिए सदैव तत्पर है, माननीय मुख्यमंत्री ने आने वाला बजट युवाओं को समर्पित बताया है, ऎसे में युवाओं के शैक्षणिक उन्नयन, खेलों की सुविधा तथा कौशल विकास के लिए अनेक प्रावधान किए जाएंगे, जिससे प्रदेश का युवा अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपनी प्रतिभा दिखा सकें।

उन्होंने कहा कि आज पूर्व प्रधानमंत्री इन्दिरा गांधी एवं लक्ष्मीकुमारी चुड़ावत का जन्म दिवस है। इन्दिरा गांधी जी को पूरा विश्व आयरन लेडी के रूप में जानता है, शिक्षा प्राप्त कर सभी बालिकाऎं उनके जीवन से प्रेरणा लें। उन्होंने कहा कि जेडीबी कॉलेज 65 सालों से बालिका शिक्षा के क्षेत्र में संभाग में अग्रणी रहा है, इसका वैभव हमेशा बना रहे, नेट के मूल्यांकन में ए-ग्रेड मिल सके इसके लिए समन्वित प्रयास किये जायें। उन्होंने कॉलेज छात्रसंघ पदाधिकारियों से आव्हान किया कि वे छात्राओं की समस्याओं के निराकरण के लिए मिलकर कार्य करें तथा कॉलेज का सम्मान बढ़ाने के लिए प्रयास करें। उन्होंने कॉलेज प्रशासन तथा छात्रसंघ पदाधिकारियों की मांग पर जेडीबी कॉलेज में फुटपाथ निर्माण, अन्य आवश्यक मरम्मत कार्य करवाने तथा पानी की पुख्ता निवासी के लिए नाला निर्माण की व्यवस्था करने का आश्वासन दिया।

उन्होंने कहा कि महाविद्यालय में खाली जमीन पर बालिकाओं की खेल सुविधाओं के लिए खेल मैदान का निर्माण का प्रयास किया जाऎगा। उन्होंने बालिका छात्रावास में आवश्यक सुविधाओं के लिए भी राज्य सरकार के स्तर पर पहल करने का भरोसा दिलाया। उन्होंने कहा कि सरकार ने खेलों को बढ़ावा देने के लिए पहलीबार ग्रामीण ओलंपिक आयोजन किया है जिसमें तीन पीढियों को खेलने का मौका मिला है। उन्होंने कहा कि आने वाले समय में शहरी क्षेत्र के नागरिकों के लिए भी ओलंपिक खेलों का आयोजन किया जायेगा जिससे युवाओं की खेल प्रतिभा निखर सकें।

कॉलेज प्राचार्य डॉ संजय भार्गव ने महाविद्यालय का प्रतिवेदन प्रस्तुत करते हुए सेल्फ फाइनेंस स्कीम में संचालित संकायों को राजकीय स्तर से शुरू करने, नेट मूल्यांकन के लिए कॉलेज परिसर में आवयश्क निर्माण कार्य करवाने, कॉलेज भवन के अंदर पानी निकासी के लिए स्थाई समाधान करवाने के संबंध में अवगत कराया। छात्रसंघ अध्यक्ष अंजली मीणा ने अतिथियों का स्वागत करते हुए कॉलेज में आवश्यक सुविधाओं के विस्तार के संबंध में अतिथियों के समक्ष विचार रखें।

इस अवसर पर मुख्य अतिथि स्वायत्त शासन मंत्री ने छात्र संघ कार्यालय का फीता काटकर उद्घाटन किया तथा पदाधिकारियों छात्रसंघ अध्यक्ष अंजनी मीणा, महासचिव मुस्कान राठौर, उपाध्यक्ष महिमा पालीवाल, संयुक्त सचिव सेलिन पहाड़िया को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई। पदाधिकारियों के परिजनों का भी सम्मान किया गया।

समारोह में समाजसेवी अमित धारीवाल, शिवकांत नंदवाना, डॉ. जफर मोहम्मद, सहायक निदेशक कॉलेज शिक्षा रघुराज परिहार, व्याख्याता निमेश कुमार, धर्मसिंह सहित बड़ी संख्या में गणमान्य नागरिक एवं कॉलेज छात्राएं उपस्थित रहीं।