गुरुजी निगल रहे बच्चों का निवाला

Mid Day Meal
File photo

बेचने जा रहे थे गेंहू और चावल ग्रामीणों ने पकड़ा

मौके से हुए फरार, पिकअप वाहन में 10 कटटे पोषाहार के भर रखे थे

जयपुर/बूंदी। एक ओर तो सरकार विद्यालयों में नामांकन बढ़ाने, उपस्थिति में वृद्धि करने, ड्राप आउट रोकने व बच्चों के सीखने के स्तर को बढ़ाने के लिए स्कूलों में मिड—डे—मील कार्यक्रम चला रही है, वहीं सरकारी स्कूलों के गुरुजी ही सरकार की इस योजना पर पानी फेर रहे हैं। ऐसा ही वाकया आज सुबह बूंदी जिले में हुआ। बूंदी के भजनेरी गांव में पोषाहार का सामान बेचने जाते हुए आज दो शिक्षकों को ग्रामीणों ने दबोच लिया, लेकिन वे मौका पाकर वहां से भाग गए। उन्होंने एक पिकअप वाहन में 10 कटटे पोषाहार के गेंहू और चावल के भर रखे थे।

ये है मामला

बूंदी जिले के देई थाना क्षेत्र के राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, भजनेरी के दो शिक्षक पोषाहार का राशन बेचने जा रहे थे, कि रास्ते में ही उन्हें ग्रामीणों ने पकड़ लिया। इनमें से एक शिक्षक पोषाहार प्रभारी है। ये दोनों पिकअप गाड़ी में भरकर पोषाहार के गेहूं और चावल को बेचने जा रहे थे। ग्रामीणों ने उन्हें रास्ते में दबोच लिया। कटटों पर पोषाहार राशन का टैग भी लगा हुआ था। ग्रामीण सरपंच प्रश्नबाई के साथ पहुंचे। ग्रामीणों को आता देख दोनों शिक्षक मौका देखकर भाग छूटे। ग्रामीणों की सूचना पर देई थाना पुलिस मौके पर पहुंची और जिस वाहन में पोषाहर के कटटे भरे हुए थे उसे कब्जे में ले लिया।

सूचना मिली है मालूम करता हूं

मैं पिछले कई दिनों से अवकाश पर हूं। मुझे ग्रामीणों के माध्यम से शिक्षकों द्वारा पोषाहर बेचने जाने की जानकारी मिली। इसके बारे में जानकारी कर रहा हूं, तभी कुछ बता सकूंगा। मैं जब छुटटी पर गया था वहां पोषाहार का स्टॉक पूरा था।

-रामदयाल सोनवाल, प्रिंसिपल, राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, भजनेरी

जहां बन रहा वहां ले जा रहे थे

हम तो पोषाहार जहां बन रहा है वहां बड़े स्कूल में लेकर जा रहे थे। हम कोई बेचने नहीं जा रहे थे। ग्रामीणों ने गलत समझ लिया और पुलिस में शिकायत कर दी।

-रामरतन नागर, आरोपित अध्यापक