जानें का कब आएगा रिजल्ट, इस तरह देखें अपना परिणाम

CDS Exam Result RPSC TEACHER
Exam Result

RBSE 12th Result 2018

राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (RBSE) का 12वीं कक्षा का रिजल्ट वेबसाइट www.rajeduboard.rajasthan.gov.in पर देख सकते है।

जयपुर। राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (RBSE) का 12वीं कक्षा का रिजल्ट अगले हफ्ते घोषित होने की संभावना है। बताया जा रहा है कि बोर्ड परीक्षार्थियों का इंतजार खत्म करते हुए मई के तीसरे हफ्ते में 12वीं बोर्ड परीक्षा के नतीजे जारी कर सकता है। हालांकि अभी तक बोर्ड की ओर से परिणाम घोषित करने की कोई तारीख जारी नहीं की गई है। छात्र अपना परीक्षा परिणाम बोर्ड की ऑफिशियल वेबसाइट www.rajeduboard.rajasthan.gov.in पर देख सकते है। गौरतलब है कि पिछले साल जारी किए गए रिजल्ट के आधार पर ही राजस्थान का बोर्ड अगले हफ्ते में आने की उम्मीद की जा रही है।उम्मीद है कि 12वीं कक्षा के आर्ट के छात्रों का परिणाम पहले घोषित किया जाएगा। इसके बाद साइंस और कॉमर्स स्ट्रीम का रिजल्ट घोषित किया जाएगा। आपको बता दें कि राजस्थान बोर्ड में साइंस और कॉमर्स स्ट्रीम से ज्यादा आर्ट स्ट्रीम में स्टूडेंट हैं। साल 2017 में भी आर्ट स्ट्रीम का रिजल्ट अलग से जारी किया गया था। राजस्थान बोर्ड में कक्षा 12 की परीक्षाएं 2 अप्रैल को संपन्न हो गई थी।

सवा 8 लाख छात्रों ने कराया पंजीकरण

साल 2018 में करीब 8 लाख 26 हजार छात्रों ने बोर्ड एग्जाम के लिए पंजीकरण कराया था। इसमें से 42,665 कॉमर्स स्ट्रीम, 246,254 साइंस स्ट्रीम के लिए और 5 लाख 37 हजार आर्ट स्ट्रीम के लिए थे। वहीं 10वीं कक्षा की परीक्षाएं 7 मार्च से शुरू होकर 4 अप्रेल को संपन्न हुई थी। साल 2017 में दसवीं कक्षा का परिणाम जून में जारी किया गया था।

अपना रिजल्ट देखने के लिए इन स्टेप्स को फॉलो करें….

– सबसे पहले आधिकारिक वेबसाइट पर जाएं।

– उसके बाद राजस्थान बोर्ड रिजल्ट 2018 पर जाएं।

– लिंक पर क्लिक करने के बाद मांगी गई जानकारी अपलोड करें।

– उसके बाद अपने नतीजे देख लें और उसे प्रिंट कर लें।

फीस एक्ट की पालना नहीं करने पर सात हजार स्कूलों को थमाया नोटिस

फीस को लेकर बनाए कानून पर लापरवाही बरतने पर वाले स्कूलों के प्रति शिक्षा विभाग अब गंभीर हो गया है. विभाग ने इस कानून की अवहेलना करने पर स्कूलों की एनओसी तक रद्द करने का फैसला किया है. इसके तहत प्रदेश की करीब सात हजार निजी स्कूलों को फीस एक्ट की पालना नहीं करने पर मान्यता समाप्त करने का नोटिस थमाया गया है। शिक्षा विभाग की ओर से निजी स्कूलों के खिलाफ की गई यह सबसे बड़ी कार्रवाई है. करीब 7 हजार निजी स्कूलों को फीस एक्ट का पालन नहीं करने के कारण मान्यता समाप्ति का नोटिस थमाया गया है. उन्हें आखिरी मौका देते हुए कहा गया है कि या तो वे 7 दिन में स्कूल स्तरीय फीस कमेटी बनाकर कानून का पालन कर लें वरना उनकी मान्यता समाप्त कर दी जाएगी. नोटिस के दायरे में सभी निजी स्कूल हैं चाहे वे राजस्थान बोर्ड से संबद्ध हो या सीबीएसई से. जयपुर में करीब साढ़े पांच सौ निजी स्कूलों को नोटिस भिजवाया गया है। प्रदेश के इन सात हजार से अधिक निजी स्कूलों में अब तक भी फीस कमेटी नहीं बनी है. ये कमेटियां 6 महीने पहले ही बन जानी चाहिए थी. जयपुर के विद्याश्रम स्कूल मामले में अड़ियल रवैये पर विभाग ने एनओसी रद्द करने तक का फैसला किया है. इसके अलावा बाकी उन सभी स्कूलों को नोटिस दिया गया है, जिन्होंने अब तक स्कूल स्तरीय फीस कमेटी नहीं बनाई है. नोटिस में स्कूलों को 7 दिन में कानून का पालना करने का अवसर दिया गया है. नोटिस में कहा गया है कि विभाग की एनओसी के बाद ही उन्हें सीबीएसई या अन्य बोर्ड की संबद्धता प्राप्त होती है. इसलिए वे राज्य सरकार के नियम और अधिनियम का पालन करने के लिए बाध्य हैं. अगर ऐसा नहीं किया जाता है तो विभाग राजस्थान गैर सरकारी शैक्षिक संस्था अधिनियम 1989 और नियम 1993 के नियम 07 के तहत मान्यता समाप्त और एनओसी को निरस्त करने की कार्रवाई कर सकता है। हालांकि जयपुर के बड़े स्कूल शिक्षा विभाग के नियमों का तोड़ निकालने में जुटे हैं. जयपुर में विद्याश्रम, सोफिया स्कूल द्वारा फीस नियमों की पालना पर सरकारी कार्रवाई की गई है. वहीं अब एसएमएस स्कूल द्वारा भी फर्जी कमेटियां बनाने की शिकायतें विभाग को मिल चुकी हैं. इस पर भी विभाग कार्रवाई में जुटा है।

बालिकाओं को 10 मई से देंगे प्रशिक्षण

उदयपुर। स्टेट क्राइम रिकॉर्ड्स ब्यूरो के पुलिस अधीक्षक पंकज चौधरी ने बताया कि बालिकाओं को पुलिस और न्याय प्रक्रिया के लिए जागरूक करने वाली सारथी योजना 10 मई को बीएन कॉलेज ग्राउंड पर शुरू होगी। राज्य की एक लाख बालिकाओं को प्रशिक्षण दिया जाएगा। पुलिस लाइन में शनिवार को चौधरी ने बताया कि अभियान का मुख्य उद्देश्य बालिकाओं काे पुलिस, न्याय प्रक्रिया और सूचनाओं से रूबरू कराना है। ताकि वे अपने अधिकारों को जान सकें और यह जानकारी घर-घर तक पहुंचा सकें। सारथी उदयपुर रेंज प्रभारी एसआई गिरधारी सिंह ने बताया कि जिला मुख्यालय पर तीन माह की निशुल्क कार्यशाला में बालिकाओं और महिलाओं को आत्म रक्षा, पुलिस नवाचारों की जानकारी देंगे।

हर थाना स्तर पर 10 बालिकाओं को सर्टिफाइड सारथी वॉलंटियर : चौधरी ने बताया कि सीएलजी सदस्यों की तरह प्रत्येक थाने से सर्टिफाइड सारथी वॉलंटियर बनाएंगे। किसी भी महिला के साथ कोई भी अत्याचार हुआ है और थाने में सुनवाई नहीं हो रही है तो उनकी मदद सारथी वॉलंटियर करेगी। इन वॉलंटियर को उच्चाधिकारियों के फोन नंबर दिए जाएंगे और सीधी शिकायत सुनी जाएगी। उदयपुर संभाग में करीब 300 सारथी वॉलंटियर बनाई जाएंगी।