MHRD : अनट्रेंड टीचरों की लिस्ट पोर्टल पर डालने के आदेश

MHRD The Ministry of Human Resource Development, formerly Ministry of Education, is responsible for the development of human resources in India

MHRD : अनट्रेंड टीचरों की लिस्ट पोर्टल पर डालने के आदेश

उदयपुर। केन्द्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय MHRD ने देशभर के निजी और सरकारी स्कूलों में अप्रशिक्षित शिक्षकों को 31 मार्च 2019 तक हर हाल में डीएलएड (डिप्लोमा इन एलीमेंट्री एजूकेशन) कोर्स करना अनिवार्य कर दिया है। कोर्स नहीं करने वाले शिक्षकों को स्कूल से हटाया जा सकता है। मंत्रालय ने इस संबंध में शिक्षा विभाग को पत्र जारी कर कहा है कि सरकारी, अनुदानित और गैर अनुदानित निजी स्कूलों में कार्यरत अप्रशिक्षित शिक्षकों को नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ ओपन स्कूलिंग (एनआईओएस) के माध्यम से डीएलएड कोर्स करना जरूरी है जो ओपन डिस्टेंस लर्निंग प्रोग्राम के तहत होगा। इसके लिए प्रारंभिक शिक्षा निदेशक को राज्य समन्वयक नियुक्त किया गया है।

निदेशक ने जिला शिक्षा अधिकारियों को  15 सितम्बर तक अपने जिले में कार्यरत सभी अप्रशिक्षित अध्यापकों का एनआईओएस में पंजीकृत करवाने के लिए कहा है। पंजीयन नहीं कराया तो उनकी सेवा समाप्ति की कार्रवाई होगी। इसकी सूचना डीईओ को बीकानेर शिक्षा निदेशालय में देनी होगी।

अनट्रेंड शिक्षकों की लिस्ट पोर्टल पर डालनी होगी

राज्य सरकार ने शिक्षा विभाग को सरकारी, अनुदानित और गैर अनुदानित निजी स्कूलों में कार्यरत अप्रशिक्षित शिक्षकों का एनआईओएस के ऑनलाइन पोर्टल पर डाटाबेस तैयार कराने के निर्देश दिए हैं। जिसकी नियमित मॉनिटरिंग से ये पता लगेगा कि ऐसे शिक्षकों ने प्रशिक्षण ले लिया है या नहीं। निजी स्कूलों के संस्था प्रधानों से इस बात का प्रमाण पत्र लिया जाएगा कि उनके स्कूलों में सभी शिक्षक प्रशिक्षित हैं।

डीएलएड करने के लिए ये योग्यता जरूरी

जानकारी के अनुसार डीएलएड कोर्स में प्रवेश के लिए अगर किसी शिक्षक के कक्षा 12वीं में 50 फीसदी से कम अंक हैं तो उन्हें 12वीं में पुन: प्रवेश लेकर 50 फीसदी अंक हासिल करने होंगे, तभी यह कोर्स कर सकेंगे। सत्र 2007-8 में तत्कालीन सरकार के कार्यकाल में प्रदेश भर में विधवा, परित्यक्ता आदि श्रेणी में कई अप्रशिक्षित शिक्षकों को ट्रेनी के रूप में 2750 रुपए मासिक मानदेय पर लगाया गया। इनमें कुछ ने प्रशिक्षण लिया, जिन्हें नियमित वेतन दिया जा रहा है।