NEET कट ऑफ की मार्क्स रेंज

CDS Exam Result RPSC TEACHER
Exam Result

NEET कट ऑफ की मार्क्स रेंज

नेशनल एलिजिबिलिटी कम एंट्रेस टेस्ट फेज 1 और 2 के परिणाम सीबीएसई ने तय तारीख से एक दिन पहले मंगलवार को घोषित कर दिए। परिणाम में इस बार कोटा में कोचिंग करने वाले छात्रों की धाक रही। नीट के टॉप 10 में से टॉप थ्री के अलावा अन्य 6 छात्र भी कोटा में पढ़ने वाले हैं।

ऑल इंडिया में पहली रैंक 99.999863 पर्सेंटाइल के साथ हेत शाह की रही। एकांश गोयल ने दूसरा और निखिल बाजिया ने तीसरा स्थान हासिल किया। टॉप टेन छात्रों में कोटा कोचिंग से जुड़े द्विती शाह छठे, जपनूर कौर सातवें और उत्कर्ष आनंद दसवें स्थान पर रहे। 15 ट्रांसजेंडर भी नीट के लिए रजिस्टर्ड थे। इनमें से नौ परीक्षा बैठे। कुल 4 ट्रांसजेंडर ने एग्जाम क्वालीफाइड किया गया। एक आल इंडिया 15% कोटे में शामिल था। नीट फर्स्ट, 1 मई को और नीट सैकंड 24 जुलाई को कंडक्ट किया गया था।

7,31,223 बच्चों ने नीट दिया था
4,09,477 बच्चे क्वालीफाइड हुए
3,69,649 लड़के
4,32,930 लड़कियां
15 ट्रांसजेंडर

कुल इतनी सीटों पर हाे सकती है काउंसलिंग

अभी तक नीट का काउंसलिंग शिड्यूल जारी नहीं किया गया है। लेकिन उपलब्ध आंकड़ों के अनुसार कुल 53380 सीटों पर काउंसलिंग कॉल आया जा सकता है। एक्सपर्ट मानते हुए काउंसलिंग में सही तरीके से भाग लेने पर एक लाख रैंक वाले स्टूडेंट्स वाले को कॉलेज अलॉट हो सकते हैं। 27490 सरकारी सीटों, 22840 ट्रस्ट की सीटों, 1150 गवर्नमेंट सोसायटी की सीटों, 750 प्राइवेट सीटों, 750 सोसायटी सीटों 400 यूनिवर्सिटी की सीटों के लिए काउंसलिंग कॉल किया जा सकता है।

अगर कुल परिणामों पर नजर डालें तो इस बार सलेक्शन रेशो बढ़कर 20 से 22 प्रतिशत हो गया है। इसका कारण ऑल इंडिया मेडिकल सीटों के लिए कॉमन टेस्ट कंडक्ट करवाने से स्टूडेंट्स का ध्यान कई एग्जाम में नहीं बंटना रहा। एक्सपर्ट्स के अनुसार नीट 1 की दावेदारी छोड़ नीट 2 देने वाले को नुकसान हुआ है। नीट फर्स्ट की तुलना में नीट सैकंड पेपर बहुत ही टफ रहा था।

एक्सपर्ट ने इसका कारण बताते हुए कहा कि नीट 2 की तैयारी के लिए स्टूडेंट्स को दो से ढाई महीने मिले थे। इसलिए दोनों फेज के परिणामों को संतुलित करने के लिए नीट 2 पेपर टफ रहा। दूसरा जिन स्टूडेंट्स ने नीट 1 के पेपर के अनुसार ही नीट 2 की तैयारी की तो ऐसे में उनको नुकसान उठाना पड़ गया। इस बारे में नीट 1 छोड़ नीट 2 देने वाली रूपेश शेखावत कहती हैं कि मेरे नीट 1 में 425 मार्क्स बन रहे थे और अब नीट 2 में 419 मार्क्स बने हैं ऐसे में मुझे 6 नंबरों का नुकसान हो गया।