नई राज्‍य युवा नीति में होगी युवाओं की सक्रिय भागीदारी

नई राज्‍य युवा नीति में युवाओं के सुझावों को ध्‍यान में रक्‍खा जाएगा। युवाओं की सक्रिय भागीदारी एवं उनको ध्यान में रखकर,उनके सुझावों के आधार पर बनायी जाएगी नवीन राजस्थान राज्य युवा नीति यह जानकारी जयपुर स्थिति महारानी कॉलेज में आयोजित एक दिवसीय युवा नीति पारिसंवाद कार्यक्रम की अध्यक्षता करते हुए राजस्थान युवा बोर्ड अध्यक्ष श्री सीताराम लांबा ने दी।

राजस्थान युवा बोर्ड अध्यक्ष श्री सीता राम लांबा ने बताया कि राजस्थान के यशस्वी मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत कि यह सोच है कि राज्य में ऐसे युवा नीति बने जिसमें युवाओं की सक्रिय भागीदारी हो एवं उन्हें शिक्षा,स्वास्थ्य,स्वरोजगार,कौशल एवं सामाजिक मूल्यों से जोड़ने वाली हो। उन्होंने बताया कि नवीन युवा नीति के प्रारूप के लिए हम राज्य के कोने कोने में जाकर युवाओं से ही उनकी सुझाव एवं सहयोग के लिए कार्यशालाएं कर रहे हैं ताकि हमारी युवा नीति युवाओं को केंद्रित कर बने एवं उनका सर्वांगीण विकास करने वाली हो। उन्होंने युवाओं से आह्वान भी किया कि युवा अपनी ताक़त को पहचानकर देश एवं राज्य के निर्माण में भागीदारी दें।

श्री लांबा ने परिसंवाद कार्यक्रम में बताया कि राज्यसरकार द्वारा युवाओं के लिए वर्तमान में विभिन्न योजनाए एवं कार्यक्रम चलाए जा रहे हैं।उन्होंने बताया कि हाल ही में मुख्यमंत्री श्री अशोक गहलोत द्वारा 300 करोड़ की लागत से दिल्ली में नेहरू ट्रांजिट छात्रावास की शुरुआत की जा रही है जिससे राजस्थानी युवाओं के सपनों को पंख मिल सकेंगे

राज्य नवीन युवा नीति प्रारूप परिसंवाद कार्यक्रम में राजस्थान विश्वविद्यालय के कुलपति श्री राजीव जैन ने बताया कि राज्य की नवीन युवा नीति में युवाओं की भागीदारी तो हो ही इसके साथ ही युवा राज्य सरकार की विभिन्न योजनाओं से कनेक्ट ही नहीं कनेक्शन स्थापित करें ताकि युवाओं के विकास के लिए एक स्वस्थ वातावरण मिल सके।
परिसंवाद कार्यक्रम में राजस्थान युवा बोर्ड उपाध्यक्ष श्री सुशील पारीक ने बताया कि हमारी युवा नीति कैसी बने उसके लिए हम विभिन्न परिसंवाद कार्यक्रमों के माध्यम से युवाओं से सुझाव माँगे रहे हैं जिससे कि इन सुझावों के आधार पर एक सफल युवा नीति बन सके एवं इस नीति से युवाओं का सर्वांगीण विकास हो सके।

युवा नीति परिसंवाद कार्यक्रम में युवा बोर्ड सदस्य सचिव श्री कैलाश पहाड़िया ने बताया कि राज्य की नवीन युवा नीति प्रारूप में शिक्षा, स्वास्थ्य,खेल,स्वरोजगार,कौशल,मनोबल,सामाजिक मूल्य,युवाओं की राजनीति में भागीदारी एवं वंचित वर्ग के युवाओं को मुख्यधारा से जोड़ना इन सभी विषयों को ध्यान में रखकर एक टोटली इंक्लूसिव युवा नीति बनायी जाएगी एवं इन्हीं विषयों पर युवाओं से सुझाव भी माँगे जा रहे है ।
युवा नीति प्रारूप परिसंवाद कार्यक्रम में संयुक्त राष्ट्र संघ की संस्था यूएनएफपीए कोर्डिनेटर मनीष कुमार , महारानी महाविद्यालय की प्राचार्य श्रीमती मुक्ता अग्रवाल एवं महारानी कॉलेज की छात्राएँ भी उपस्थित रहे।