अब सरकारी स्कूलों में ठहराव व नामांकन लक्ष्य पाने पर मिलेगा ‘उजियारी पंचायत’ सम्मान

shivira shiksha vibhag rajasthan shiksha.rajasthan.gov.in

मापदंड पूरे करने पर मिलेगा सम्मान

बांसवाड़ा। शैक्षिक सत्र 2018-19 में राजकीय विद्यालयों में अधिकाधिक नामांकन के लक्ष्य को लेकर इस बार शिक्षा विभाग ने नवाचार किया है। इसके अन्तर्गत नामांकन वृद्धि और ठहराव के लिए अभियान चलाया जाएगा। पूर्ण नामांकन और ठहराव का लक्ष्य प्राप्त करने वाली अनामांकन और ड्राप आउट मुक्त पंचायतों को ‘उजियारी पंचायत’ (‘Uziyarri Panchayat’) के रूप में चिह्नित कर सम्मानित किया जाएगा। प्रदेश में पांच से 18 वर्ष तक के बालक-बालिकाओं को शिक्षा से जोडऩे के लिए नवीन शैक्षिक सत्र में नामांकन में बढ़ोतरी, अनामांकित और ड्रॉप आऊट बच्चों को विद्यालय से जोडऩे के लिए इस वर्ष दो चरणों में प्रवेशोत्सव मनाया जाएगा। पहला चरण 26 अप्रेल से नौ मई और दूसरा चरण 19 जून से तीन जुलाई तक चलेगा।

अन्य विभागों का लेंगे सहयोग

प्रवेशोत्सव और ‘उजियारी पंचायत’ के लिए शिक्षा विभाग अन्य विभागों के सहयोग से कार्य योजना बनाएगा। इसमें महिला एवं बाल विकास, ग्रामीण विकास और पंचायतीराज सहित ग्राम स्तर पर क्रियाशील विभागों के साथ समन्वय कर नामांकन वृद्धि के लिए कदम उठाए जाएंगे। साथ ही जन प्रतिनिधियों को भी ‘उजियारी पंचायत’ बनाने के लिए जोड़ा जाएगा।

यह भी होगी कवायद

‘उजियारी पंचायत’ के लिए पीईईओ हाउस होल्ड सर्वे के लिए पंचायत के विद्यालयों से वार्डवार शिक्षकों की नियुक्ति करेंगे। सर्वे के आधार पर ही अनामांकित बच्चों की सूची तैयार की जाएगी। सर्वे के दौरान सार्वजनिक स्थानों पर निवासरत परिवार के बच्चों को चिह्नित करेंगे। सर्वे प्रवेशोत्सव के पहले चरण में पूर्ण कर चिह्नित बच्चों का नामांकन किया जाएगा। बोर्ड कक्षाओं के अतिरिक्त कक्षाओं के परिणाम के दिन विद्यालय में शिक्षा संगम कार्यक्रम भी होगा, जिसमें अभिभावकों व ग्रामीणों को आमंत्रित किया जाएगा।

यह तय किए मापदंड

‘उजियारी पंचायत’ में यह सुनिश्चित किया जाएगा कि तीन से छह वर्ष तक की आयु के बच्चे पूर्व प्राथमिक शिक्षा के लिए समीप आंगनवाड़ी केंद्र में नामांकित हैं। छह वर्ष तक के बच्चे आंगनवाड़ी, अनामांकित और ड्रॉप आउट का चिह्निकरण कर उनका नामांकन पहली कक्षा में करा दिया गया है। 5वीं, 8वीं और 10वीं उत्तीर्ण या इनकी परीक्षा में प्रविष्ट विद्यार्थियों का चिह्निकरण कर उनका नामांकन अगली कक्षा में करा दिया गया है। कोई भी विद्यार्थी 45 दिन या इससे अधिक विद्यालय से अनुपस्थित नहीं रहा है। यदि कोई 45 दिन विद्यालय से अनुपस्थित रहा है तो उसे पुन: आयु अनुरूप कक्षा में प्रवेश दिलाकर अध्ययन कराया जा रहा है। हाउस होल्ड सर्वे में चिह्नित आउट ऑफ स्कूल बच्चों को विशेष शिक्षण कराकर आयु अनुरूप कक्षा में प्रवेश दिया है।

इनका कहना है

&यह नवाचार अधिकाधिक नामांकन वृद्धि में सहायक साबित होगा। जिला, ब्लॉक व पंचायत स्तर के कार्मिकों को निर्देश दिए हैं ताकि अधिकाधिक पंचायतें उजियारी पंचायतें बन सकें।

-प्रेमजी पाटीदार, डीईओ प्रारंभिक