Open Letter : KOTA IITJEE विद्यार्थियों के अभिभावकों को खुला पत्र

dr ravi kumar collector kota rajasthan कोटा में अपने बच्‍चों को पढ़ा रहे अभिभावकों को वहां के कलक्‍टर का खुला पत्र
dr ravi kumar collector kota rajasthan कोटा में अपने बच्‍चों को पढ़ा रहे अभिभावकों को वहां के कलक्‍टर का खुला पत्र

Open Letter : KOTA IITJEE विद्यार्थियों के अभिभावकों को वहां के कलक्‍टर का खुला पत्र

इंजीनियर और डॉक्टर बनने का सपना लिये देश के अलग-अलग हिस्सों से महज 15 से 18 साल की उम्र के बच्चे आपको आजकल रेलवे स्टेशनों पर मिल जाएंगे। इन बच्चों में से ज्यादातर छात्रों का कारवां राजस्थान के कोटा के लिए रुख करता दिखेगा।

इनके साथ चल रहे बच्चों के मां-बाप के चैहरे पर तब एक अजीब सा शुकून दिखता है जब उनके बच्चों का दाखिला कोटा के किसी कोचिंग में हो जाता है। दरअसल कोटा में चल रहे कोचिंग इंस्टीट्यूट के प्रति भरोसा उन्हे यहां खींच लाता है। यहां के कोचिंग सेंटर में पढ़कर कई छात्र आईआईटी जैसे संस्थानों नें दाखिला पाने में सफल होते हैं। और जो सफल नहीं हो पाते वो इस तरह टूट जाते हैं कि जिंदगी की जंग में हार मानने को राजी हो जाते हैं। पिछले कुछ महिनों में कोटा में बढ़े सुसाइड के केस को देखते हुए कोटा के जिला कलैक्टर ने अभिवावकों के नाम खुला पत्र (Open Letter) लिखा है। जिसे हर मम्मी-पापा को जरूर पढ़ना चाहिए

प्रिय अभिभावकगण,

कोटा शहर की ओर से मुझे आपके बच्चों का इस शिक्षा नगरी में स्वागत करने का अवसर मिला है। ये शहर इस देश के युवा मस्तिष्क को आधुनिक भारत का निर्माता बनाने में ऊर्जा देने का कार्य करता है । इस पत्र को आरंभ करने से पूर्व मेरा अभिभावकों से निवेदन है कि वे इसे पर्याप्त समय देकर संयमपूर्वक पढ़ें, तथा उपयुक्त होगा कि अभिभावक अर्थात माता – पिता साथ साथ पढ़ें। प्रत्येक माता – पिता का सपना होता है कि उनका बच्चा सफलता के उस मुकाम तक पहुंचे जहां कुछ लोग ही पहुंच पाते हैं । इसके लिए माता – पिता अपने बच्चे के मस्तिष्क में एक बीजारोपण करते हैं तथा उसका सही पोषण ही सफलता का आधार है ।

माता-पिता के लिए ये अत्यंत कठीन स्थिति होती है कि वे अपने बच्चे को ऐसी जगह छोड़ते हैं जहां वे स्वयं नहीं रहते। ये और भी मुश्किल तब हो जाता है जब बच्चे को शिक्षा के क्षेत्र में उत्कृष्ट और प्रतिबद्ध प्रयासों के लिए छोड़ा गया हो। जब माता – पिता बोर्ड/होर्डिंग/अखबारों में उन प्रतिभावान बच्चों के क्षेत्र को देखते हैं जो कि उन्होंने अपने बच्चों के लिए सोचा है तो उनका संकल्प अपने बच्चों को प्रेरित करने के लिए ओर मजबूत हो जाता है। एक अच्छे आर्थिक स्थिति और जीवन स्तर के लिए इंजिनियरिंग और चिकित्सा के क्षेत्र में अच्छा केरियर निश्चित रूप से हो सकता है, जब मैं ईमानदारी से सोचता हूं तो यही एक बड़ा कारण है जो अभिभावकों को इंजिनियरिंग और चिकित्सा के क्षेत्र में अपने बच्चों का भविष्य देखने के लिए प्रेरित करता है। तथा सीमित संसाधनों और उच्च स्तरीय प्रतियोगिता को देखते हुए समय से आगे की सोचना गलत भी नहीं हैं।

हालांकि मुझे लगता है कि हम सब इस बात से सहमत है कि दुनियां पिछले 15-20 सालों में इतनी बदल गई है कि जो सुविधाएं और सेवाएं कुछ सीमित लोगों के लिए उपलब्ध थी , वे वर्तमान में प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में भारी प्रगति के कारण अब सभी लोगों के लिए उपलब्ध है।

मनोरंजन पेशेवर खेल, साहित्य, स्वास्थ्य, पत्रकारिता, फोटोग्राफी, इवेंटमैनेजमेंट, संगीत, पर्यटन इत्यादि में बीते युग की तुलना भारी वृद्धि देखी गई है। बहुत से लोगों ने इन क्षेत्रों में नए मुकाम हासिल किए हैं जो ना कि एक सफल केरियर विकल्प के रूप में सामने लाए बल्कि इन्होंने मनुष्य की रचनात्मक क्षमता को भी बढ़ाया है।

खैर, मैं आपसे इसे एक बेहतर विकल्प के रूप में देखने के लिए नहीं कह रहा हूं । परंतु इसे भी एक विकल्प के रूप में देख सकते हैं । ये तथ्य की बात है कि आज युवा बच्चे अपने अकादमिक प्रदर्शन के संबंध में काफी दबाव का सामना कर रहे हैं इसी वजह से इनमें से कई बच्चे तनाव के विभिन्न स्तरों से गुजरते हैं।

यदि हम सोचतें हैं कि प्रतियोगिताओं की वजह से कुछ तनाव होता है तो माता-पिता का समर्थन देखभाल और परिवार का अच्छा वातावरण किसी भी कठिन परिस्थिति का सामना करने के लिए बच्चों को सक्षम बनाता है। हालांकि मौजूदा वास्तविकता ये है कि सही परिस्थिति और समर्थन की कमी की वजह से कई बच्चे आत्महत्या के निर्णय तक पहुंच जाते हैं।

मैंने अधिकतर लोगों को ऐसे कहते हुए सुना है कि बच्चों को ऐसी कई चीजें पसंद नहीं होती जो उनके लिए अच्छी है। अब आपके मन में ये प्रश्न उठ सकता है कि माता पिता को बच्चों की अपरिपक्व इच्छाओं को मानना चाहिए ।शायद आवश्यकता नहीं तो आइए, अब देखते हैं कि बच्चे किन चीजों का विरोध करते हैं शायद सही खाना, सही समय पर सोना, सही तरीके से बात करना, मर्यादित आचरण करना, सही देखना –सुनना आदि।

बच्चे वास्तव में माता –पिता का अनुगमन करते हैं न कि किसी भी चीज का अंधा अनुसरण इसके अलावा एक बात निश्चित है कि बच्चे माता-पिता को देखते हैं एवं विचार करते है कि उन्हे जो सिखाया गया है क्या वह भी उसका पालन करते है? और क्या वें उन बातों का पालन करते हुए वास्तव में स्नेहहिल, शांत एवं खुश है।

वे अपने माता-पिता की केवल उन्ही बातों को चुनते है जो उन्हे सुख और शांति प्रदान करती है। यदि, आपने परिस्थितियों को खराब कर दिया है तो हो सकता है, आपकी संतान आपको नापसंद करे।

यह काफी विचित्र और खिझाने वाली बात हो सकती है लेकिन ऐसी संभावना है कि आपकी संतान आपको नापसंद करने लगे। इसके विभिन्न रुप हो सकते है पूर्णत: पसंद न करना, आपकी कुछ आदतों को पसंद न करना, किसी अन्य की तुलना में आपको कम पसंद करना, आपकी अत्यधिक देखभाल एवं चिंता की भावना के लिए ना पसंद करना, जिसे आप प्यार समझ सकते है, परंतु हो सकता है वह आपकी संतान के लिए अति हो आदि।

तो क्या इस पत्र का उद्देश्य आपको यह अहसास कराना है कि आपकी संतान आपको नापसंद करती है।

जी नहीं… !आपका बच्चा आपको प्यार व पसंद करता है… मैं केवल इस बिंदु पर जो देना चाहता हूं कि हम अनजाने में कभी ऐसी स्थिति पैदा ना कर दे या हालात पैदा ना कर दे कि जो हमे फिर से सोचने पर मजबूर कर दे…..

बच्चे माता-पिता की जिम्मेदारी है औऱ हमे कोई अधिकार नही है कि हम अभिभावकों को उनकी जिम्मेदारियों का अहसास कराएं, ना ही हम ऐसा करना चाहते है। सभी अभिभावक, अपने बच्चों का भविष्य सुनहरा बनाना चाहते है किन्तु यहां ये विचारणीय है कि हमारे स्वप्न और ख्वाहिशे केवल मात्र हमारे अनुभवों तक ही सीमित है। सच्चाई ये भी है कि हम यह नहीं सोच सकते, या फिर अपने सपने में भी ये विचार नहीं कर सकते है कि हमारा बच्चा हमारी सोच से कई गुना ज्यादा भी प्राप्त कर सकता है। हम सभी समाज के विभिन्न वर्गो से आते है चाहे वह सामाजिक हो या आर्थिक, या फिर कोई धर्म, या कोई विचारधारा हो। किन्तु जहां तक पालन –पोषण का मूल सिद्धांत है वह सभी के लिए समान रहता है।

मैं इस विषय का कोई ज्ञाता नहीं हूं और नहीं मुझे बच्चों के सही पालन पोषण के लिए कोई विशेष योग्यता प्राप्त है। मैं यह भी मानता हूं कि हर बच्चा चूंकि अलग होता है इसलिए एक अलग प्रकार का पालन –पोषण चाहता है। मेरा आपसे अनुरोध है कि कृपया आप इन निम्न आधारभूत मौलिक बिंदुओं की तरफ ध्यान आकर्षित करें ..

अपने घर का वातावरण अपने बच्चे के लिए खुशनुमा, प्यारभरा एवं शांति प्रिय बनाएं । ऐसे वातावरण में पला, बढ़ा बालक न केवल स्वयं शांतिप्रिय एवं संतुलित रहता है बल्कि किसी भी तनाव की स्थिति का सामना करने के लिए सक्षम रहता है।

घबराएं नहीं..! आपका बच्चा पूरी तरह से सुरक्षित है आप चिंता नहीं करें। मैं किस विषय पर आपका ध्यान आकर्षित करना चाहता हूं, मुझे विश्वास है कि पत्र में आगे पढ़ने पर आप स्वत: ही समझ जाएंगे।

मैं अपने आपको बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण व्यक्ति के रूप में मानता हूं कि क्योंकि मुझे युवा प्रतिभाशाली सुंदर और अद्भूत बच्चों के लगभग 20-25 आत्महत्या नोट पढ़ने को मिले।

क्या मैं इस तरह के बच्चों के लिए इतने सारे विशेषण दे रहा हूं क्योंकि उन्होंने आत्महत्या कर ली थी ?

मुझे क्षमा करें…! मेरा जवाब नहीं है…ये वास्तव में वैसे ही थे जैसा मैंने पहले कहा कि युवा, प्रतिभाशाली सुंदर और अद्भूत बच्चे।

एक लड़की जिसने अपने पांच पन्नों के अंग्रेजी के सुसाइड नोट में व्याकरण की एक गलती नहीं की एवं लेख भी अति सुंदर था…कितनी प्रतिभावान! उसकी मां ने उसकी परवरिश के लिए अपने केरियर का त्याग किया उसके लिए उसने अपनी मां को धन्यवाद दिया …परंतु ये बात उसे बार बार चुभ रही थी….

एक अन्य लड़की चाहती थी कि उसकी दादी अगले जन्म में उसकी माता बने…उसकी इच्छा थी कि उसकी छोटी बहन वो सब करे जो वो चाहती है। ना कि जो माता-पिता चाहते हैं..एक ने लिखा कि वो विज्ञान नहीं पढ़ना चाहती पर उससे करवाया गया…बहुतों ने कुछ लाइनों में लिखा कि अपने माता-पिता की अपेक्षाओं को पूरा नही कर सकते …कुछ ने लिखा की वो सक्षम नहीं हैं वो सब करने जो उनसे कहा गया है…सभी ने यही सोचा की इस तनाव से ज्यादा शांतिदायक और प्रयासरहित तो मौत ही है। कितना दुर्भाग्यपूर्ण है….!

जैसा कि एक हिमशैल की चोटी से हम उसकी गहराई का अंदाजा नहीं लगा सकते वैसे ही आत्महत्या के मामले भले ही कम संख्या में दिखते हैं किंतु वास्तविकता में इससे कहीं अधिक वे बच्चे है जो इस चरम कदम को तो नहीं उठाते किंतु प्रदर्शन के दबाव की वजह से बहुत ज्यादा तनाव, चिंता से गुजर रहें हैं।

बहुत सारे माता पिता इस आपदा के बाद ये विश्वास नहीं कर पाते की उनके खुद के बच्चे हैं जिन्होंने इस तरह का कदम उठा लिया। मैं आगे किसी की भी भावनाओं को आहत नहीं करना चाहता किंतु वास्तविकता यह है कि बच्चे को मानसिक रूप से किसी की तलाश थी, जैसे किसी डूबते हुए आदमी के लिए तिनके का सहारा और वो तिनके का सहारा सिर्फ आपका उस बच्चे के प्रयासों की प्रशंसा करना हो सकता था। आपको सांत्वना भरे शब्दों से उसे ये बताना होगा कि अपना श्रेष्ठ दे, परिणाम जो भी रहे आपका उसकी विशिष्ठता के लिए पूर्ण प्रशंसा करना आत्मविश्वास को बढ़ाता है लेकिन इसके बदले में बच्चों को उनके प्रदर्शन को लेकर भावनात्मक दबाव बनाया जाता है। उनके पड़ोसियों, रिश्तेदारों के बच्चों आदि से उनकी तुलना की जाती है। बच्चों के प्रदर्शन को सामाजिक प्रतिष्ठा की हानि या उपलब्धि से जोड़ दिया जाता है।

हमें ये समझने की आवश्यकता है कि आंकड़ों के अनुसार वे सभी बच्चे जो अकादमिक दबाव का सामना कर रहें हैं, की तुलना में आत्महत्या करने वाले बच्चों की संख्या कम हैं, लेकिन तुलनात्मक अध्ययन ये दर्शाता है कि उनकी आशाएं एवं सपनों को कई बार आहत किया जाता है। अत:ये उचित समय है कि हम इस संदर्भ में थोड़ा विचार करें।

बच्चों की वास्तविक जरूरतों एवं क्षमताओं को पहचाने की महत्ती आवश्यकता है । इस विषय में भी दो चरम विचारधाराएं हैं -1. बच्चे को आपके अपने सपने को हकीकत में बदलने के लिए उसकी सीमाओं से परे जाकर अथक प्रयास करवाने की या दूसरी अनावश्यक रूप से जरूरत से ज्यादा लाड प्यार की। पर अफसोस दोनों ही तरीके ही कारगर नहीं हो पाते ।

हमारा ऐसा मानना है कि हमें हमेशा शिक्षक या उपदेशक का कार्य करने की बजाए बच्चों से भी कुछ सीखने का प्रयास करना चाहिए । क्योंकि प्राय: बच्चे हमें खुशी और शांति की राह ही दिखाते हैं।

बच्चों को अपने स्वयं के सरोकारों के साथ रहने दें यानि मेरा मत है कि बच्चों को प्रकृति या वातावरण के साथ जोड़े और उनकी संवाद क्षमता को संवृद्धित करें । अगर उसका आकर्षण विपरित लिंग की ओर होता है तो ये स्वाभाविक रूप से बढ़ती उम्र का लक्षण है ना कि विकृति। इस स्वाभाविक प्रक्रिया को रोकने का प्रयास न कर सही दिशा एवं सही आकार देते हुए अपनी दृष्टि उस पर बनाए रखें । अपने बच्चों के साथ समय व्यतित करिए ।

उनकों बार-बार अपने कार्य , हालात, समस्याएं या फिर परेशानियों से अवगत ना कराएं । आपके जीवन का संघर्ष आपके बच्चे के लिए प्रेरणा बनें न की बोझ। कहीं ऐसा न हो की बहुत देर हो जाए और आपके बच्चों के पास आपके साथ समय व्यतीत करने के लिए समय ही न बचे। प्रत्येक बच्चे की क्षमता की तुलना में उसके स्वयं के माता-पिता एक सीमा तक आदर्श बन सकते हैं। जबकि उस बच्चे की क्षमता अपने माता-पिता से ज्यादा अधिक है। ऐसी स्थिति में हमें उसकी पूर्ण क्षमता प्राप्त करने के लिए एक फेसिलेटर के रूप में प्रयास करने चाहिए। आखिर में मेरा आपसे यही निवेदन है कि अपना सपना साकार करवाने के लिए आप किसी भी हद तक जा सकते हैं या अपने बच्चे को अपनी पूर्ण क्षमता को हासिल करने के लिए, उसके सपनों को साकार करने के लिए सकरात्मक माहौल सृजित करना चाहते हैं।

सामूहिक परामर्श कार्यक्रम में ऐसे विषयों पर बात करने के लिए मुझे थोड़ी हिचकिचाहट इसलिए है कि प्राय: ऐसे कार्यक्रम में आप स्वयं से ज्यादा स्वयं के पड़ौसी या अन्य किसी व्यक्ति की बातों से प्रभावित होकर मूल विषय से परे हो जाते हैं। मेरे विचारों से भिन्न अभिप्राय रखना गलत नहीं है लेकिन यह आप अपनी शर्तों पर रखे तो बेहतर है न कि किसी ओर की।

अत: आपका मूल्यवान समय लेने के लिए आपका क्षमा प्रार्थी हूं कि मैंने आपको बाल प्रबंधन की ये बातें बताने की कोशिश की। जिसका मैं विशेषज्ञ नहीं हूं । मेरे विचार कोटा में मिले अनुभव का सार है एवं निश्चित रूप से गुरूजनों की प्रेरणा से ही मैं ऐसा कर पाया हूं।

दुनियां के श्रेष्ठ माता-पिता बनिए…।

मुझे पूरा विश्वास है कि इसमें कोई स्पर्धा नहीं होगी….

डॉ रवि कुमार

जिला कलेक्टर, कोटा