Rajasthan SMILE 2.0: राजस्थान शिक्षा विभाग ने शुरू किया ‘राजस्थान स्माइल 2.0’

Rajasthan SMILE Program 2.0 | राजस्थान स्माईल 2.0 प्रोग्राम
Rajasthan SMILE Program 2.0 | राजस्थान स्माईल 2.0 प्रोग्राम

Rajasthan SMILE Program 2.0
राजस्थान शिक्षा विभाग ने शुरू किया ‘राजस्थान स्माइल प्रोग्राम 2.0’

Rajasthan SMILE Program 2.0: राजस्थान शिक्षा विभाग द्वारा, सोमवार 2 नवंबर 2020, को साझा की गयी आधिकारिक सूचना के मुताबिक कोरोना महामारी के मद्देनजर बंद रखे गये स्कूलों में जूनियर कक्षाओं के विद्यार्थियों में अध्ययन की निरंतरता बनाये रखने के उद्देश्य से राजस्थान स्माईल प्रोग्राम के माध्यम से इसमें मदद मिलेगी।

राजस्थान सरकार के शिक्षा विभाग ने सोशल मीडिया इंटरफेस फॉर लर्निंग इंगेजमेंट (Social Media Interface For Learning Engagement – SMILE) के दूसरे संस्करण को शुरू करने की घोषणा की है। राजस्थान शिक्षा विभाग द्वारा सोमवार, 2 नवंबर 2020 को साझा की गयी आधिकारिक सूचना के मुताबिक महामारी के मद्देनजर बंद रखे गये स्कूलों में जूनियर कक्षाओं के विद्यार्थियों में अध्ययन की निरंतरता बनाये रखने के उद्देश्य से स्माईल प्रोग्राम के माध्यम से इसमें मदद मिलेगी। साथ ही, स्माईल प्रोग्राम (Rajasthan SMILE Program 2.0) के माध्यम से डिजिटल माध्यम से वंचित विद्यार्थियों को भी स्टडी मैटेरियल और होम वर्क बिना रूकावट के पहुंचाने में मदद मिलेगी।

राजस्थान शिक्षा विभाग के अनुसार, “विद्यालय बन्द होने के कारण विद्यार्थियों के अध्ययन की निरंतरता के लिए अप्रेल में स्माइल कार्यक्रम लागू किया गया था। अब समस्त विद्यार्थियों को लाभान्वित करने एवं गृहकार्य प्रेषण और मूल्यांकन व्यवस्था लागू करने के लिए इस कार्यक्रम में सुधार करके इसके नवीन संस्करण स्माइल-2 की आज शुरुआत की गई है। इससे डिजिटल अध्ययन की सुविधा से नहीं जुड़ पा रहे बच्चों तक भी अध्ययन एवं गृहकार्य सामग्री निर्बाध पहुंच सकेगी और उसका शीघ्रता से मूल्यांकन करके पुनर्बलन दिया जाएगा।“

राजस्थान स्माईल 2.0 प्रोग्राम की आधिकारिक जानकारी यहां देखें

राजस्थान स्माईल 2.0 प्रोग्राम

राज्य सरकार के स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा स्टूडेंट्स को घर पर ही डिजिटल माध्यम से स्टडी मैटेरियल पहुंचाने के लिए अप्रैल 2020 में स्माईल प्रोग्राम (Rajasthan SMILE Program 2.0) शुरू किया गया था। राजस्थान स्माईल प्रोग्राम के अंतर्गत स्कूलों द्वारा स्टूडेंट्स/पैरेंट्स के साथ व्हाट्सऐप्प ग्रुप बनाया गया। स्माईल प्रोग्राम को दूसरे संस्करण में कक्षा 1 से कक्षा 8 के स्टूडेंट्स को होम वर्क आधारित बनाया गया है। वहीं, जिन स्टूडेंट्स के पास डिजिटल माध्यम नहीं है उनके लिए स्कूल प्रिंसिपल द्वारा वैकल्पिक व्यवस्था करनी होगी, जिसके अंतर्गत स्टूडेंट्स के पैरेट्स सामाजिक दूरी का पालन करते हुए स्कूल जाकर स्टडी मैटेरियस और होम वर्क मैटेरियल प्राप्त कर सकेंगे और उन्हें जमा भी कर सकेंगे। स्माईल प्रोग्राम के अंतर्गत राजस्थान शिक्षा विभाग द्वारा मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारियों, स्कूलों प्रिंसिपल, क्लास टीचर और टीचर्स की अलग-अलग जिम्मेदारी तय की है।