स्कूल खेल मैदान पर अतिक्रमण, प्रशासन मौन

shivira shiksha vibhag rajasthan December 2016 shiksha.rajasthan.gov.in district news DPC, RajRMSA, RajShiksha Order, rajshiksha.gov.in, shiksha.rajasthan.gov.in, अजमेर, अलवर, उदयपुर, करौली, कोटा, गंगानगर, चित्तौड़गढ़, चुरू, जयपुर, जालोर, जैसलमेर, जोधपुर, झालावाड़, झुंझुनू, टोंक, डीपीसी, डूंगरपुर, दौसा, धौलपुर, नागौर, पाली, प्रतापगढ़, प्राइमरी एज्‍युकेशन, प्राथमिक शिक्षा, बाड़मेर, बारां, बांसवाड़ा, बीकानेर, बीकानेर Karyalaye Nirdeshak Madhyamik Shiksha Rajisthan Bikaner, बूंदी, भरतपुर, भीलवाड़ा, माध्‍यमिक शिक्षा, मिडल एज्‍युकेशन, राजसमन्द, शिक्षकों की भूमिका, शिक्षा निदेशालय, शिक्षा में बदलाव, शिक्षा में सुधार, शिक्षा विभाग राजस्‍थान, सरकार की भूमिका, सवाई माधोपुर, सिरोही, सीकर, हनुमानगढ़

अरनोद। उपखंड क्षेत्र के बड़ीसाखथली गांव में 16 बीघा जमीन को सरकारी स्कूल के लिए आंवटित किया गया है। इस सरकारी स्कूल पर चार से पांच लोगां ने कब्जा कर रखा है। बड़ीसाखथली स्कूल के बच्चों को स्कूल भवन तो मिल गया है, लेकिन खेलने के लिए मैदान की कमी बनी हुई है। अतिक्रमण को हटाने के लिए पंचायत ने कई बार नोटीस भी जारी किए, लेकिन आलम यह है कि अतिक्रमणों को हटाने की कोई भी जहमत नहीं उठा रहा। खेल मैदान के अभाव में बच्चे अभी भी स्कूल परिसर के अंदर ही खेल रहे हैं। वहीं अन्य विकास के काम भी इस अतिक्रमण के कारण अटक रहे हैं। इस जमीन का आवंटन सरकार आपके द्वार कार्यक्रम के तहत तत्कालीन तहसीलदार महावीर प्रसाद जैन ने किया था। स्कूल के आसपास हुए अतिक्रमण को खाली कराने पत्राचार भी किया था, लेकिन इन आदेशों के बाद भी प्रशासकीय अधिकारियों ने अतिक्रमियों के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की।

केवल कागजों में सिमटी कार्रवाई

स्कूल के खेल मैदान पर जो अतिक्रमण है उसे हटाने के लिए जब भी कहा जाता है नोटिस जारी कर कागजी खानापूर्ति पूरी कर ली जाती है। कार्रवाई के लिए कभी कोई अधिकारी कर्मचारी नहीं पहुंचा इससे पहले कई बार पंचायत से सरपंच ने अतिक्रमण हटाने के लिए नोटीस भी जारी किए हैं। अरनोद उपखंड अधिकारी को भी अतिक्रमण के बारे में जानकारी है, लेकिन उसके बाद भी अब तक कोई कार्रवाई नहीं की गई है।

अतिक्रमण के बारे में हमें बताया तो गया था, लेकिन लिखित में पंचायत ने कुछ बताया गया। अब पंचायत ने हमें लिखित में दिया है। इसकी जानकारी लेकर इस पर नियमानुसार कार्रवाई करेंगे। ऐसे मामले में पहले एक बार पंचायत अपने स्तर पर प्रयास करती है और उसके बाद हमे सूचना देती है, जिस पर हमारी और से संज्ञान लेकर जो भी कार्रवाई होनी चाहिए वह की जाएगी।

-कुलराज मीणा, एसडीएम, अरनोद

प्रवेशोत्सव में ढिलाई बरतने पर मिलेगा नोटिस प्रधानाचार्य के खिलाफ कार्रवाई के आदेश

बिछीवाड़ा। प्रवेशोत्सव और रामसा की गतिविधियों को लेकर स्वामी विवेकानंद मॉडल स्कूल बिछीवाड़ा और झौथरी के प्रधानाचार्य की बैठक शुक्रवार को हुई। जिला शिक्षा अधिकारी अनोपसिंह सिसोदिया ने कहा कि प्रवेशोत्सव का लक्ष्य पूरा करने पर सम्मान किया जाएगा। साथ ही शिथिलता बरतने वाले पीईईओ के खिलाफ सख्ती से कार्रवाई की जाएगी। बैठक में भी कई पीईईओ बिना जानकारी के अवकाश पर है। प्रवेशोत्सव कार्यक्रम के तहत सभी के अवकाश निरस्त किए जाते है। छुट्टी पर जाने वाले जानकारी नोडल अधिकारी को देकर जाएं। ओडा बड़ा, शरम, कुंबेला, गंधवापाल, बालिका बिछीवाड़ा और भेहणा के पीईईओ अनुपस्थित है। शरम के पीईईओ डीईओ कार्यालय में उपस्थिति दे। रामसा के एडीपीसी हेमंत पंड्या ने बताया कि प्रत्येक स्कूल में कार्य की मांग से पूर्व नजरी नक्शा बनाएं। जिसका ग्राम पंचायत की ग्राम सभा में उसका अनुमोदन कर रामसा में भिजवाया जाएं। जिले भर में 177 करोड़ का प्लान बनाकर प्रस्ताव भेजा गया है। स्कूल विकास योजना 30 अप्रेल तक भेज दे। शाला दर्शन पोर्टल पर 119 स्कूलों मे पानी नहीं होने के बारे में बताया गया है। उसका सही इंद्राज करें। एडीईओ गटूलाल अहारी ने बताया कि हाइवे की सड़कों पर बने पूलों के नीचे लोग रहते है। ऐसे परिवारों से संपर्क कर बच्चों को जोड़े। फ्लेक्स बोर्ड लगाएं, रैली निकाले, आंगनबाड़ी कार्यकर्ता को जोड़े और नामांकन की शत प्रतिशत उपलब्धि हासिल करें। रामसा एईएन हरिकृष्ण, बीईईओ अमृतलाल कलाल, एबीओ लालशंकर यादव बिछीवाड़ा, मगनलाल झौंथरी ने मार्गदर्शन दिया।