स्कूल के प्रिसिंपल ने दो शिक्षकों के खिलाफ रिकॉर्ड में हेराफेरी आरोप लगाया

SHIVIRA Shiksha Vibhag Rajasthan
SHIVIRA Shiksha Vibhag Rajasthan

राजकीय उच्च माध्यमिक स्कूल बांसिया के प्रधानाचार्य (Principal) ने धंबोला थाने में अपने ही स्कूल के दो शिक्षकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने के लिए रिपोर्ट दी है। इसमें स्कूली रिकॉर्ड में हेराफेरी करने का आरोप लगाते हुए 9 बिंदुओं के आधार पर मुकदमा दर्ज करने की मांग की है। प्रधानाचार्य रमेशचंद्र पंचाल ने गत 28 मार्च को इस संबंध में रिपोर्ट थाने में दर्ज कराई है तो उसी दिन डीईओ को भी रिपोर्ट देकर पूरे फर्जीवाड़ा करने के घटनाक्रम की जानकारी दी है। दरअसल कुछ दिनों पहले ही बोर्ड परीक्षा के दौरान एक शिक्षक नरेश मीणा को परीक्षा कार्य से वंचित कर दिया था। साथ ही दूसरा शिक्षक भी नरेश मीणा का ही भाई बताया जाता है। दोनों ही शिक्षक सवाईमाधोपुर के रहने वाले हैं। इन्हीं में से शिक्षक नरेश मीणा के लिए बांसिया सरपंच ने प्रिंसिपल को टांगें तोड़ने की धमकी दी थी।

9 दिन की अनुपस्थिति को काट-छांट कर उपस्थिति को बदला

शिक्षक नरेश मीणा ने 1 सितंबर से 9 सितंबर 2017 में स्कूल उपस्थिति रजिस्टर में अनुपस्थित था। इसके पहले मीणा बिना किसी सूचना के गैरहाजिर थे, लेकिन स्कूल में आते ही रिकॉर्ड और उपस्थिति रजिस्टर में हेरफेर कर 9 दिन की उपस्थिति दर्ज कर दी। रिपोर्ट में प्रिंसिपल ने दावा किया है कि इसके पहले भी इसी तरह से उपस्थिति में अनुपस्थिति को बदला गया है। इसी तरह से सवाईमाधोपुर के एक शिक्षक कैलाशचंद्र के जाली हस्ताक्षर फर्जी उपस्थिति पत्रक तैयार किया। बाद में जाली निकला तो वेतन पर रोक लगा दी गई थी।

रिपोर्ट में दावा, धमकी देकर करते हैं आदेशों की अवहेलना

डीईओ और थाने में दी रिपोर्ट के अनुसार शिक्षक नरेश मीणा ओर उनका भाई मुकेश मीणा दोनों ही धमकी देकर किसी भी आदेश की अवहेलना करते हैं। जब कोई काम बताया जाता है या कहा जाता है तो उसे नहीं मानते हैं। दूसरी ओर नरेश मीणा के खिलाफ पहले भी गंगापुरसिटी में एक बाबू के साथ मारपीट की थी और इसका मुकदमा भी दर्ज है।

मेरी सेवानिवृत्ति में 15 माह बाकी हैं और मुझे जान से मारने की धमकी दी गई है। रिकॉर्ड में हेराफेरी की है। हमने सबूतों के आधार पर धंबोला थाने में मुकदमा दर्ज कराने के लिए रिपोर्ट दी है।

-रमेशचंद्र पंचाल, प्रिंसिपल राउमावि बांसिया

थाने में रिपोर्ट दी है

रिकॉर्ड के साथ छेड़खानी, अनुपस्थिति को उपस्थिति में बदलने का मामला था। प्रिंसिपल ने मुझे जानकारी दी है और बाद में ही धंबोला थाने में रिपोर्ट दी है।

-अनोपसिंह सिसोदिया, डीईओ माध्यमिक