शिक्षकों के प्रशिक्षण का पहला चरण निरस्त

training
training

ग्रीष्मावकाश में पहली से पांचवीं कक्षा तक पढ़ाने वाले शिक्षकों का आवासीय छह दिवसीय प्रशिक्षण बजट के अभाव में न‍िरस्त कर द‍िया गया

उदयपुर। गर्मी की छुट्टियों में कई शिक्षकों को प्रशिक्षण लेने से इसलिए रोका है क्योंकि प्रशिक्षण देने के लिए शिक्षा विभाग के पास बजट नहीं है। ऐसे में जिले के करीब ढाई हजार शिक्षकों को वेटिंग सूची में रखा गया है। ग्रीष्मावकाश में पहली से पांचवीं कक्षा तक पढ़ाने वाले शिक्षकों का आवासीय छह दिवसीय प्रशिक्षण बजट के अभाव में शिक्षा अधिकारियों व शिक्षकों के लिए परेशानी का सबब बन गया है।राजस्थान शिक्षक एवं पंचायतीराज कर्मचारी संघ के प्रदेश वरिष्ठ उपाध्यक्ष शेरसिंह चौहान ने बताया कि यह प्रशिक्षण पांच चरणों में होगा।

उदयपुर जिले के 7936 शिक्षकों के लिए प्रशिक्षण 14 मई से शुरू होना था, परन्तु बजट के अभाव में पहला चरण निरस्त कर दिया। अब नया चरण 21 मई से तय कर प्रशिक्षण लेने वाले शिक्षकों की संख्या 4430 तक सीमित कर दी है और 2646 शिक्षकों को बजट नहीं आने पर प्रशिक्षण की प्रतीक्षा में रखा है। इन आदेशों से शिक्षकों में भारी रोष है। वेटिंग सूची वाले शिक्षकों को गर्मी की छुट्टियों में घर छोडकऱ कहीं बाहर नहीं जाने की हिदायत दी गई है। चौहान ने बताया कि पहली से पांचवीं कक्षा तक पढ़ाने वाले वर्ष 2017-18 में लगे नए शिक्षक, आदर्श विद्यालय, उत्कृष्ट विद्यालय, प्राथमिक में 60 बालकों तथा उच्च प्राथमिक में 100 से ऊपर बालकों की संख्या वाले विद्यालयों के शिक्षकों को ही प्रशिक्षण दिया जाएगा। इससे कम नामांकन वाले विद्यालयों वाले शिक्षकों का प्रशिक्षण बजट के अभाव में नहीं दिया जाएगा। चौहान ने शिक्षकों के गैर आवासीय प्रशिक्षण की मांग की है।

शिक्षकों की संख्या कम की गई है, पहले जिन्होंने प्रशिक्षण लिया है, उन्हें इस बार शामिल नहीं किया गया है। वेटिंग में किसी को रखने की मुझे जानकारी नहीं है।

-गिरिजा वैष्णव, जिला शिक्षा अधिकारी प्रारंभिक, उदयपुर

पहले शिक्षक प्रशिक्षण के लिए सरकार ने करीब 7900 शिक्षकों का लक्ष्य दिया था, लेकिन अब इसे कम कर 4430 को प्रशिक्षण देने के लिए कहा गया है। अन्य शिक्षकों को रिजर्व में रखा है।

-मुरलीधर चौबीसा, एडीपीसी एसएसए उदयपुर