संस्था प्रधान मिले अनुपस्थित : धौलपुर

संस्था प्रधान मिले अनुपस्थित : धौलपुर | The Head of the Institution was absent
संस्था प्रधान मिले अनुपस्थित : धौलपुर | The Head of the Institution was absent

संस्था प्रधान मिले अनुपस्थित : धौलपुर
The Head of the Institution was absent

जिला शिक्षा अधिकारी सियाराम मीना के निर्देशन में शिक्षा में गुणात्मकता लाने तथा विभागीय योजनाओं संबंधित कार्यों में सुधार लाने तथा विद्यार्थियों को शिक्षा से जोड़े रखने के लिएु ऑनलाइन पढ़ाई के लिए स्माइल प्रोग्राम के ग्रुप बनाने आदि निर्देशों के चलते मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारी दामोदर लाल मीणा ने जिला शिक्षा अधिकारी के आदेशानुसार विद्यालयों का आकस्मिक निरीक्षण किया । निरीक्षण के दौरान अध्यापक राजेश शर्मा बिना पीईईओ की अनुमति व सूचना के विद्यालय से नदारद मिले। विद्यालय में निरीक्षण के दौरान रिकॉर्ड जांच करने पर विद्यालय स्टाफ ने बताया कि विद्यालय की कैशबुक एवं स्टॉक रजिस्टर विद्यालय में न होकर सभी प्रमुख दस्तावेज संस्था प्रधान शर्मा के घर पर है, जिससे विद्यालय के रिकॉर्ड की समुचित जांच नहीं की जा सकी।

मुख्य ब्लॉक शिक्षा अधिकारी ने बताया कि राज्य सरकार के आदेशानुसार स्माइल कार्यक्रम के अंतर्गत राजकीय प्राथमिक विद्यालय शेरपुर में किसी भी अध्यापक द्वारा स्माइल कार्यक्रम के अंतर्गत ऑनलाइन शिक्षण हेतु बच्चों को पढ़ाई से जोडऩे हेतु कोई भी प्रयास नहीं किया गया तथा बच्चों को वर्कबुकों का वितरण में लापरवाही की गई है। नामांकन वृद्धि का लक्ष्य हासिल न करना और राज्य सरकार के आदेशानुसार स्माइल कार्यक्रम से विद्यार्थियों को बंचित रखा गया है।

किसी भी शिक्षक को संस्था प्रधान द्वारा शिक्षा में सुधार तथा नामांकन वृद्धि हेतु कोई भी गाइडलाइन नहीं दी गई है, साथ ही शिक्षकों के माध्यम से स्माइल शिक्षण सामग्री विद्यार्थियों के गु्रप बनाकर नहीं भेजी गई है , जो विद्यार्थीयों के भविष्य के साथ खिलवाड़ है । साथ ही सरकार के शिक्षा में नवाचारों की प्रक्रिया तथा शिक्षा में गुणवत्ता लाने और बच्चों को शिक्षा से जोड़े रखने के अधिकारों से खिलवाड़ को जाहिर व कृत्य घोर लापरवाही को प्रदर्शित करता है । इस पर सीबीईओ ने स्टाफ को नामांकन वृद्धि के लक्ष्य को हासिल करने एवं स्माइल कार्यक्रम से बच्चों को लाभान्वित करने की हिदायत देते हुये सुधार की बात कही । सक्षम अधिकारी की बिना अवकाश स्वीकृति के मुख्यालय छोडऩा व अनुपस्थित रहना घोर लापरवाही को दर्शाता है।

जिला शिक्षा अधिकारी के आदेशानुसार कोरोना वायरस के बचाव के लिए लॉकडाउन के आदेशों में स्पष्ट किया है कि कोई भी सरकारी कर्मचारी बिना विधिवत अवकाश लिखित में स्वीकृति के मुख्यालय नहीं छोडेंगे। उन्हें कार्यालय अध्यक्ष कभी भी सरकारी कार्य, कर्तव्य के लिए बुलाने पर उन्हें तत्काल कार्यालय में रिपोर्ट करनी होगी। इसके बावजूद अध्यापक राजेश शर्मा ने बिना पीईईओ को सूचित किए प्रस्थान कर गए, उन्हें स्वयं यह मानकर कि उन्हें यह अधिकार है कि स्वेच्छा से बिना अनुमति या अवकाश स्वीकृत कराए घर जा सकते है, इस कृत्य के कारण विद्यालय जांच कार्य प्रभावित हुआ है। जिम्मेदारी को लापरवाही से लेने, बिना अवकाश स्वीकृत के घर जाना सर्वथा राजस्थान सेवा नियम 1971 के अंतर्गत यह कृत्य नियम 86 के साथ साथ उक्त महामारी के समय कर्तव्य से जानबूझकर अनुपस्थित होना विभागीय कार्यवाही में आता है।

राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय विपरपुर तथा राजकीय उच्च प्राथमिक विद्यालय कृपा का पुरा का निरीक्षण किया जिसमें समस्त विभागीय योजनाओं का क्रियान्वयन तथा रिकॉर्ड सही पाया गया । इस अवसर पर निरीक्षण दल के सदस्य आरपी रन वीर मीणा, सहायक प्रशासनिक अधिकारी राजेन्द्र शुक्ला,वरिष्ठ सहायक बलवीर त्यागी, पीईईओ विपरपुर रमेश चंद, सहित अन्य शिक्षकगण व स्थानीय आमजन मौजूद रहे ।