इस बार बहुत खास होगा जेईई मेन्स का रिजल्ट

JEE Advanced 2018

कई स्टूडेंट्स को लगेगा झटका

विद्यार्थियों काी ऑल इंडिया रैंकिंग 31 मई तक घोषित की जाएगी।

सीबीएसई की जेईई मेन्स-2018 की ऑफलाइन और ऑनलाइन परीक्षा खत्म हो गई हैं। अब विद्यार्थियों की निगाहें परिणाम पर टिकी हैं। जेईई मेन्स की ऑफलाइन परीक्षा 8 अप्रेल को हो चुकी है। ऑनलाइन परीक्षा रविवार और सोमवार को आयोजित की गई। इसमें भी देश में हजारों विद्यार्थी शामिल हुए। परिणाम संभवत: 30 अप्रेल को जारी होगा। इससे पहले 24 से 27 अप्रेल तक वेबसाइट पर उत्तर कुंजी अपलोड होगी। विद्यार्थियों काी ऑल इंडिया रैंकिंग 31 मई तक घोषित की जाएगी। जेईई मेन्स परीक्षा-2018 में उत्तीर्ण होने वाले 2.24 लाख अभ्यर्थी आईआईटी में प्रवेश के लिए जेईई एडवांस परीक्षा देंगे। बाकी विद्यार्थियों को राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान (एनआईटी) अैार अन्य इंजीनियरिंग कॉलेज में दाखिले मिलेंगे।

नहीं जुड़ेंगे बारहवीं के अंक

मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने जेईई मेन्स परीक्षा की रैंकिंग के साथ बारहवीं के अंक नहीं जोडऩे का फैसला किया है। लिहाजा बोर्ड ऐसे विद्यार्थियों की बारहवीं की अंकतालिका के रोल नंबर वेरीफाई नहीं करेगा। विद्यार्थियों को एनआईटी, आईआईटी अथवा अन्य संस्थानों में काउंसलिंग के दौरान बारहवीं की अंकतालिका प्रस्तुत करनी होगी। इसमें 75 प्रतिशत अंक संबंधित नियम पूरा करना होगा।

कई राज्यों ने अपनाई परीक्षा

मध्यप्रदेश, हरियाणा, उत्तराखंड, नागालैंड, ओडिशा आर अन्य राज्यों ने इंजीनियरिंग कॉलेज में प्रवेश के लिए जेईई मेन्स को अपनाया है। राजस्थान भी 2016 में जेईई मेन्स को अपना चुका है। इन सभी राज्यों के सरकारी एवं निजी इंजीनियरिंग कॉलेज में जेईई मेन्स में उत्तीर्ण अभ्यर्थियों को संशोधित नियमों और वरीयतानुसार प्रवेश दिए जाएंगे।

पहले होती थी एआईईईई

जेईई मेन्स से पहले देश में एआईईईई परीक्षा होती थी। इस परीक्षा के माध्यम से आईआईटी और एनआईटी में प्रवेश होते थे। जबकि राज्य अपने-अपने स्तर प्री. इंजीनियरिंग टेस्ट कराते थे। आईआईटी में दाखिलों में गुणवत्ता लाने के लिहाज से तत्कालीन यूपीए सरकार ने परीक्षा को भागों में विभक्त कर दिया। इससे तहत जेईई मेन्स परीक्षा के जरिए करीब 2.24 लाख विद्यार्थियों का चयन जेईई एडवांस परीक्षा के लिए होता है। यह विद्यार्थी जेईई एडवां परीक्षा उत्तीर्ण कर आईआईटी में प्रवेश के पात्र होते हैं। शेष विद्यार्थियों को एनआईटी में दाखिले मिलते हैं।