चाइल्ड सेक्सुअल अब्यूज प्रिवेंशन पुज प्रिवेंशन पर प्रशिक्षण

shivira shiksha vibhag rajasthan shiksha.rajasthan.gov.in

उदयपुर मेें बना ये अनूठा रिकॉर्ड, 2387 बच्चों ने एक साथ चाइल्ड अब्यूज के ख‍िलाफ आवाज उठाने का ल‍िया संकल्प

उदयपुर। लेकसिटी के बड़ी संख्या में बच्चों ने शुक्रवार को जब मासूम के यौन उत्पीडऩ और ज्यादती के खिलाफ लडऩे, डटकर खड़े रहने और हर स्तर पर आवाज उठाने का संकल्प लिया तो एक रिकॉर्ड कायम कर दिया। एमआर भारतीय एजुकेशन की ओर से आयोजित ‘चाइल्ड सेक्सुअल अब्यूज प्रिवेंशन’ विषयक प्रशिक्षण में शहर के 2387 बच्चों ने वॉलिंटियर बनकर इस बुराई से लडऩे का जैसे ही संकल्प लिया, यह प्रशिक्षण इंडिया बुक ऑफ रिकॉड्र्स में दर्ज हो गया। संस्था के निदेशक मनोज राजपुरोहित के निर्देशन में इस अनूठी उपलब्धि पर इंडिया बुक ऑफ रिकॉड्र्स के एडिटर इन चीफ बिश्वरूप रॉय चौधरी एवं विनोद शर्मा ने सर्टिफिकिट और मोमेंटो सौंपा।

इंडिया बुक टीम की रही नजर

सभी स्कूलों में इंडिया बुक ऑफ रिकॉड्र्स की टीम ने बारीकी से रिकॉर्ड बनाने की प्रक्रिया का मूल्यांकन किया। सभी स्कूलों से इसके वीडियो और फोटोग्राफ्स के प्रमाण भी लिए गए। बच्चों को पहले से तय मानकों के आधार पर निर्धारित समय में सूक्ष्म प्रशिक्षण दिया गया व इसके आधार पर इस रिकॉर्ड को इंडिया बुक ऑफ रिकॉड्र्स में शामिल किया गया।

बच्चों में जागरूकता

अभियान से जुड़े कई बच्चे अभिभावकों के साथ स्कूल पहुंचे। बच्चों को विशेष रूप से प्रशिक्षित वॉलिंटियर्स, साइकॉलोजिस्ट की टीम ने पंद्रह मिनट तक विशेष गाइडेंस दी। सभी को हेल्पलाइन नंबर बताकर आसपास हो रही गतिविधियों के प्रति सतर्क रहने की जानकारी दी गईं। कई अभिभावकों का मानना था कि सभी सरकारी व निजी स्कूलों में भी इसका कोई रेगूलर मॉड्यूल बनाया जाना चाहिए।

ये सब बने भागीदार

अभियान में 250 टीचर्स व 20 मैनेजमेंट ऑफिशियल्स सहित स्टेनवर्ड सीनियर सैकण्डरी स्कूल की सभी ब्रांच, ज्योति शिशिु निकेतन स्कूल, हैप्पी होम स्कूल, लर्न एंड ग्रो प्री स्कूल, एसकेबी स्कूल व मानस एकेडमी ने भागीदारी निभाई। सभी वॉलिंटियर्स को सत्यप्रकाश मूंदड़ा व डॉ. स्वाति गोखरू ने बच्चों के मनोविज्ञान संबंधित विशेष प्रशिक्षण देकर पूर्वाभ्यास कराया।